loader

राष्ट्रीय स्तर पर बदलाव करेगी कांग्रेस, चार कार्यकारी अध्यक्ष बनाएगी!

बीते दिनों में बहुत तेज़ी से कई राज्यों में कांग्रेस इकाइयों के मसले सुलझाने के बाद बारी शायद अब राष्ट्रीय स्तर पर बड़े बदलावों की है। ख़बरों के मुताबिक़, सोनिया गांधी ही 2024 तक पार्टी की अध्यक्ष बनी रहेंगी क्योंकि राहुल गांधी इस पद को संभालने के इच्छुक नहीं दिख रहे हैं। 

लेकिन जो अहम बात है, वह यह कि पार्टी राष्ट्रीय स्तर पर चार कार्यकारी अध्यक्ष बना सकती है। इससे पहले ऐसा कभी नहीं देखा गया कि राष्ट्रीय स्तर पर कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए हों। 

कार्यकारी अध्यक्ष का फ़ॉर्मूला

कार्यकारी अध्यक्ष के फ़ॉर्मूले की इन दिनों कांग्रेस में बहुत चर्चा है। पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह बनाम नवजोत सिंह सिद्धू के झगड़े के बाद पार्टी ने सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बनाते हुए वहां चार कार्यकारी अध्यक्ष बना दिए। इसके अगले ही दिन उत्तराखंड में भी यही फ़ॉर्मूला लागू किया गया और यहां भी चार कार्यकारी अध्यक्ष बना दिए गए। 

ताज़ा ख़बरें

यहां ये बात बेहद अहम है कि पंजाब और उत्तराखंड छोटे राज्य हैं। ये इतने बड़े प्रदेश नहीं हैं कि इनमें कार्यकारी अध्यक्षों की नियुक्ति की ज़रूरत पड़े। इन दोनों राज्यों के अलावा असम में भी तीन कार्यकारी अध्यक्ष बना दिए गए हैं। 

कुल मिलाकर हाईकमान एक्शन में दिखा है और संकेत मिले हैं कि राजस्थान कांग्रेस में चल रहा झगड़ा भी जल्द ही ख़त्म होगा। 

Congress president election crisis may appoint working presidents  - Satya Hindi

प्रशांत किशोर से मुलाक़ात 

यहां याद दिलाना होगा कि चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से मुलाक़ात के बाद ही हाईकमान एक्शन में आया है और उसने राज्यों को लेकर तेज़ी से फ़ैसले लिए हैं। इतना ही नहीं, मणिपुर और गोवा को लेकर भी पार्टी जल्दी फ़ैसला करने वाली है और उत्तर प्रदेश में क्या प्रियंका गांधी चेहरा होंगी या किसी दल से गठबंधन किया जाएगा, इन मामलों की भी जल्द से जल्द निपटाने पर विचार किया जा रहा है। 

अब जो बात यहां राष्ट्रीय स्तर पर कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने की हो रही है, उसमें किन लोगों के नाम चर्चा में हैं, इसके बारे में बात करते हैं। 

इन नेताओं में ग़ुलाम नबी आज़ाद, सचिन पायलट, कुमारी शैलजा, कमलनाथ, मुकुल वासनिक और रमेश चेन्निथला के नाम चर्चा में हैं। कार्यकारी अध्यक्षों की जिम्मेदारी होगी कि वे सोनिया और राहुल गांधी को संगठन मज़बूत करने से लेकर सरकार को घेरने और बाक़ी राजनीतिक कामों में सहयोग करें। 

राजनीति से और ख़बरें

स्थायी अध्यक्ष का संकट 

कांग्रेस के बारे में उसके विरोधी कहते हैं कि यह पार्टी 2 साल बाद भी स्थायी अध्यक्ष का चुनाव नहीं कर सकी है। साल 2019 के लोकसभा चुनाव में हार के बाद राहुल गांधी ने जो अध्यक्ष पद छोड़ा तो लाख मनाने के बाद भी वह टस से मस नहीं हुए। ऐसे में जब केंद्र में एंटी बीजेपी फ्रंट की बात तेज़ी से चल रही है तो कांग्रेस को इस स्थायी अध्यक्ष के संकट को ख़त्म करना ही होगा। 

इसका यही रास्ता पार्टी को दिख रहा है कि सोनिया गांधी 2024 तक कांग्रेस अध्यक्ष की कुर्सी संभालें और चार कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाएं जो उन्हें सहयोग करें। इन कार्यकारी अध्यक्षों में जाति, धर्म व क्षेत्र के समीकरणों का ध्यान भी पार्टी रखेगी। 

कांग्रेस जानती है कि 2022 का साल उसका सियासी मुस्तकबिल तय करने जा रहा है। 2022 में फऱवरी-मार्च में जहां 5 राज्यों के चुनाव हैं, वहीं साल के अंत में गुजरात और हिमाचल प्रदेश में चुनाव होने हैं।

विवाद निपटाने की कोशिश 

अगर एंटी बीजेपी फ्रंट शक्ल अख़्तियार करता है तो इसमें कांग्रेस की सियासी हैसियत क्या होगी, यह 2022 ही तय करेगा। इसलिए शायद पार्टी हाईकमान राज्यों व राष्ट्रीय स्तर पर संगठन के मामलों में किसी भी विवाद को लंबा नहीं खींचना चाहता और इन्हें निपटाकर 2022 की तैयारियों में जुटना चाहता है। 

पेगासस जासूसी मामला, किसान आंदोलन, कोरोना की दूसरी लहर में मोदी सरकार की नाकामियों के मुद्दे पर कांग्रेस केंद्र सरकार पर जबरदस्त हमलावर है और उसे अपना यही रूख़ बरकरार रखते हुए राज्यों के चुनावों में फ़तेह हासिल करनी ही होगी, वरना उसकी नाव का डूबना तय है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें