loader

सोनिया ने बनाई कोरोना टास्क फ़ोर्स, आज़ाद को सौंपी कमान

एक बेहद अहम घटनाक्रम में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मंगलवार को पार्टी की ओर से बनाई गई कोरोना रिलीफ़ टास्क फ़ोर्स की कमान कांग्रेस में बाग़ी गुट के नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद को सौंप दी। इसे एक ओर बाग़ियों के असंतोष को थामने की कवायद माना जा रहा है तो दूसरी ओर मोदी सरकार को घेरने की कोशिश। 

लोकसभा चुनाव 2019 के बाद से स्थायी अध्यक्ष चुने जाने और आंतरिक चुनाव की मांग को लेकर पार्टी में जबरदस्त घमासान हो चुका है। पार्टी में बाग़ी नेताओं का एक गुट है, जिसे G-23 कहा जाता है। इसकी कमान मोटे तौर पर आज़ाद के पास ही है। 

ताज़ा ख़बरें

कोरोना काल में जब देश में हालात काफी ख़राब हैं और मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर है, ऐसे में सोनिया गांधी की ओर से कोरोना टास्क फ़ोर्स का गठन करना रणनीतिक रूप से अहम क़दम है और आज़ाद जैसे अनुभवी नेता को इसकी कमान सौंपने का मतलब है कि पार्टी रूठे हुए बाग़ी नेताओं को मनाना चाहती है। 

इसी क्रम में पार्टी ने इन नेताओं की स्थायी अध्यक्ष चुने जाने और आंतरिक चुनाव की मांग पर भी काम किया है और दो दिन पहले हुई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में 23 जून को अध्यक्ष पद पर चुनाव कराने का एलान किया था। हालांकि कोरोना संकट के कारण इसे टालना पड़ा था। 

Congress constitute Covid relief task force - Satya Hindi

सोनिया गांधी अस्वस्थता के बावजूद अध्यक्ष पद संभाले हुए हैं लेकिन ताज़ा हालात में जब असम, बंगाल, केरल, पुडुचेरी में पार्टी का प्रदर्शन बेहद ख़राब रहा है तो अध्यक्ष पद की मांग नए सिरे से उठने की संभावना को देखते हुए आलाकमान ने यह फ़ैसला लिया था। 

आज़ाद के अलावा इस फ़ोर्स में कई पुराने और अनुभवी नेताओं को जगह दी गई है। इनमें अंबिका सोनी, मुकुल वासनिक, पवन कुमार बंसल, प्रियंका गांधी वाड्रा, केसी वेणुगोपाल, जयराम रमेश, रणदीप सिंह सुरजेवाला सहित कुछ अन्य नेता शामिल हैं। 

कोरोना की दूसरी लहर में मोदी सरकार के ख़िलाफ़ राहुल गांधी भी खासे आक्रामक रहे हैं। इसी क्रम में आगे आकर सोनिया का इस टास्क फ़ोर्स का गठन करने का मतलब है कि कांग्रेस मोदी सरकार को कोरोना से लड़ाई के मामले में बख़्शने को तैयार नहीं है।

आज़ाद को हटाया था

G-23 गुट के नेताओं की ओर से बीते साल सोनिया गांधी को लिखे गए एक पत्र के बाद पार्टी में भारी उथल-पुथल हुई थी। इसके बाद ग़ुलाम नबी आज़ाद को पार्टी ने बीते साल कांग्रेस महासचिव के पद से हटा दिया था क्योंकि आज़ाद कांग्रेस आलाकमान को चिट्ठी लिखने वाले नेताओं में शामिल थे। इससे कांग्रेस के अंदर चल रहा घमासान खुलकर सड़कों पर आ गया था। 

राजनीति से और ख़बरें

शांति सम्मेलन में जुटे थे नेता 

पार्टी में चल रहा घमासान फरवरी में तब और बढ़ गया था G-23 ने जम्मू में शांति सम्मेलन का आयोजन किया था। इसके जरिये पार्टी नेतृत्व को संदेश दिया गया था कि वे ग़ुलाम नबी आज़ाद के साथ खड़े हैं। 

G-23 गुट के जो नेता जम्मू पहुंचे थे, उनमें ग़ुलाम नबी आज़ाद, भूपेंद्र सिंह हुड्डा, कपिल सिब्बल, आनंद शर्मा, राज बब्बर, मनीष तिवारी, विवेक तन्खा सहित कुछ और नेता भी शामिल थे। हैरानी की बात यह थी कि इन सभी नेताओं ने भगवा पगड़ी पहनी हुई थी। शांति सम्मेलन के बाद कांग्रेस में कई नेताओं के बीच जमकर बयानबाज़ी हुई थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें