loader

ईडी की कार्रवाई के बाद क्या कांग्रेस की घेराबंदी की गई?

नेशनल हेराल्ड के कार्यालय पर ईडी की कार्रवाई के बाद सोनिया गांधी व कांग्रेस कार्यालय के बाहर भारी पुलिस बल की तैनाती पर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। इसने कहा है कि यह कांग्रेस को धमकाने का प्रयास है और एक तरह से यह पार्टी की घेराबंदी की गई है।

पार्टी के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने कहा है, 'कांग्रेस की घेराबंदी की जा रही है। दिल्ली पुलिस ने हमारे मुख्यालय, कांग्रेस अध्यक्ष और पूर्व राष्ट्रपति के घरों को घेर लिया है। यह प्रतिशोध की राजनीति का सबसे ख़राब रूप है। हम नहीं झुकेंगे! हम चुप नहीं रहेंगे! हम मोदी सरकार के अन्याय और विफलताओं के खिलाफ आवाज़ और अपना मुद्दा उठाना जारी रखेंगे।'

कांग्रेस की यह प्रतिक्रिया तब आई है जब प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने यंग इंडियन लिमिटेड के कार्यालय को सील कर दिया है। इसके साथ ही इसने निर्देश दिया है कि एजेंसी की पूर्व अनुमति के बिना परिसर नहीं खोला जाए। इसके साथ ही कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास 10 जनपथ के बाहर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है। कांग्रेस कार्यालय के रास्ते में भी बैरिकेडिंग की गई है।

ताज़ा ख़बरें

इसके साथ ही कांग्रेस ने इस मुद्दे पर एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस की। कांग्रेस नेता अजय माकन ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा, 'आज एआईसीसी, 10 जनपथ, 12 तुगलक लेन पर पुलिस पहरा... किसलिए? ताकि हम पर दबाव डाला जाए और हम महंगाई, बेरोजगारी और खाद्य पदार्थों पर लगी जीएसटी के खिलाफ जनता की आवाज़ न उठा सकें।' 

उन्होंने आगे कहा, 'ये सब इसलिए किया जा रहा है ताकि ये जाहिर किया जाए कि कांग्रेस जनता के मुद्दों पर आवाज़ नहीं उठाती। मगर हम बता दें कि कांग्रेस पार्टी ऐसे दबाव में आने वाली नहीं है और महंगाई, बेरोजगारी, जीएसटी के खिलाफ 5 अगस्त को हमारा राष्ट्रव्यापी आंदोलन जारी रहेगा।' 

अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि भाजपा बहकाना चाहती है ताकि अखबारों में बेरोजगारी, महंगाई की बात न हो।'

एक दिन पहले ही ईडी ने मंगलवार को दिल्ली के बहादुर शाह जफर मार्ग स्थित हेराल्ड हाउस सहित कई स्थानों पर तलाशी ली थी। पिछले हफ्ते ही सोनिया गांधी से ईडी ने तीन दिन में क़रीब 12 घंटे पूछताछ की थी। इससे पहले पिछले महीने ही केंद्रीय एजेंसी राहुल गांधी से कई दिनों तक घंटों पूछताछ कर चुकी है।

राजनीति से और ख़बरें
कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने एक ट्वीट में एक वीडियो साझा किया जिसमें कांग्रेस मुख्यालय के बाहर भारी पुलिस की मौजूदगी और यातायात के लिए बंद सड़क दिखाई दे रही है। उन्होंने ट्वीट में कहा है, 'दिल्ली पुलिस का एआईसीसी मुख्यालय का रास्ता रोकना एक अपवाद के बजाय एक आदर्श बन गया है! उन्होंने ऐसा क्यों किया यह रहस्यमय है...।'
दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया, 'हमें अपनी विशेष शाखा से इनपुट मिला है कि कुछ प्रदर्शनकारी अकबर रोड स्थित कांग्रेस कार्यालय में इकट्ठा हो सकते हैं। इसलिए, एक एहतियाती उपाय के रूप में हमने बैरिकेड्स लगा दिए हैं और किसी भी अप्रिय स्थिति से बचने के लिए अपने कर्मियों को तैनात किया है।'
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें