loader

क्या यूपी और बिहार के लोग घासफूस है?

उत्तर प्रदेश, बिहार से जाकर मेहनत मज़दूरी कर रोजी रोटी कमाने वाले लोग क्यों हर किसी के निशाने पर होते हैं? उन पर राजनीति तो होती है, पर उनके ही प्रतिनिध चुप क्यों रहते हैं? सवाल उठा रहे हैं वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष
why people of bihar and up get bashed? - Satya Hindi
एक छोटा सा सवाल पूछना चाहता हूँ । क्या यूपी और बिहार के लोग घासफूस है ? कभी महाराष्ट्र में उनकी पिटाई होती है । कभी गुजरात में । उनकी ग़लती क्या है ? उनके साथ ये व्यवहार क्यों होता है ? क्यों कोई भी उनको चपत लगा देता है ? हाल का वाक़या गुजरात का है । सांबरकांठा में एक हादसा हुआ । एक बच्ची से बलात्कार हुआ । जिसने किया उसे पकड़ो । क़ानूनन सज़ा दो । अगर फाँसी मिलती है तो फाँसी दो । पर ये क्या मतलब है कि उसके अपराध के लिये यूपी बिहार के लोगों को पीटा जा रहा है ? कहा जा रहा हैं कि काट डालेंगे, अगर यहाँ रहे तो । लोग डर कर अपने घर भाग रहे हैं ।

ये सारे ग़रीब लोग है । रोज कमाते, रोज़ खाते है । रोजगार गया । नौकरी गई । बरसो से जहाँ काम कर रहे थे वो जगह उजड़ गई । क्यों भाई क्यों ? यूपी और बिहार दोनों जगह के मुख्यमंत्रियों के मुँह पर दही जमा है क्या कि मुंह से आवाज नहीं निकल रही है ? गुजरात की पुलिस कह रही है कि त्योहार का मौसम है । इस समय ये लोग वापस घर जाते हैं । इतना बडा झूठ ? 
नीतीश कुमार और योगी आदित्यनाथ कुछ नहीं बोल रहे हैं । क्या इन लोगों के हक में खड़े होने की ज़िम्मेदारी इनकी नही है ? क्या इन्हें कड़ाई से गुजरात सरकार से बात नहीं करनी चाहिए?

राज ठाकरने बनने चला है अल्पेश ठाकुर?

और ये नया हीरो जो गुजरात में खड़ा हो रहा क्या इसे नहीं फटकार लगनी चाहिये जिसका नाम अल्पेश ठाकुर है ? क्यों कांग्रेस इस आदमी का बचाव कर रही है ? ये अल्पेश ठाकुर गुजरात का राज ठाकरे बनने चला है ?
why people of bihar and up get bashed? - Satya Hindi
हिंदुस्तान का संविधान इस देश के हर नागरिक को देश में कहीं भी रहने और रोज़गार करने की इजाज़त देता है । और अगर इसमें कोई भी आदमी या संस्था बाधा डलती है तो वो संविधान का उल्लंघन कर रहा है । और जो सरकार ऐसे लोगों या संस्थानों को नहीं रोक पा रही है वो संविधान के हिसाब से नहीं चल पा रही है । ऐसी सरकारों का संवैधानिक इलाज होना चाहिये।

मोदी क्या कर रहे हैं?

मोदी जी क्या कर रहे हैं ? यूपी वालों का वोट लेना था तो बनारस से चुनाव लड़ लिया । अब बनारस पटना के लोग उनके गुजरात में पिट रहे हैं तो मुँह बंद है । क्या इस बार वोट नहीं लेना है ?

 

why people of bihar and up get bashed? - Satya Hindi

भष्मासुर को रोकना ज़रूरी

ये हिंसा बंद होनी चाहिये । ये मार पिटाई बंद होनी चाहिये । अपने को यूपी बिहार के लोगों से बेहतर समझने की मानसिकता बंद होनी चाहिये । यूपी बिहार के लोगों को कमतर समझने की सोच बंद होनी चाहिये । ये देश सबका है । सबने मिलकर बनाया है । यहाँ सबके लिये जगह है । प्रांत के नाम पर, धर्म के नाम पर, भाषा के नाम पर, जाति के नाम पर राजनीति करने वालों को देश माफ़ नहीं करेगा । इसलिये मोदी जी ये हिंसा रुकवाइये । नीतीश जी, योगी जी अपने लोगों के लिये लड़ना सीखिये । यूपी बिहार हैं तो आप हैं, नहीं तो आपका कोई अस्तित्व नही हैं । और हाँ । कांग्रेस इस नये हीरों को संभाल लो । अतीत से सीख लो । ये खुद आपके लिये भष्मासुर साबित होगा । और नुक़सान देश का होगा ।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें