loader

मास्क पहनने को कमज़ोरी मानने वाला अपना मुँह बंकर में छुपाने को मजबूर क्यों हुआ?

अमेरिका जल रहा है और हुकूमतों की चिंता केवल इतनी भर है कि मौजूदा विरोध कितने दिनों तक चलता है। ट्रम्प ने विरोध से निपटने के लिए सेना के प्रयोग और ख़ूँख़ार कुत्तों के इस्तेमाल तक की अगर चेतावनी दी है तो मानकर चला जाना चाहिए कि अपने देश की बहुसंख्यक सवर्ण (गोरी) आबादी का समर्थन उन्हें प्राप्त है जो चुनावों तक जारी रहेगा।
श्रवण गर्ग

अमेरिका में इस वक़्त ख़ंदकों की लड़ाई सड़कों पर लड़ी जा रही है। दुनिया भर की नज़रें भी अमेरिका पर ही टिकी हुई हैं। कोरोना के कारण सबसे ज़्यादा मौतें अमेरिकी अस्पतालों में हुई हैं पर देश के एक शहर में पुलिस के हाथों हुई एक अश्वेत नागरिक की मौत ने सभी पश्चिमी राष्ट्रों की सत्ताओं के होश उड़ा रखे हैं। जिस गोरे पुलिस अफ़सर ने अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ़्लॉयड की गर्दन को उसका दम घुटने तक अपने घुटने के नीचे आठ मिनट से ज़्यादा समय तक दबाकर रखा होगा उसे तब अन्दाज़ नहीं रहा होगा कि वह पाँच दशकों के बाद अपने देश में किस नए इतिहास की नींव डाल रहा है। दुनिया की जो सर्वोच्च ताक़त मुँह पर मास्क पहनने को कमज़ोरी का प्रतीक मानती हो उसे अपना मुँह छुपाने के लिए घर के बंकर में कोई एक घंटे से ज़्यादा का समय बिताना पड़ा।

ताज़ा ख़बरें

इतिहास में कुछ क्षण ऐसे आते हैं जब पूर्व में लिखे गए सारे शब्द ध्वस्त हो जाते हैं। जो क्षण अमेरिकी आकाश को इस समय सड़कों से उड़ते हुए धुएँ से काला और अशांत कर रहा है वह तब भी इतनी तीक्ष्णता से हाज़िर नहीं हुआ था जब कोई पचास साल पहले अश्वेतों के नागरिक अधिकारों के लिए लड़ने वाले नेता मार्टिन लूथर किंग की हत्या कर दी गई थी। किंग राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की अहिंसक क्रांति के एक सच्चे अनुयायी थे। गाँधीजी की तीस जनवरी 1948 को हत्या किए जाने के बाद देश में हिंसा नहीं हुई थी पर वर्ष 1984 में तब प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी की हत्या के बाद क्या कुछ हुआ था वह उन लोगों की स्मृतियों में अभी भी जीवित है जिन्होंने उस क्षण को जीया और देखा है।

दुनिया बदल रही है पर दुनिया के शासक नहीं बदलना चाहते हैं। दुनिया अपने पंखों का विस्तार किए हुए घने बादलों के बीच उड़ रही है और शासक अंधेरी ख़ंदकों में अपनी सत्ताओं के खुले आकाश तलाश रहे हैं। कोरोना के कारण अमेरिका में अब तक एक लाख से अधिक लोग अपनी जानें गँवा चुके हैं और इनमें एक बड़ी संख्या अश्वेत नागरिकों और ‘केयर होम्स’ में रहने वाले बुजुर्गों की है। ये अश्वेत नागरिक कोई दो सौ से अधिक सालों से जिस दासता के ख़िलाफ़ और सामान अधिकारों के लिए संघर्ष कर रहे हैं वही ग़ुस्सा इस समय सड़कों पर फूटा पड़ रहा है। जॉर्ज फ़्लॉयड तो केवल एक नाम है। 

दुनिया भर की जासूसी में लगा देश इस बात का भी पहले से पता नहीं लगा सका कि नागरिक विरोध की आग का धुआँ ठीक व्हाइट हाउस के सामने से भी उठ सकता है और कि तब राष्ट्रपति की सीक्रेट सर्विस के लोग इतने घबरा जाएँगे कि श्वेत भवन की भव्य इमारत की बत्तियाँ ही कुछ क्षणों के लिए गुल करनी पड़ जाएगी।

अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ़्लॉयड की गर्दन को जब गोरे पुलिस अफ़सर डेरिक चेविन ने अपने घुटने के नीचे दबा रखा था तब वह गिड़गिड़ा रहा था कि ‘मैं साँस नहीं ले पा रहा हूँ’ (I can’t breathe), आज समूचे अमेरिका का दम घुट रहा है और कई स्थानों पर संवेदनशील पुलिसकर्मी आक्रोशित अश्वेत-श्वेत नागरिकों से अपने ही कुछ साथियों के कृत्य के लिए क्षमा माँग रहे हैं। अदभुत दृश्य हैं कि जॉर्ज फ़्लॉयड हादसे से उतने ही दुखी गोरे नागरिक अपने अश्वेत पड़ोसियों के सामने एक घुटने के बल बैठकर अपनी समूची जमात की ओर से सदियों से चले आ रहे नस्लवाद के लिए माफ़ी की माँग कर रहे हैं और जो लोग सामने खड़े हैं उनकी आँखों से आँसू बह रहे हैं।

विचार से ख़ास

वाशिंगटन और न्यूयॉर्क सहित अमेरिका के अन्य चकाचौंध वाले राज्यों में इस समय जो कुछ भी चल रहा है उसने दुनिया के सबसे सम्पन्न राष्ट्र की विपन्नता को उजागर कर दिया है। जैसा कि ऊपर कहा गया है, विश्व भर की नज़रें इस समय अमेरिका की ओर हैं कि राष्ट्रपति पद के चुनावों (नवम्बर) के ठीक पहले आए इस अभूतपूर्व संकट से ट्रम्प कैसे बाहर आते हैं। इन देशों में वे हुकूमतें भी शामिल हैं जो आहिस्ता-आहिस्ता ‘एकतंत्रीय’ शासन व्यवस्था की ओर बढ़ रही हैं और जिन्हें पूरा यक़ीन है कि विजय अंततः उसी की होती है जो सत्ता में होता है। जो पिछले दो सौ सालों में सफल नहीं हुए वे इस बार कैसे हो सकते हैं? 

इन हुकूमतों की चिंता केवल इतनी भर है कि मौजूदा विरोध कितने दिनों तक चलता है। ट्रम्प ने विरोध से निपटने के लिए सेना के प्रयोग और ख़ूँख़ार कुत्तों के इस्तेमाल तक की अगर चेतावनी दी है तो मानकर चला जाना चाहिए कि अपने देश की बहुसंख्यक सवर्ण (गोरी) आबादी का समर्थन उन्हें प्राप्त है जो चुनावों तक जारी रहेगा। अगर इसमें सच्चाई है तो भी कोई आश्चर्य भी नहीं होना चाहिए क्योंकि सबको समान अधिकारों की गारंटी देने वाला संविधान तो हमारे यहाँ की तरह ही अमेरिका में भी है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
श्रवण गर्ग
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें