loader
फाइल फोटो।

शाह ने महंगाई पर कांग्रेस के प्रदर्शन को 'राम मंदिर' से क्यों जोड़ा?

आज फिर से राम मंदिर का मुद्दा उठा। खुद गृह मंत्री अमित शाह ने इसका ज़िक्र किया। उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस का आज का प्रदर्शन राम मंदिर विरोध का संदेश देने के लिए और तुष्टिकरण की राजनीति के लिए था। चौंकिए नहीं! यदि गृह मंत्री अमित शाह के ये आरोप आपके पल्ले नहीं पड़ रहे हैं तो बता दें कि उनका यह बयान कांग्रेस के महंगाई के विरोध प्रदर्शन को लेकर था। दिन भर विरोध प्रदर्शन में भले ही राम मंदिर का कहीं कोई ज़िक्र नहीं आया हो, लेकिन शाम को जब गृह मंत्री ने बयान दिया तो इसमें राम मंदिर का एंगल जुड़ गया।

गृह मंत्री अमित शाह के बयान से आप सहमत हों या न हों, उनका बयान भले ही अटपटा लगे या तार्किक, लेकिन यह है बड़ा रोचक। उनका जो बयान आया है उसमें कहीं भी 'महंगाई' नाम का ज़िक्र नहीं है, जबकि कांग्रेस का पूरा विरोध-प्रदर्शन ही महंगाई और बेरोजगारी को लेकर प्रदर्शन बताया गया। कांग्रेस के विरोध में राम जन्म भूमि का कहीं जिक्र तक नहीं आया, लेकिन शाम को उस पर आरोप इसी को लेकर अमित शाह ने लगाया।

ताज़ा ख़बरें

एएनआई से एक सवाल के जवाब में अमित शाह ने कहा, '...हर रोज वो (कांग्रेसी) प्रदर्शन करते हैं। जहाँ तक आज का सवाल है.... मेरा स्पष्ट मानना है कि कांग्रेस ने इसमें हिडेन तरीके से अपनी अपीजमेंट की पॉलिसी को आगे बढ़ाया है। आज ईडी ने किसी भी प्रकार का, न तो किसी को तलब किया है, न पूछताछ की है और न ही रेड हुई है। अचानक ही कांग्रेस ने आज कार्यक्रम दिया विरोध का। मैं तो समझ ही नहीं सकता कि विरोध का कार्यक्रम आज क्यों दिया गया है। हर रोज़ जो विरोध के कार्यक्रम होते थे अपने-अपने ड्रेस में होते थे। आज सभी के सभी लोग काले कपड़े पहनकर विरोध कर रहे थे।'

उन्होंने आगे कहा, 'मैं मानता हूँ कि आज ही के दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रामजन्म भूमि का शिलान्यास किया था। साढ़े पाँच सौ साल पुरानी इस समस्या का बहुत शांतिपूर्ण तरीक़े से समाधान निकला था। कहीं पर भी देश में न तो दंगा हुआ था और न ही हिंसा हुई थी। ...कांग्रेस ने आज का दिन इसीलिए, विरोध के लिए, और विशेषकर काले कपड़ों में विरोध के लिए चुना है कि वो एक शटल मैसेज देना चाहते हैं कि हम रामजन्म भूमि के शिलान्यास का विरोध करते हैं और अपनी तुष्टिकरण की नीति को आगे बढ़ाना चाहते हैं।'

अमित शाह के इस तर्क को पता नहीं कितने लोग स्वीकार कर पाएँगे, लेकिन उनके बयान के कुछ देर बाद ही यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भी बयान आ गया। वह भी बिल्कुल गृह मंत्री अमित शाह के बयान से हूबहू मिलता-जुलता।

एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार योगी आदित्यनाथ ने कहा, 'अभी तक कांग्रेस सामान्य पोशाक में विरोध प्रदर्शन कर रही थी लेकिन आज उन्होंने काले कपड़े पहनकर विरोध किया। यह रामभक्तों का अपमान है। उन्होंने इस दिन को आज के अयोध्या दिवस के रूप में चुना जो राम जन्मभूमि के निर्माण की शुरुआत का प्रतीक है।'

राजनीति से और ख़बरें

बता दें कि कांग्रेस की घोषणा के अनुसार महंगाई, जीएसटी दरों में बढ़ोतरी, बेरोज़गारी जैसे बड़े मुद्दों को लेकर कांग्रेस शुक्रवार को सड़क पर उतरी। प्रदर्शनों में जो पोस्टर, बैनर थे उसमें भी महंगाई, बेरोजगारी, रसोई गैस की क़ीमतें आदि से सरकार पर निशाना साधा गया था। कांग्रेस सांसदों ने राष्ट्रपति भवन के लिए मार्च निकाला लेकिन उन्हें विजय चौक पर रोक लिया गया। इस मार्च में कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी सहित पार्टी के कई सांसद शामिल हुए। सोनिया और राहुल के साथ ही कांग्रेस के सांसद भी काले कपड़े पहन कर मार्च में शामिल हुए। पुलिस ने राहुल गांधी व अन्य कई सांसदों को हिरासत में ले लिया। 

hm amit shah says congress protest sends anti-ram temple message - Satya Hindi
दूसरी ओर कांग्रेस मुख्यालय पर भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी के नेतृत्व में प्रदर्शन किया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री आवास तक मार्च करने का एलान किया था। दिल्ली पुलिस ने कांग्रेस मुख्यालय के बाहर बड़ी संख्या में बैरिकेडिंग लगाई थी और जवानों को तैनात किया था। लेकिन कांग्रेस कार्यकर्ता बैरिकेडिंग को तोड़कर आगे बढ़ गए। इसके बाद प्रियंका गांधी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। सभी को क़रीब छह घंटे बाद शाम 7 बजे के बाद हिरासत से छोड़ा गया।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें