loader

महाराष्ट्र: किसके इशारे पर राज्यपाल-चुनाव आयोग चुनाव कराने को तैयार हुए?

महाराष्ट्र में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के रवैये से जो राजनीतिक संकट खड़ा होता दिख रहा था, वह अब टल गया है। अब वहाँ मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को विधान मंडल का सदस्य बनने के लिए मनोनयन के ज़रिए विधान परिषद में जाने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी। चुनाव आयोग ने अब वहाँ राज्य विधान परिषद की नौ रिक्त सीटों के लिए द्विवार्षिक चुनाव 21 मई को कराने का एलान कर दिया है। इन चुनावों के ज़रिए मुख्यमंत्री ठाकरे का विधान परिषद का सदस्य बनने का रास्ता साफ़ हो गया है। अब वह इस उच्च सदन के लिए निर्वाचित होकर छह महीने की निर्धारित समय सीमा में विधान मंडल का सदस्य बनने की संवैधानिक शर्त पूरी कर सकेंगे।

इस ताज़ा राजनीतिक घटनाक्रम से एक बार फिर साबित हुआ कि हमारे राज्यपालों की नश्वर काया भले ही राजभवनों में विराजती हो मगर उनका विवेक दिल्ली में रहता है जिसे उन्हें राज्यपाल के ओहदे पर नियुक्त होते ही दिल्ली में अपनी नियुक्ति का फ़ैसला करने वाले के पास जमा कराना पड़ता है।

ताज़ा ख़बरें

राज्यपाल जैसी ही स्थिति चुनाव आयोग की भी है। कहने को तो चुनाव आयोग अब भी एक स्वतंत्र संवैधानिक निकाय है, लेकिन उसका आचरण आम तौर पर कभी भी स्वायत्त नहीं रहा, सिर्फ़ 1990 के दशक और इस सदी के शुरुआती कुछ वर्षों को छोड़कर। 1990 में टीएन शेषन के मुख्य चुनाव आयुक्त बनने के बाद ही पहली बार देश को भी और राजनीतिक दलों को भी मालूम हुआ था कि चुनाव आयोग किसे कहते हैं और वह क्या-क्या काम कर सकता है। शेषन ने अपने छह साल के कार्यकाल के दौरान कई ज़रूरी चुनाव सुधार लागू किए थे और चुनाव प्रणाली को अधिकतम पारदर्शी बनाया था। उनके बाद सिर्फ़ जेएम लिंगदोह ही ऐसे मुख्य चुनाव आयुक्त रहे, जिन्होंने उनकी बनाई हुई लीक पर चलते हुए अपना दायित्व निभाया। शेषन और लिंगदोह के बाद चुनाव आयोग की चमक फिर धुंधली पड़ती गई और पिछले पाँच वर्षों के दौरान तो इस संवैधानिक संस्था ने सरकारपरस्ती के नित-नए 'कीर्तिमान’ रचे हैं। इस सिलसिले में महाराष्ट्र का राजनीतिक घटनाक्रम ताज़ा मिसाल है।

उद्धव ठाकरे ने विधानमंडल के किसी भी सदन का सदस्य निर्वाचित हुए बगैर ही 28 नवंबर 2019 को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। संविधान की धारा 164 (4) के अनुसार उन्हें अपने शपथ ग्रहण के छह महीने के अंदर यानी 28 मई से पहले अनिवार्य रूप से राज्य के किसी भी सदन का सदस्य निर्वाचित होना है। विधानसभा का सदस्य बनने के लिए ठाकरे को किसी विधायक से इस्तीफ़ा दिलवाकर सीट खाली करानी पड़ती, लेकिन ठाकरे ने ऐसा न करते हुए विधान परिषद के ज़रिए विधान मंडल का सदस्य बनना तय किया। इस सिलसिले में वह 24 अप्रैल को विधानसभा कोटे की रिक्त हुई विधान परिषद की नौ सीटों के लिए होने वाले द्विवार्षिक चुनाव का इंतज़ार कर रहे थे। 

कोरोना महामारी के चलते लागू लॉकडाउन का हवाला देकर चुनाव आयोग ने न सिर्फ़ इन चुनावों को बल्कि देश भर में होने वाले राज्यसभा और विधान परिषद के चुनावों को टाल दिया था। ऐसी स्थिति में ठाकरे के सामने एकमात्र विकल्प यही था कि वह 28 मई से पहले राज्यपाल के मनोनयन कोटे से विधान परिषद का सदस्य बन जाएँ।

विधान परिषद में मनोनयन कोटे की दो सीटें रिक्त थीं। राज्य मंत्रिमंडल ने पिछले महीने राज्यपाल से इन दो में से एक सीट पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को मनोनीत किए जाने की सिफ़ारिश की थी। चूँकि दोनों सीटें कलाकार कोटे से भरी जानी थीं, लिहाज़ा इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए मंत्रिमंडल ने अपनी सिफ़ारिश में उद्धव ठाकरे के वाइल्ड लाइफ़ फ़ोटोग्राफ़र होने का उल्लेख भी किया था। इस प्रकार उनके मनोनयन में किसी तरह की क़ानूनी बाधा नहीं थी। लेकिन राज्यपाल ने मंत्रिमंडल की सिफ़ारिश पर पहले तो कई दिनों तक कोई फ़ैसला नहीं किया। बाद में जब उनके इस रवैये की आलोचना होने लगी और सत्तारुढ़ शिवसेना की ओर से उन पर राजभवन को राजनीतिक साज़िशों का केंद्र बना देने का आरोप लगाया गया तो उन्होंने सफ़ाई दी कि वह इस संबंध में विधि विशेषज्ञों से परामर्श कर रहे हैं। उन्होंने यह भी सवाल किया कि इतनी जल्दी क्या है? यह सब करने के बाद अंतत: उन्होंने मंत्रिमंडल को सिफ़ारिश लौटा दी।

सम्बंधित खबरें

राज्यपाल ने सिफ़ारिश को लटकाए क्यों रखा?

राज्य मंत्रिमंडल ने संवैधानिक प्रावधानों के मुताबिक़ अपनी सिफ़ारिश दोबारा राज्यपाल को भेजी, जिसे स्वीकार करना राज्यपाल के लिए संवैधानिक बाध्यता थी। लेकिन राज्यपाल ने कोई फ़ैसला न लेते हुए मामले को लटकाए रखा। कहने की आवश्यकता नहीं कि राज्यपाल इस मामले में ठीक उसी तरह 'दिल्ली’ के आदेश पर काम कर रहे थे जैसे पिछले साल अक्टूबर में विधानसभा चुनाव के बाद सरकार बनने को लेकर पैदा हुए गतिरोध के दौरान वह कर रहे थे। उस समय उन्होंने पहले तो राज्य में राष्ट्रपति शासन की सिफ़ारिश की थी और फिर एक महीने बाद अचानक आनन-फानन में आधी रात को राष्ट्रपति शासन हटाने की सिफ़ारिश कर देवेंद्र फडनवीस को मुख्यमंत्री तथा अजीत पवार को उप मुख्यमंत्री पद की शपथ दिला दी थी।

राज्यपाल कोश्यारी के ताज़ा रवैये से ज़ाहिर था कि वह राज्य में राजनीतिक अस्थिरता को न्योता दे रहे हैं, बगैर इस बात की चिंता किए कि महाराष्ट्र इस समय देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित राज्य है और यह संकट राजनीतिक अस्थिरता के चलते ज़्यादा गहरा सकता है।

ऐसे में मुख्यमंत्री उद्धव ने सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की। हालाँकि यह मामला किसी भी दृष्टि से प्रधानमंत्री के हस्तक्षेप करने जैसा नहीं था, लेकिन प्रधानमंत्री ने ठाकरे से कहा कि वे देखेंगे कि इस मामले में क्या हो सकता है। उन्होंने अपने आश्वासन के मुताबिक़ मामले को देखा भी। यह तो स्पष्ट नहीं हुआ कि उनकी ओर से राज्यपाल को क्या संदेश या निर्देश दिया गया, मगर उनके आश्वासन के अगले ही दिन राज्यपाल ने चुनाव आयोग को पत्र लिख कर राज्य विधान परिषद की रिक्त सीटों के चुनाव कराने का अनुरोध किया। उनके इस अनुरोध पर चुनाव आयोग फौरन हरकत में आया। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा, जो कि इस समय अमेरिका में हैं, ने आनन-फानन में वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के ज़रिए चुनाव आयोग की बैठक करने की औपचारिकता पूरी की और महाराष्ट्र विधान परिषद की सभी नौ रिक्त सीटों के लिए 21 मई को चुनाव कराने का एलान कर दिया। ज़ाहिर है कि प्रधानमंत्री के हस्तक्षेप से हुई यह पूरी कवायद राज्यपाल द्वारा 'दिल्ली के इशारे पर’ की गई मनमानी को जायज़ ठहराने के लिए की गई है।

विचार से ख़ास

फ़ैसले का संवैधानिक आधार

राज्यपाल कोश्यारी के पास राज्य मंत्रिमंडल की सिफ़ारिश को न मानने अथवा उसे ठुकराने का कोई संवैधानिक आधार नहीं था। अगर वह मंत्रिमंडल की सिफ़ारिश के आधार पर उद्धव ठाकरे को विधान परिषद का सदस्य मनोनीत कर भी देते तो कोई नई मिसाल कायम नहीं होती। पहले भी ऐसा हुआ है। उत्तर प्रदेश में 1960 में चंद्रभानु गुप्त जब मुख्यमंत्री बने तो वह राज्य विधानमंडल में किसी भी सदन के सदस्य नहीं थे। उन्हें भी मंत्रिमंडल की सिफ़ारिश पर राज्यपाल ने विधान परिषद का सदस्य मनोनीत किया था।

इसके अलावा महाराष्ट्र में भी दत्ता मेघे सहित तीन नेताओं के ऐसे उदाहरण हैं, जो राज्य सरकार में मंत्री थे और विधान परिषद में उन्हें मनोनीत किया गया था। इन उदाहरणों की रोशनी में कहा जा सकता है कि उद्धव ठाकरे को मनोनीत करने की सिफ़ारिश को ठुकराने का महाराष्ट्र के राज्यपाल का फ़ैसला साफ़ तौर पर दलीय निष्ठा और 'दिल्ली’ के इशारों से प्रेरित था।

बहरहाल, सवाल उठता है कि जब चुनाव आयोग 21 मई को चुनाव करा सकता है तो उसने पिछले महीने चुनाव टालने का फ़ैसला किस आधार पर किया था? कोरोना महामारी के जिस संकट को आधार बनाकर चुनाव टाले गए थे, वह आधार तो अब भी कायम है और अभी काफ़ी समय तक कायम रहेगा। कहने की आवश्यकता नहीं कि राज्यपालों की तरह चुनाव आयोग भी अपने संवैधानिक विवेक के आधार पर नहीं, बल्कि सरकार के निर्देशों के मुताबिक़ फ़ैसले ले रहा है। मुख्य चुनाव आयुक्त की कार्यप्रणाली कहीं से भी इस बात का अहसास नहीं कराती कि वह ख़ुद को और चुनाव आयोग को इस छवि से मुक्त कराने की इच्छा रखते हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
अनिल जैन
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें