loader

आख़िर, सुशांत सिंह राजपूत ने क्यों की आत्महत्या?

फ़िल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने आत्महत्या क्यों की? उनके प्रशंसकों से लेकर हर कोई इस सवाल का जवाब तलाश रहा है। सुशांत एक सफल अभिनेता थे और समाज में किसी तरह के अलगाव के भी शिकार नहीं थे। फिर आत्महत्या के पीछे क्या कारण रहे होंगे? 34 साल की उम्र में सुशांत ने टीवी और फ़िल्म की दुनिया में जो मुकाम हासिल किया, वो कभी बिसराया नहीं जाएगा। 
रवीन्द्र त्रिपाठी

फ़िल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या (अपने घर में ही फांसी लगाकर) की खबर आते ही जिसने पिछले साल आई उनकी फ़िल्म ‘छिछोरे’ देखी होगी उसे इसका वो दृश्य याद आया होगा - पिता अनिरुद्ध (सुशांत सिंह राजपूत) अपने बच्चे की आत्महत्या की कोशिश के बाद अंदर से हिल जाता है। बच्चे ने इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा में असफल होने के बाद आत्महत्या का प्रयास किया था। अनिरुद्ध को समझ में नहीं आता कि उसके बेटे ने ऐसा क्यों किया? वो तो हमेशा बेटे का मनोबल बढ़ाता रहता था। जीवन में पॉजिटिव बने रहने का मशविरा देता रहता था। 

सुशांत ने ‘छिछोरे’ फ़िल्म में जिस किरदार को निभाया है वो आशावादी है और जिंदगी के बड़े से बड़े हादसे को सकारात्मकता के साथ हल करने की बात करता है। 

ताज़ा ख़बरें

और सिर्फ ‘छिछोरे’ ही नहीं, ‘केदारनाथ’ फ़िल्म में भी वे ऐसे मुसलिम नौजवान मंसूर खान की भूमिका में थे, जो हिंदू तीर्थ केदारनाथ में पीठू है। यानी बुजुर्गों को पीठ पर लादकर मंदिर के दर्शन कराने वाला। इसमें भी मंसूर (सुशांत सिंह) बाढ़ में फंसी अपनी प्रेमिका और उसके परिवार वालों के प्राण अपनी जान की कीमत पर बचाता है। 

जिस अभिनेता ने ऐसे-ऐसे किरदार फ़िल्म के पर्दे पर निभाएं हों, उसने किस लम्हे में सकारात्मक जीवन दर्शन को तिलांजलि दे दी? क्या जिन भूमिकाओं को कलाकार पर्दे पर निभाता है उसका फलसफा अपनी जिंदगी में अपनाता है?

ऊपर लिखे कुछ ऐसे ही सवाल सुशांत सिंह राजपूत के प्रशंसकों के दिमाग में उठ रहे होंगे। 

क्या इस आत्महत्या की कोशिश के सही कारण ढूंढे या बताए जा सकते हैं? शायद नहीं क्योंकि अभी तक कोई स्पष्ट आधिकारिक कारण सामने नहीं आया है। बस सिर्फ अनुमान लगाए जाएंगे। समाज शास्त्री इमील दुर्खाइम ने आत्महत्या के कारणों की खोज की थी और अपनी तरफ से कुछ निष्कर्ष भी निकाले थे। वे निष्कर्ष भी राजपूत की आत्महत्या पर लागू नहीं होते। 

आख़िर, सुशांत एक सफल अभिनेता थे और समाज में किसी तरह के अलगाव के शिकार नहीं थे। कम से कम सार्वजनिक तौर पर उनके बारे में जो जानकारी है उसके आधार पर इतना कहा ही जा सकता है। फिर आत्महत्या के पीछे क्या मनोवैज्ञानिक वजहें थीं?

पूर्व मैनेजर ने भी की थी आत्महत्या 

सुशांत की पूर्व मैनेजर (कई और कलाकारों की भी मैनेजर) दिशा सालियान ने भी पिछले हफ्ते मुंबई में एक बहुमंजिली इमारत से छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली थी, ऐसा मुंबई पुलिस का कहना था। हालांकि दोनों में कोई प्रत्यक्षत: साम्य नहीं है लेकिन ये तो लगता है कि मुंबई की फ़िल्मी दुनिया में कोरोना के कारण मानसिक उथल-पुथल है। वहां जो संघर्षशील कलाकार हैं, वे गहरे अवसाद में हैं! लेकिन सुशांत तो सफल सेलिब्रेटी थे। कोई बड़ी समस्या नहीं थी। फिर क्या वजह रही?

बहरहाल, एक संभावनाशील जीवन समाप्त हो गया। 34 साल की उम्र में सुशांत ने टीवी और फ़िल्म की दुनिया में जो मुकाम हासिल किया, वो कभी बिसराया नहीं जाएगा। 

बहुत कम फ़िल्मी कलाकार हैं जो टीवी सीरियलों में काम करने के बाद फ़िल्मी दुनिया में भी बड़ी हस्ती बन जाएं। शाहरूख खान इसके पहले अपवाद रहे। सुशांत दूसरे थे।

धोनी पर बनी फ़िल्म से मिली बुलंदी

‘पवित्र रिश्ता’, ‘किस देश में है मेरा दिल’ जैसे कई लोकप्रिय धारावाहिकों में वे बड़ी भूमिकाओं में थे। फिर ‘काई पो चे’, ‘शुद्ध देसी रोमांस’, ‘डिटेक्टिव व्योमकेश बक्शी’, ‘राबता’, ‘सोन चिड़िया’ ‘केदारनाथ’ और ‘छिछोरे’ जैसी फ़िल्में की। पर जिस फ़िल्म ने उनको बुलंदी पर पहुंचाया, वो थी क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी के जीवन पर बनी ‘एम.एस. धोनी – द अनटोल्ड स्टोरी’। इसमें सुशांत केंद्रीय भूमिका में थे और फ़िल्म जबरदस्त तरीके से सफल रही। ये भी एक सकारात्मक सोच वाली फ़िल्म थी।

एक साधारण पृष्ठभूमि से मुंबई की फ़िल्मी दुनिया में आया व्यक्ति इतनी बड़ी कामयाबी हासिल कर ले, ये एक बहुत बड़ी बात है। ये फ़िल्म शायद इसलिए भी सफल रही है क्योंकि खुद धोनी एक साधारण परिवार से आए हैं और उनके किरदार को निभाने वाला भी उनकी तरह की पृष्ठभूमि वाला था। 

पहले से स्थापित कोई बड़ा कलाकार अगर धोनी की भूमिका निभाता तो शायद दर्शकों को ये स्वीकार्य नहीं होता। सुशांत में वो बात थी जो उनको धोनी के किरदार के लिए सहज रूप से स्वीकार्य बनाती थी। लेकिन सिर्फ यही एकमात्र कारण नहीं था। 

सुशांत के भीतर अभिनय की वो प्रतिभा भी थी जिसने उनको धोनी के रोल के उपयुक्त बनाया। फ़िल्म में सुशांत धोनी जैसे ही लगे थे। क्रिकेट के मैदान वाले धोनी। रांची का बंदा धोनी जो पहले लंबे-लंबे बाल रखता था।

श्रद्धांजलि से और खबरें

जिंदगी में अप्रत्याशित तत्व होते हैं। कभी भी कुछ भी हो सकता है। सुशांत की आत्महत्या के बाद ये फिर से साबित हुआ। शायद वे किसी आने वाली फ़िल्म के लिए एक कथानक या प्लॉट छोड़ गए हैं। इस संभावित फ़िल्म की कहानी का बड़ा हिस्सा तो पहले ही लिख दिया गया है लेकिन उसका उपसंहार क्या होगा, ये भविष्य ही बताएगा। 

फिलहाल तो कई तरह के संकटों से जूझ रहा मुंबइया फ़िल्म उद्योग एक कुरोसावाई सवाल के आगे निरुत्तर खड़ा है- सुशांत सिंह राजपूत ने फांसी क्यों लगाई? ये जापान के महान फ़िल्मकार अकीरो कुरोसावा की फ़िल्म का विषय भी होता, अगर वे यानी कुरोसावा जीवित होते।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
रवीन्द्र त्रिपाठी
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

श्रद्धांजलि से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें