loader

कोरोना के संकट में भारत की छवि दुनिया में ऊँची कैसे उठी?

भारत कोरोना के ख़िलाफ़ एकजुटता से लड़ाई लड़ रहा है। तालाबंदी में जनता साथ दे रही है। कई देशों को मलेरिया के इलाज वाली दवाएँ दी हैं। दक्षेश देशों के साथ सहयोग का हाथ बढ़ाया है। भारत की इतनी बड़ी आबादी के बावजूद अभी तक संक्रमण दूसरे देशों की अपेक्षा काफ़ी कम फैला है। 
डॉ. वेद प्रताप वैदिक

कई लोगों ने मुझसे पूछा है कि कोरोना-संकट का भारत की विदेश नीति पर क्या असर पड़ा है, आप बताइए। असलियत तो यह है कि कोरोना का युद्ध इतना गंभीर है कि यह पूरा पिछला एक महीना हम सब लोग अंदरुनी सवालों से ही जूझते रहे। फिर भी यह तो मानना पड़ेगा कि इस कोरोना-संकट के दौरान भारत की विश्व-छवि बेहतर ही हुई है।

पहली बात तो यह हुई कि इस संकट के दौरान सारा भारत एक होकर लड़ रहा है। भारत के पक्ष और विपक्ष का रवैया वैसा नहीं है, जैसा अमेरिका, ब्रिटेन, पाकिस्तान और ब्राजील जैसे देशों में देखने में आ रहा है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सभी दलों के मुख्यमंत्री पूरी तरह साथ दे रहे हैं। 

ताज़ा ख़बरें

दूसरा, भारत की जनता तालाबंदी का पालन जिस निष्ठा के साथ कर रही है, वह दूसरे देशों के लिए एक मिसाल बन गई है। विश्व स्वास्थ्य-संगठन ने स्पष्ट शब्दों में भारत की तारीफ़ की है। 

तीसरा, भारत ने कोरोना के जाँच-यंत्र और करोड़ों मुखपट्टियाँ तैयार कर ली हैं। भारत से कुनैन की करोड़ों गोलियाँ अमेरिका समेत 55 देशों ने आग्रहपूर्वक मँगवाई हैं। एक अर्थ में भारत को पहली बार विश्व-त्राता का विहंगम रूप मिला है। 

चौथा, भारत सरकार ने हज़ारों प्रवासियों को विदेशों से भारत लौटाने में जो मुस्तैदी दिखाई है, उसकी भी सराहना हो रही है। 

पाँचवाँ, दुनिया को आश्चर्य है कि 140 करोड़ लोगों के इस विकासमान राष्ट्र में कोरोना का प्रकोप इतना कम क्यों हो रहा है? सारी दुनिया में यह चर्चा का विषय है। 

छठा, भारतीय भोजन में पड़नेवाले मसाले घरेलू औषधियों का काम कर रहे हैं। विदेशों में बसे प्रवासी भारतीय भी इसीलिए कोरोना के शिकार कम हो रहे हैं। आयुर्वेद का डंका सारे विश्व में बज रहा है। 

सातवाँ, भारत ने दक्षेस राष्ट्रों को कोरोना के ख़िलाफ़ सावधान करने की पहल की और दक्षेस-कोष में बड़ी राशि दान की। प्रधानमंत्री दक्षेस-राष्ट्रों के नेताओं से निरंतर संपर्क में हैं। पड़ोसी देशों पर इसका अच्छा प्रभाव पड़ रहा है। 

विचार से ख़ास
आठवाँ, जमाते-तब्लीग़ी के कारण कोरोना को जबरन हिंदू-मुसलिम रूप दिया जा रहा है लेकिन सरकार ने उसे ज़रा भी प्रोत्साहित नहीं किया है। तब्लीग़ के सरगना मौलाना साद को अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है। लेकिन साधारण मुसलमान मज़दूरों, दुकानदारों और साग-सब्जीवालों के साथ जो दूरियाँ बनाई जा रही हैं, उसकी आलोचना पाकिस्तान और अंतरराष्ट्रीय इस्लामी संगठन कर रहे हैं लेकिन वे यह क्यों नहीं देख रहे हैं कि मुसलमानों को इतना गुमराह कर दिया गया है कि वे उनका इलाज करनेवाले डाॅक्टरों और नर्सों को मार रहे हैं। 

नौवाँ, दुनिया का कोई भी देश कोरोना को लेकर भारत पर वैसे आरोप नहीं लगा रहा है, जैसे चीन और अमेरिका पर लग रहे हैं।

दसवाँ, भारत सरकार ने चीन जैसे देशों के विनियोग पर कई प्रतिबंध लगा दिए हैं ताकि वे भारतीय कंपनियों पर कब्जा न कर सके।

ग्यारहवाँ, विश्व-व्यापार में चीन को जो धक्का लगनेवाला है, उसका फ़ायदा भारत को ज़रूर मिलेगा। कुल मिलाकर कोरोना के संकट के दौरान विश्व में भारत की छवि ऊँची उठी है।

(डॉ. वेद प्रताप वैदिक के ब्लॉग www.drvaidik.in से साभार)

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
डॉ. वेद प्रताप वैदिक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें