loader

ईडी ने सोनिया को 25 जुलाई को फिर बुलाया, कांग्रेस का जोरदार प्रदर्शन

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी गुरूवार को जांच एजेंसी ईडी के सामने पेश हुई जहां उनसे पहले दौर की पूछताछ हुई है। उन्हें ईडी ने 25 जुलाई को फिर से बुलाया है। सोनिया गांधी को नेशनल हेराल्ड मामले में समन किया गया था। इसके विरोध में कांग्रेस देश भर में सड़कों पर उतर आई है। 

ईडी ने सोनिया गांधी को पहले भी समन किया था लेकिन तब कोरोना से संक्रमित होने के कारण वह ईडी के सामने पेश नहीं हो सकी थीं। ईडी दफ्तर पहुंचने तक सोनिया के साथ राहुल व प्रियंका गांधी भी मौजूद रहे। 

प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस के कई नेताओं और कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया गया है। इनमें पी. चिदंबरम, अजय माकन, शशि थरूर सहित कई नेता शामिल हैं। उत्तराखंड कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने भी ईडी दफ्तर के बाहर जोरदार प्रदर्शन किया है।

ED summoned Sonia gandhi in national herald case Congress protest  - Satya Hindi

युवक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने कनॉट प्लेस में जनपथ रोड के नजदीक प्रदर्शन किया है। कांग्रेस मुख्यालय के बाहर पार्टी के कार्यकर्ताओं ने वहां लगाई गई बैरिकेडिंग को तोड़ दिया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं को काबू में करने के लिए पुलिस ने पानी की तेज बौछार छोड़ी। बीजेपी ने कांग्रेस के प्रदर्शन की निंदा की है।

कांग्रेस ने कहा है कि वह ईडी और सीबीआई जैसी सरकार की कठपुतलियों से नहीं डरती। नई दिल्ली में अकबर रोड स्थित कांग्रेस मुख्यालय में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं और कार्यकर्ताओं का जमावड़ा लगा हुआ है। बड़ी संख्या में दिल्ली पुलिस के जवान भी मौके पर तैनात हैं। 

कांग्रेस मुख्यालय में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि मोदी सरकार ने देश के लिए दो कानून बनाए हैं विपक्ष के लिए एक और सत्तापक्ष के लिए दूसरा। उन्होंने कहा कि नेशनल हेराल्ड मामले में मनी लॉन्ड्रिंग नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र खतरे में है और लोग डरे हुए हैं। 
ED summoned Sonia gandhi in national herald case Congress protest  - Satya Hindi

राहुल की पेशी पर हुआ था प्रदर्शन

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की ईडी के सामने पेशी के दौरान कांग्रेस ने कई दिन तक राजधानी दिल्ली और तमाम बड़े शहरों में जोरदार प्रदर्शन किया था और इस दौरान कांग्रेस के कई नेताओं को हिरासत में भी लिया गया था। कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि उसके नेताओं के साथ दिल्ली पुलिस ने ज़्यादती की है और तब पुलिस के कांग्रेस मुख्यालय में घुसने को लेकर काफी बवाल हुआ था। 

ईडी ने राहुल गांधी से कई दिन तक और कई घंटों तक लगातार पूछताछ की थी और उनके बयान दर्ज किए थे।

ED summoned Sonia gandhi in national herald case Congress protest  - Satya Hindi

कांग्रेस ने नेशनल हेराल्ड मामले में उसके नेताओं पर लगे आरोपों को बदले की राजनीति करार दिया है। पार्टी ने आरोपों को पूरी तरह बेबुनियाद बताते हुए कहा है कि जांच एजेंसी मोदी सरकार के इशारे पर विपक्षी नेताओं को निशाना बना रही है। 

क्या है नेशनल हेराल्ड मामला?

नेशनल हेराल्ड मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और सांसद राहुल गांधी पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए हैं। बीजेपी के सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा था कि सोनिया और राहुल गांधी ने केवल 50 लाख रुपये का भुगतान कर यंग इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के ज़रिए कांग्रेस के स्वामित्व वाले एसोसिएट जरनल लिमिटेड (एजेएल) की 90.25 करोड़ की रकम वसूलने का अधिकार हासिल कर लिया था। 

स्वामी ने इस मामले में दिल्ली की एक अदालत में शिकायत दर्ज कराई थी। स्वामी की याचिका पर संज्ञान लेते हुए अदालत ने आयकर विभाग से यंग इंडिया लिमिटेड के खिलाफ जांच करने के लिए कहा था। इस मामले में ईडी ने भी प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत नया केस दर्ज किया था।

राजनीति से और खबरें

पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने एजेएल को 1937 में शुरू किया था। 2010 में कंपनी में 1057 शेयर धारक थे और नुकसान होने के बाद 2011 में इसके स्वामित्व को यंग इंडिया लिमिटेड कंपनी को ट्रांसफर कर दिया गया था। एजेल की ओर से अंग्रेजी अखबार नेशनल हेराल्ड, उर्दू अखबार कौमी आवाज़ और हिंदी अखबार नवजीवन प्रकाशित किया जाता था। 

यंग इंडिया लिमिटेड का गठन 2010 में किया गया था और इसमें राहुल गांधी और कांग्रेस के एक नेता निदेशक थे। राहुल गांधी और सोनिया गांधी के पास इस कंपनी के 76 फ़ीसदी शेयर थे और 24 फ़ीसदी शेयर कांग्रेस नेता मोतीलाल वोरा और ऑस्कर फर्नाडिस के पास थे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें