loader

महाराष्ट्रः संजय राउत बोले- ज्यादा से ज्यादा क्या होगा, सत्ता चली जाएगी

शिवसेना नेताओं के बयान बदलने लगे हैं। पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने बुधवार को कहा कि ज्यादा से ज्यादा सत्ता जाएगी, लेकिन पार्टी की प्रतिष्ठा जरूरी है।
हालांकि शिवसेना नेता संजय राउत ने पार्टी के भीतर चल रहे संकट की वजह से पीछे हटने की बात मानने से इनकार कर दिया। मुंबई में बुधवार को पत्रकारों से बात करते हुए राउत ने विश्वास जताया कि असंतुष्ट एकनाथ शिंदे और अन्य बागी विधायक वापस आएंगे, लेकिन उन्होंने स्वीकार किया कि पार्टी एक बड़ी मुसीबत में है।

एकनाथ शिंदे को दोस्त और पार्टी का पुराना सदस्य बताते हुए राउत ने कहा, हमने दशकों तक साथ काम किया है। न तो उनके लिए और न ही हमारे लिए एक-दूसरे को छोड़ना आसान है। मैंने आज सुबह उनसे एक घंटे तक बातचीत की और पार्टी प्रमुख को इस बारे में सूचित कर दिया था।

ताजा ख़बरें
राउत ने कहा, एकनाथ शिंदे के साथ रहने वाले विधायकों के साथ बातचीत चल रही है, हर कोई शिवसेना में रहेगा। हमारी पार्टी एक लड़ाकू पार्टी है, हम लगातार संघर्ष करेंगे।हम सत्ता खो सकते हैं लेकिन हम लड़ना जारी रखेंगे।
शिंदे की मांग के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, एकनाथ शिंदे की ओर से कोई मांग नहीं की गई है, उन्होंने कोई शर्त नहीं रखी है। पार्टी में संकट पर उन्होंने कहा, ज्यादा से ज्यादा क्या होगा? सत्ता जाएगी और सत्ता फिर आएगी, लेकिन प्रतिष्ठा मायने रखती है।

महाराष्ट्र से और खबरें

एनसीपी और कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर उद्धव ठाकरे के साथ असहमति के बाद शिवसेना के वरिष्ठ नेता एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट खड़ा कर दिया। शिंदे के दावे के मुताबिक उन्हें करीब 40 विधायकों का समर्थन हासिल है। शिंदे अब सूरत से असम पहुंच गए हैं। उन्हें बीजेपी का पूरी तरह संरक्षण मिला हुआ है। हर जगह पुलिस उन लोगों की सुरक्षा में तैनात है। महंगे होटलों में ठहराया जा रहा है। चार्टर्ड प्लेन हर समय तैयार रहता है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें