loader

प्रशांत किशोर के साथ चौथी बैठक, 72 घंटे में फ़ैसला लेगी कांग्रेस!

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने बुधवार को फिर से कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दिल्ली स्थित आवास पर पहुँचे। यह हाल के दिनों में कांग्रेस आलाकमान के साथ चौथी ऐसी मुलाक़ात है। पिछले एक हफ़्ते में इन घटनाक्रमों से माना जा रहा है कि प्रशांत किशोर की कांग्रेस में 'नौकरी' तय है। लेकिन इस पर आख़िरी फ़ैसला अभी होना बाक़ी है। रिपोर्टें हैं कि बुधवार की बैठक में प्रशांत किशोर के प्रस्ताव पर चर्चा हुई है और 72 घंटे में कांग्रेस की कमेटी में शामिल नेता इस पर अपनी राय देंगे। और फिर आख़िरी फ़ैसला सोनिया गांधी लेंगी। 

रिपोर्ट है कि बुधवार को प्रशांत किशोर के साथ बैठक करने वालों में उनके प्रस्ताव का मूल्यांकन करने वाली टीम के अलावा राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी थे। बैठक में वरिष्ठ नेता जयराम रमेश, अंबिका सोनी, केसी वेणुगोपाल और सोनिया गांधी ने भी भाग लिया।

ख़ास ख़बरें

प्रशांत किशोर और कांग्रेस के शीर्ष नेताओं की यह बैठक आगामी 2024 के लोकसभा चुनावों से पहले किशोर के पार्टी में शामिल होने के कयासों के बीच हुई है। प्रशांत किशोर द्वारा शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर हुई बैठक के दौरान लोकसभा चुनाव पर विस्तृत प्रेजेंटेशन दिया गया था।

बहरहाल, ताज़ा बैठक के बाद कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा है कि पार्टी प्रशांत किशोर के प्रस्तावों का 'मूल्यांकन' कर रही है। एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने कहा, 'कई अन्य लोगों के इनपुट पर भी विचार किया जा रहा है और अगले 72 घंटों के भीतर कांग्रेस अध्यक्ष को अंतिम रिपोर्ट सौंपी जाएगी।'

सूत्रों के अनुसार किशोर ने कहा है कि रणनीति के तहत कांग्रेस को लोकसभा की 370 सीटों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए और बाक़ी सीटों पर गठबंधन करना चाहिए। प्रशांत किशोर ने अपनी विस्तृत प्रजेंटेशन में कथित तौर पर कहा था कि कांग्रेस को बिहार, ओडिशा और उत्तर प्रदेश में अकेले लड़ना चाहिए, लेकिन तमिलनाडु, महाराष्ट्र, झारखंड और यहाँ तक कि बंगाल में गठबंधन करना चाहिए।

prashant kishor congress sonia gandhi meeting 2024 polls - Satya Hindi

माना जा रहा है कि प्रशांत किशोर को कांग्रेस का कायाकल्प करने के लिए लाया जा रहा है। हालाँकि शुरुआत में अधिकांश कांग्रेस नेताओं ने प्रशांत किशोर के प्रस्तावों को यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि यह गुजरात के लिए केवल एक बार का प्रस्ताव था। बाद में प्रशांत किशोर के संगठन IPAC ने कहा कि इसमें कांग्रेस का कायाकल्प और 2024 के आम चुनावों की रणनीति भी शामिल है। 

अभी यह साफ़ नहीं है कि प्रशांत किशोर बाक़ायदा कांग्रेस में शामिल होकर पार्टी पदाधिकारी के रूप में कोई बड़ी ज़िम्मेदारी निभाएंगे या सिर्फ़ चुनावी रणनीतिकार के रूप में कांग्रेस के साथ काम करेंगे। इस पर कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि पार्टी में ज्यादातर नेता प्रशांत किशोर को पार्टी में शामिल करने के बजाय बाहर से ही उसकी सेवा लेने के हक़ में हैं। हालाँकि उनके पार्टी में शामिल किए जाने के कयास भी लगाए गए हैं। 

राजनीति से और ख़बरें

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने दिल्ली पहुंचे अशोक गहलोत ने बुधवार को कहा कि प्रशांत किशोर देश के अंदर ब्रांड बन चुके हैं। गहलोत ने कहा कि प्रशांत किशोर का अनुभव विपक्ष को एकजुट करने में काम आ सकता है। 

वैसे, काफी कुछ कांग्रेस के चिंतन शिविर पर भी निर्भर करेगा। कांग्रेस का चिन्तन शिविर अगले महीने राजस्थान में होगा। लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उससे पहले एक 8 सदस्यीय कमेटी गठित की है, जो उन बिन्दुओं पर एक्शन लेगी या उन पर विचार करेगी, जिन्हें प्रशांत किशोर ने सुझाया है। इस 8 सदस्यीय कमेटी में पी चिदंबरम, अंबिका सोनी, प्रियंका गांधी वाड्रा, दिग्विजय सिंह, जयराम रमेश, मुकुल वासनिक, केसी वेणुगोपाल और रणदीप सुरजेवाला हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें