loader

G-23 गुट के नेता बोले- नेताओं का पार्टी छोड़ना गंभीर, आत्मचिंतन करे कांग्रेस

एक के बाद एक कर कांग्रेस छोड़ रहे नेताओं को लेकर पार्टी के भीतर से प्रतिक्रिया आने लगी है। G-23 गुट के नेताओं ने कहा है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार का पार्टी छोड़ना यह दिखाता है कि पार्टी में सब कुछ ठीक-ठाक नहीं है। बता दें कि अश्विनी कुमार ने मंगलवार को कांग्रेस को अलविदा कह दिया था।

G-23 गुट के नेताओं में शुमार गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि एक के बाद एक नेताओं का कांग्रेस छोड़कर जाना बेहद चिंता का विषय है। 

राज्यसभा में कांग्रेस के उपनेता आनंद शर्मा और लोकसभा सांसद मनीष तिवारी ने कहा है कि पार्टी को इसे लेकर आत्मचिंतन करने की जरूरत है। 

ताज़ा ख़बरें

भगदड़ की आशंका 

G-23 गुट के नेताओं ने अगस्त, 2020 में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कई सवाल उठाए थे और पार्टी की कार्यशैली में बदलाव की आवाज को बुलंद किया था। ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक, कई नेताओं ने अपनी पहचान जाहिर न करने की शर्त पर कहा कि उन्हें इस बात पर कोई हैरानी नहीं होगी कि पांच राज्यों के चुनाव नतीजे अगर कांग्रेस के पक्ष में नहीं रहते हैं तो पार्टी में भगदड़ मच सकती है। 

बता दें कि कुछ दिन पहले ही एक और पूर्व केंद्रीय मंत्री और उत्तर प्रदेश से आने वाले बड़े नेता आरपीएन सिंह ने कांग्रेस को अलविदा कहकर बीजेपी का दामन थाम लिया था।

जम्मू-कश्मीर से आने वाले गुलाम नबी आजाद ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा कि नेताओं का पार्टी छोड़ना बेहद चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि अश्विनी कुमार चौथे या पांचवे पूर्व केंद्रीय मंत्री हैं जिन्होंने कांग्रेस का साथ छोड़ा है। इसके अलावा बड़ी संख्या में नेताओं और कार्यकर्ताओं ने देश भर में कांग्रेस का साथ छोड़ दिया है। 

Ashwani Kumar quits Congress leaders call for introspection - Satya Hindi

बता दें कि गुलाम नबी आजाद के समर्थन में जम्मू-कश्मीर में भी कई नेताओं ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था।

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि कांग्रेस को नेताओं के पार्टी छोड़कर जाने को लेकर बहुत आत्मचिंतन करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि यह कहना ठीक नहीं होगा कि ये नेता किसी व्यक्ति या किसी पार्टी के इशारे पर कांग्रेस छोड़कर गए हैं। 

कई दशक कांग्रेस में गुजार चुके गुलाम नबी आजाद ने कहा कि पार्टी के भीतर कुछ बेचैनी है जो कट्टर कांग्रेसियों को भी असहज कर रही है।

मनीष तिवारी के अलावा राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने भी अश्विनी कुमार के कांग्रेस छोड़ने को दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।

हालांकि अश्विनी कुमार के बारे में यह बात सामने आई है कि वह अपने बेटे के लिए पंजाब की सुजानपुर विधानसभा सीट से टिकट मांग रहे थे। लेकिन कांग्रेस ने उनके बेटे को उम्मीदवार नहीं बनाया और इसके बाद से ही अश्विनी कुमार पार्टी से नाराज हो गए थे।

राजनीति से और खबरें

करो या मरो का सवाल 

यह बात सही है कि पांच राज्यों के चुनाव कांग्रेस के लिए करो या मरो का सवाल हैं। उत्तर प्रदेश को छोड़कर बाकी 3 राज्यों में कांग्रेस बीजेपी के साथ सीधे मुकाबले में है और पंजाब में वह सत्ता में है। 2014 में केंद्र में बीजेपी की सरकार बनने के बाद से ही लंबे वक्त तक कांग्रेस में रहे कई बड़े नेता पार्टी का साथ छोड़ कर चले गए। यह कहा जाता है कि जब तक कांग्रेस सत्ता में रही तब तक ये नेता पार्टी के साथ रहे लेकिन पार्टी की स्थिति खराब होते ही इन्होंने अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं के चलते कांग्रेस का साथ छोड़ दिया। 

मुश्किल होगी आगे की राह 

लेकिन इस सबके बाद भी कांग्रेस को अगर 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव में विपक्षी दलों की अगुवाई करनी है तो इन पांच राज्यों के साथ ही 2022 में गुजरात और हिमाचल प्रदेश के चुनाव के बाद 2023 में कई राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव में कामयाबी हासिल करनी ही होगी वरना उसकी आगे की राह बहुत मुश्किल हो सकती है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें