loader

कांग्रेस नेताओं को तोड़कर अपना विस्तार कर रही टीएमसी, ललितेश भी जाएंगे!

बीजेपी को मात देकर पश्चिम बंगाल के सियासी किले को बचाए रखने में कामयाब रहीं ममता बनर्जी टीएमसी के सियासी विस्तार में जुटी हुई हैं। ऐसा करना ग़लत भी नहीं है लेकिन जिस तरह उनकी नज़र कांग्रेस के नेताओं पर है, वह कहीं न कहीं उनके द्वारा की जा रही विपक्षी एकता की कोशिशों के ख़िलाफ़ जाता है। 

ममता ने बीते दिनों कांग्रेस के दो बड़े नेताओं को टीएमसी में शामिल कराया है। इनमें पहला नाम है सुष्मिता देव का और दूसरा लुईजिन्हो फलेरो का। सुष्मिता देव महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष जैसे आला ओहदे पर थीं और राहुल गांधी के क़रीबियों में भी शुमार थीं। जबकि फलेरो गोवा के मुख्यमंत्री रहे हैं और इस बार गोवा के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के लिए बड़ा रोल निभा सकते थे। लेकिन ममता दीदी ने उन्हें झटक लिया। 

ताज़ा ख़बरें

अब तीसरा नंबर जिस नेता का लगने जा रहा है, उसका नाम है ललितेश पति त्रिपाठी। ललितेश ने कुछ दिन पहले ही कांग्रेस को अलविदा कहा है और उनके बारे में चर्चा है कि टीएमसी उन्हें उत्तर प्रदेश में कोई बड़ी जिम्मेदारी दे सकती है। ललितेश कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के क़रीबी थे और उत्तर प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष भी थे। 

ललितेश सियासी रसूख वाले परिवार से आते हैं। उनके दादा कमलापति त्रिपाठी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे थे और मिर्जापुर-वाराणसी के इलाक़े में उनका ख़ासा जनाधार था। 

Laliteshpati Tripathi May Join TMC  - Satya Hindi
ललितेश पति त्रिपाठी
वैसे तो सियासत में कुछ भी ग़लत नहीं होता या यूं कहें कि सियासत के शब्दकोष में ग़लत जैसा शब्द ही नहीं है। लेकिन फिर भी एक ओर तो ममता बनर्जी दिल्ली आकर सोनिया व राहुल गांधी से मिलती हैं, बीजेपी के ख़िलाफ़ एक बड़ा फ्रंट बनाने की बात मीडिया के सामने कहती हैं, वहीं दूसरी ओर वह सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी कांग्रेस को कमजोर करती दिखाई देती हैं। 

निश्चित रूप से ऐसे में जब वे राज्यों में कांग्रेस के क्षत्रपों पर डोरे डालेंगी तो किसी भी फ्रंट में कांग्रेस का उनके साथ आना संभव नहीं होगा। 

हाल ही में हुई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में भी यह बात उठी थी कि ममता बनर्जी कांग्रेस के नेताओं को टीएमसी में शामिल कर रही हैं। 

Laliteshpati Tripathi May Join TMC  - Satya Hindi

दीदी की सियासी ख़्वाहिश 

पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में बड़ी जीत हासिल करने के बाद दीदी अब टीएमसी का विस्तार करना चाहती हैं। उनकी कोशिश 2024 के आम चुनाव तक टीएमसी को कांग्रेस की जगह पर मुख्य विपक्षी दल बनाने की है और इसके लिए वह जी-जान से जुटी हुई हैं। 

ममता की नज़र गोवा, उत्तर प्रदेश के अलावा त्रिपुरा पर भी है। साथ ही वह असम, मेघालय सहित कई और राज्यों में भी कांग्रेस व अन्य दलों से मजबूत नेताओं को लाकर टीएमसी को कांग्रेस का विकल्प बनाना चाहती हैं।

प्रशांत किशोर की भूमिका 

इस तरह की ख़बरें भी आम हैं कि कांग्रेस नेताओं के टीएमसी में जाने को लेकर पर्दे के पीछे से जो शख़्स भूमिका निभा रहा है, उसका नाम प्रशांत किशोर है। प्रशांत किशोर चुनावी रणनीतिकार हैं और बीजेपी, कांग्रेस सहित तमाम दलों के लिए काम करने के बाद इन दिनों उनकी टीम ममता बनर्जी के लिए काम कर रही है जबकि वे कांग्रेस में आने के इच्छुक और पार्टी को सलाह देते दिखाई देते हैं। 

राजनीति से और ख़बरें

हालांकि पश्चिम बंगाल से बाहर टीएमसी का कोई आधार नहीं है लेकिन फिर भी ममता बनर्जी की कोशिश है कि वह 2024 में बंगाल की सारी लोकसभा सीटें और बाहर के राज्यों से दो-चार सीटें झटककर टीएमसी को पहले या दूसरे नंबर की मुख्य विपक्षी पार्टी बना दें और कांग्रेस को पीछे धकेल दें। 

निश्चित रूप से ऐसे वक़्त में जब कांग्रेस कमजोर हो रही है तो उसके नेताओं को तोड़ना सियासी कुटिलता ही है। यही काम बीजेपी भी इतने सालों से कर रही है और अब टीएमसी भी। 

कांग्रेस के नेताओं को टीएमसी में शामिल कर अपनी पार्टी को मज़बूत करने की ममता बनर्जी की यह क़वायद निश्चित रूप से विपक्षी एकता को कमज़ोर करेगी और ये बात ममता बनर्जी को भी समझनी होगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें