loader

सोनिया ने पार्टी सांसदों से कहा- एकजुटता बेहद ज़रूरी

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मंगलवार को पार्टी नेताओं को एकजुट रहने का संदेश दिया। सोनिया ने पांच चुनावी राज्यों में मिली हार को बेहद दुखद करार दिया। सोनिया का यह संदेश विशेष रूप से पार्टी में असंतुष्ट नेताओं के गुट G-23 के लिए था।

पांच राज्यों की करारी हार के बाद सोनिया गांधी ने G-23 गुट के नेताओं से बातचीत की थी और राहुल गांधी ने भी इस गुट के नेताओं को मिलने के लिए बुलाया था।

सोनिया ने पार्टी सांसदों की बैठक में कहा कि वह इस बात को जानती हैं कि चुनावी राज्यों में मिली हार के बाद सभी लोग बेहद निराश हैं। लेकिन हमें सभी स्तरों पर एकजुटता बनाए रखनी होगी और यह बेहद जरूरी है। उन्होंने भरोसा दिलाया कि इसे सुनिश्चित करने के लिए जो भी करना होगा उसे किया जाएगा।

ताज़ा ख़बरें

चुनावी हार के बाद कांग्रेस में फैसले लेने वाली सर्वोच्च इकाई सीडब्ल्यूसी यानी कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक बुलाई गई थी। सोनिया ने सीडब्ल्यूसी की बैठक का जिक्र करते हुए कहा कि उन्हें संगठन को मजबूत करने के लिए काफी सुझाव मिले हैं और वह उस पर काम कर रही हैं। उन्होंने चिंतन बैठक बुलाए जाने पर भी जोर दिया।

Sonia Gandhi to Party MPs need Unity At All Levels  - Satya Hindi

सोनिया ने कहा कि कांग्रेस के सामने कई चुनौतियां हैं और पार्टी का फिर से खड़ा होना लोकतंत्र और हमारे समाज के लिए बेहद जरूरी है।

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी इस बैठक में मौजूद रहे।

राजनीति से और खबरें

सिकुड़ रही कांग्रेस 

कांग्रेस लगातार चुनावी हार का सामना कर रही है। 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव के साथ ही बीते 8 सालों में अधिकतर चुनावी राज्यों में उसे हार मिली है और इस वजह से लोकसभा के साथ ही राज्यसभा में भी वह सिकुड़ती जा रही है।

हालात ऐसे हैं कि 17 राज्यों से कांग्रेस का एक भी नेता राज्यसभा में नहीं है। पार्टी के पास वर्तमान में राज्यसभा में 33 सांसद हैं। लेकिन राज्यसभा चुनाव के बाद यह संख्या 30 होने वाली है। सहयोगी दल डीएमके की मदद से यह अधिकतम 31 हो सकती है। 

ऐसा ही हाल लोकसभा में भी है जहां हरियाणा, आंध्र प्रदेश, राजस्थान, गुजरात, उत्तराखंड, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, सिक्किम, त्रिपुरा से कांग्रेस का एक भी लोकसभा सांसद नहीं है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें