loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/आरजेडी/वीडियो ग्रैब

मिट जाएँगे, लेकिन पीछे हटेंगे नहीं: लालू यादव

लालू प्रसाद यादव जब तीन साल बाद किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में नज़र आए और संबोधन दिया तो उनके तेवर बदले नहीं थे। वह शारीरिक रूप से कमजोर और उनकी आवाज़ थोड़ी लड़खड़ाती हुई ज़रूर थी, लेकिन बात रखने के तेवर वही थे। उन्होंने पार्टी के स्थापना दिवस कार्यक्रम में कहा कि 'मैं विश्वास दिलाना चाहता हूँ कि हम पीछे हटने वाले नहीं हैं। मिट जाएँगे- मिट जाएँगे लेकिन हमलोग टूटने वाले नहीं हैं।'

चाहे अपने लोगों को संदेश देने की बात हो या फिर विरोधियों पर निशाना साधने की या फिर सामाजिक राजनीतिक मुद्दों पर बात रखने की, लालू यादव हर उन मुद्दों पर बेबाक होकर बोले- महंगाई से लेकर धार्मिक ध्रुवीकरण के ख़तरे और सामाजिक तानाबाना से छेड़छाड़ तक मुद्दे पर भी। 

ताज़ा ख़बरें

राष्ट्रीय जनता दल के 25 साल पूरे होने के मौक़े पर आयोजित कार्यक्रम में लालू यादव दिल्ली से ऑनलाइन यानी वर्चुअल रूप से शामिल हुए। वह तीन साल से ज़्यादा जेल में रहने के बाद हाल ही में ज़मानत पर रिहा हुए हैं। 

लालू ने पार्टी कार्यकर्ताओं में तो ऊर्जा भरने की कोशिश की ही, विरोधियों पर हमले भी किए। लेकिन जिस तरह के चुटकिले और हँसी-ठिठोली वाले तंज के अंदाज़ में वह भाषण देते रहे हैं, उस तरह का उनका अंदाज़ नहीं दिखा। 

लालू ने नीतीश कुमार और अन्य आलोचकों पर इसलिए निशाना साधा कि 1990 के दशक में उनकी और उनकी पत्नी राबड़ी देवी के शासन को बिहार में 'जंगल राज' या अराजकता का दौर का आरोप लगाया जाता है।
राजद नेता ने कहा कि हमने सुनिश्चित किया कि गरीब और कमजोर वर्ग मतदान केंद्रों तक पहुंचे और गरीबों को उनका हक मिलने पर वे (उनके आलोचक) नाराज हो गए।

उन्होंने कहा कि जब ग़रीबों के हाथ में सत्ता आई तो कुछ लोगों को दिक्कतें होने लगीं और इसलिए वैसे लोगों ने उसे जंगल राज कहना शुरू किया।

lalu yadav on rjd foundation day- will die but will not retreat - Satya Hindi

लालू ने कहा कि वह इन शक्तियों से लड़ेंगे, चाहे जो भी हो। लालू यादव ने नीतीश सरकार की यह कहकर आलोचना की कि उनकी सरकार में भ्रष्टाचार व्याप्त है। उन्होंने कोरोना संकट पर अव्यवस्था होने, राज्य में हर रोज़ हत्याएँ होने का भी आरोप लगाया। 

लालू ने बिना नाम लिए बीजेपी और आरएसएस पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सामाजिक तानाबाना को नष्ट किया जा रहा है और एक बार फिर नारा लगाया जा रहा है, 'अयोध्या के बाद मथुरा'। उन्होंने  बेरोज़गारी और महंगाई को लेकर भी सरकार की तीखी आलोचना की। पेट्रोल और डीज़ल की कीमतों का मुद्दा उठाया। उन्होंने बीजेपी सरकार में देश की ख़राब आर्थिक स्थिति का भी ज़िक्र किया। 

राजनीति से और ख़बरें

राजद नेता ने अपने बेटे तेजस्वी के नेतृत्व की भी जमकर तारीफ़ की। उन्होंने कहा, 'कम उम्र में तेजस्वी ने बिहार जैसे राज्य में नैया को पार लगाया, इसकी हमें उम्मीद नहीं थी। लेकिन तेजस्वी ने कर दिखाया है।' बता दें कि लालू यादव की ग़ैर-मौजूदगी में बिहार विधानसभा चुनाव हुआ, जो उनके छोटे बेटे तेजस्वी यादव की अगुआई में लड़ा गया और उनकी पार्टी ने उम्मीद से बेहतर प्रर्दशन किया। इसके साथ ही लालू ने यह भी उम्मीद जताई कि वह जल्द ही पार्टी समर्थकों के बीच होंगे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें