loader

कांग्रेस का पैदल मार्च, राहुल समेत कई सांसद हिरासत में

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की जांच एजेंसी ईडी के सामने पेशी के विरोध में कांग्रेस सांसदों ने विजय चौक से राष्ट्रपति भवन तक पैदल मार्च निकालने की कोशिश की। कांग्रेस सांसदों का कहना है कि वे राष्ट्रपति से मिलकर उन्हें एक ज्ञापन देना चाहते थे लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया। पुलिस के द्वारा रोके जाने पर कांग्रेस सांसद विजय चौक के पास ही धरने पर बैठ गए। इसके बाद पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। कुछ घंटों के बाद सभी सांसदों को रिहा कर दिया गया। 

मार्च में राहुल गांधी, इमरान प्रतापगढ़ी, केटीएस तुलसी, मनीष तिवारी, रंजीत रंजन, दीपेंद्र हुड्डा, प्रमोद तिवारी सहित कांग्रेस के तमाम सांसद मौजूद रहे। कांग्रेस सांसदों ने संसद परिसर में भी प्रदर्शन किया। 

कांग्रेस सांसदों ने कहा कि संसद में उनकी बात नहीं सुनी जाती और राष्ट्रपति के आवास पर भी उन्हें नहीं जाने दिया जा रहा है। इस दौरान पार्टी के तमाम सांसदों ने जमकर नारेबाजी की। 

Sonia Gandhi appeared ED questioning in National Herald case - Satya Hindi

बता दें कि राहुल गांधी व सोनिया गांधी से नेशनल हेराल्ड मामले में ईडी की पूछताछ के विरोध में कांग्रेस लगातार आंदोलन कर रही है। कांग्रेस की शीर्ष व राज्य इकाइयों ने पिछले दिनों में जोरदार प्रदर्शन किया है और मोदी सरकार पर जांच एजेंसी ईडी का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया है।

देशभर में कांग्रेस के कार्यकर्ता मंगलवार को भी सड़क पर उतरे हैं और जांच एजेंसी ईडी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। कांग्रेस का कहना है कि वह मोदी सरकार की तानाशाही के खिलाफ लड़ रही है।

Sonia Gandhi appeared ED questioning in National Herald case - Satya Hindi

'दफ्तर आने से रोक रही पुलिस'

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय माकन ने पार्टी मुख्यालय में हुई प्रेस कॉन्फ्रेन्स में कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं को राजघाट पर सत्याग्रह करने की इजाजत नहीं दी जा रही है और यह बेहद शर्म की बात है। उन्होंने कहा कि ऐसे में लोकतंत्र को खतरा पैदा हो गया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को मुद्दे उठाने से रोका जा रहा है और कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पार्टी दफ्तर आने से भी रोका जा रहा है।

कांग्रेस ने नेशनल हेराल्ड मामले में उसके नेताओं पर लगे आरोपों को बदले की राजनीति करार दिया है। पार्टी ने आरोपों को पूरी तरह बेबुनियाद बताते हुए कहा है कि जांच एजेंसी मोदी सरकार के इशारे पर विपक्षी नेताओं को निशाना बना रही है।

कांग्रेस ने कहा है कि वह ईडी और सीबीआई जैसी सरकार की कठपुतलियों से नहीं डरती। पार्टी ने कहा कि नेशनल हेराल्ड मामले में मनी लॉन्ड्रिंग नहीं हुई है।

राजनीति से और खबरें

राहुल की पेशी पर हुआ था प्रदर्शन

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की ईडी के सामने पेशी के दौरान कांग्रेस ने कई दिन तक राजधानी दिल्ली और तमाम बड़े शहरों में जोरदार प्रदर्शन किया था और इस दौरान कांग्रेस के कई नेताओं को हिरासत में भी लिया गया था। कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि उसके नेताओं के साथ दिल्ली पुलिस ने ज़्यादती की है और तब पुलिस के कांग्रेस मुख्यालय में घुसने को लेकर काफी बवाल हुआ था। 

ईडी ने राहुल गांधी से कई दिन तक और कई घंटों तक लगातार पूछताछ की थी और उनके बयान दर्ज किए थे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें