loader

सरोज ख़ान के निधन पर अमिताभ ने लिखा- प्रेयर्स, हाथ जुड़े हैं और मन अशांत...

डांस की मल्लिका सरोज ख़ान का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। फ़िल्म इंडस्ट्री को सरोज ख़ान के निधन से फिर एक बार झटका लगा है और सभी लोगों ने दुख जताया है। सरोज ख़ान ने बतौर कोरियोग्राफ़र इंडस्ट्री में 5 दशक काम किया और लगभग हर एक्ट्रेस ने सरोज ख़ान के गानों पर डांस किया है। अपने करियर में सरोज ख़ान ने 2000 से ज़्यादा गानों को कोरियोग्राफ़ किया और उन्हें 3 बार नेशनल अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया। मशहूर कोरियोग्राफ़र के अचानक निधन से सभी को काफ़ी दुख पहुँचा है। सरोज ख़ान के निधन पर महानायक अमिताभ बच्चन ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘प्रेयर्स, हाथ जुड़े हैं और मन अशांत।’

ताज़ा ख़बरें

अनुपम खेर ने लिखा, ‘डांस की मल्लिका सरोज ख़ान जी अलविदा। आपने कलाकारों को ही नहीं बल्कि पूरे हिन्दुस्तान को बहुत ख़ूबसूरती से सिखाया कि इन्सान शरीर से नहीं, दिल और आत्मा से नाचता है। आपके जाने से नृत्य की एक लय डगमगा जाएगी। मैं पर्सनली न सिर्फ़ आपको बल्कि आपकी मीठी डाँट को भी बहुत मिस करूँगा।’

धर्मेंद्र ने लिखा, ‘तेरे आने से रौनक आ जाती थी सरोज अफसोस तुम भी चली गई, सुकून नसीब हो रुह को तेरी।’ आगे उन्होंने लिखा, दोस्तों, सरोज जी मेरी पहली फ़िल्म दिल भी तेरा की असिस्टेंट डांस डायरेक्टर थीं।’

श्रद्धांजलि से और ख़बरें

अक्षय कुमार ने लिखा, ‘मुझे दुखद समाचार मिला कि लेजेंड्री कोरियोग्राफ़र सरोज ख़ान हमारे बीच नहीं रही हैं। उन्होंने डांस को इतना आसान बना दिया था कि मानो हर कोई डांस कर सकता है। इंडस्ट्री के लिए यह बड़ा नुक़सान है। उनकी आत्मा को शांति मिले।’

डायरेक्टर विवेक रंजन अग्निहोत्रि ने लिखा, ‘सुबह उठते ही मुझे यह सबसे बुरी ख़बर मिली है। सरोज ख़ान मास्टर ऑफ़ आर्ट थीं। उनका मुझे हमेशा प्यार मिला। मैंने उनके साथ फ़िल्म गोल में बिल्लो रानी गाने पर काम किया था। उनकी आत्मा को शांति मिले।’

बता दें कि सरोज ख़ान 71 साल की थीं और उन्हें साँस लेने में दिक्कत होने के कारण 20 जून को बांद्रा के गुरु नानक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। गुरुवार को सरोज ख़ान की तबीयत बिगड़ गई थी और शुक्रवार रात 1.52 मिनट पर उन्होंने अंतिम साँस ली। एहतियात बरतते हुए सरोज का कोरोना टेस्ट कराया गया था, इसकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

श्रद्धांजलि से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें