loader

आरक्षण से 13 प्वाइंट रोस्टर नहीं हटा तो बिन पानी-साबुन मैल छुड़ा देंगे : तेजस्वी

विश्वविद्यालयों में 13 प्वाइंट रोस्टर सिस्टम को लेकर बढ़ते विरोध से बीजेपी के लिए लोकसभा 2019 की राह मुश्किल हो सकती है। यह मुश्किल खड़ी करेंगी एसपी, आरजेडी और बीएसपी। 13 प्वाइंट रोस्टर के ख़िलाफ़ तीनों पार्टियाँ एकजुट हो गई हैं। गुरुवार को संसद भवन परिसर में भी तीनों पार्टियों ने एक साथ प्रदर्शन किया। एसपी के मुलायम सिंह यादव, आरजेडी के मनोज कुमार झा, बीएसपी के सतीश मिश्रा जैसे कई नेता साथ आए। उन्होंने हाथों में तख्तियाँ लेकर प्रदर्शन किया। इससे साफ़ है कि उन्होंने इस मुद्दे को लपक लिया है और इस पर तीनों दल दोनों राज्यों में बड़े स्तर पर अभियान चलाने की तैयारी में हैं। इस मुद्दे पर एसपी, आरजेडी और बीएसपी का साथ आना बीजेपी के लिए लोकसभा चुनाव से पहले बड़ा झटका हो सकता है। इन तीनों दलों का बिहार और उत्तर प्रदेश में अच्छी पकड़ है और इन दोनों राज्यों में लोकसभा की 120 सीटें हैं।

तीनों दल 13 प्वाइंट रोस्टर के इस मुद्दे की अहमियत को अच्छी तरह समझते हैं। इस पर उनका ज़ोर कितना है, यह राजद के युवा नेता तेजस्वी यादव के ट्वीट से भी समझा जा सकता है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘राजद-सपा-बसपा के सांसदों के साथ संसद भवन परिसर में नेताजी ने मनुवादी 13 प्वाइंट रोस्टर के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया। अगर इन कट्टर जातिवादियों ने 200 प्वाइंट रोस्टर को बहाल नहीं किया तो यूपी-बिहार में बिना पानी-साबुन लगाए इनका मैल छुड़ा देंगे। ये सरकार खुलेआम डाका डाल रही है।’

13 प्वाइंट रोस्टर को लेकर तेजस्वी यादव बिहार की नीतीश सरकार पर भी हमलावर रहे हैं। 13 प्वाइंट रोस्टर प्रणाली के विरोध में और आरक्षण बढ़ाने की माँग को लेकर उन्होंने बिहार में एक यात्रा भी शुरू की है। वह नीतीश कुमार को आरक्षण को ख़त्म करने में बीजेपी को साथ देने का आरोप भी लगाते रहे हैं। उन्होंने ट्वीट कर नीतीश पर हमला किया। 

'दलित-पिछड़े सांसदों के क्षेत्र में घुसने नहीं दें'

तेजस्वी ने आरक्षण बढ़ाने की माँग नहीं करने वाले दलित-पिछड़े सांसदों के बहिष्कार करने की अपील की है। एक ब्लॉग लिखकर उन्होंने कहा है, 'अगर आपका सांसद पिछड़ा और दलित है तो उसे अपने क्षेत्र में मत घुसने दो, क्योंकि उन्होंने आपके और बहुजनों का आरक्षण बढ़ाने की माँग नहीं की। ऐसे कायर और डरपोक लोग आपके सांसद बनने के लायक नहीं हैं। अगर वे आपके हक़ के लिए अपनी पार्टी में आवाज़ ही नहीं उठा सकते तो ऐसे सांसदों को धिक्कार है। देश में जितने भी दलित-पिछड़े सांसद हैं उनका बॉयकॉट किया जाए। उन्हें क्षेत्र में घुसने नहीं दिया जाए। उनसे सवाल-जवाब किया जाए।'

13 प्वाइंट रोस्टर का विरोध क्यों?

आशंका है कि विश्वविद्यालयों में दलितों, पिछड़ों और आदिवासी तबक़ों के लिए कोटा प्रणाली के तहत आरक्षित शिक्षण पदों को लगभग समाप्त कर दिया जाएगा। यह आशंका दो कारणों से है। एक, 200 प्वाइंट वाली रोस्टर व्यवस्था की जगह 13 प्वाइंट वाली रोस्टर व्यवस्था करना। और दूसरा, विश्वविद्यालय के स्तर पर नहीं कर विभाग या विषय के स्तर पर आरक्षण करना। अब बताया जा रहा है कि नयी व्यवस्था में दलितों, पिछड़ों और आदिवासी तबक़ों की बारी ही नहीं आएगी। 

इसलिए है आशंका 

रोस्टर आरक्षण व्यवस्था में यह तय होता है कि कौन से पद किस श्रेणी में रखे जाएँगे। 200 प्वाइंट रोस्टर का अर्थ है कि 200 पद तक रोस्टर क्रमवार चलेगा, उसके बाद फिर 1 से शुरू होकर 200 पद तक जाएगा। इस हिसाब से 200 प्वाइंट रोस्टर फ़ॉर्मूले में क्रम वार सभी तबक़ों के लिए पद 200 नम्बर तक तय हो जाते हैं। लेकिन 13 प्वाइंट रोस्टर में ऐसा नहीं है।

  • 13 प्वाइंट रोस्टर के तहत नियुक्तियाँ विभाग/विषय स्तर पर होंगी। इसमें 14 पदों के बाद दुबारा एक नम्बर से रोस्टर शुरू होगा। इसमें सबसे पहले 3 पद अनारक्षित होंगे। उसके बाद चौथा पद ओबीसी होगा। फिर 5 और 6 नम्बर का पद अनारक्षित है। 7 नम्बर का पद दलित य़ानी एससी का है। 8वां पद ओबीसी का है। 9, 10 और 11 नंबर का पद अनारक्षित है। 12 नम्बर का पद ओबीसी का है। 13वाँ पर फिर अनारक्षित हो जाएगा। लेकिन देश के किसी भी कॉलेज या विश्वविद्यालय में 14 सीटें कभी भी नहीं आएँगी। जब भी विभाग में पद ज्ञापित होगा तो 1 या 3 या 4 या 6 पद ही ज्ञापित होंगे। ऐसे में 14वें नम्बर का पद आदिवासी यानी एसटी के लिए रिज़र्व होना चाहिए, जो आएगा ही नहीं, क्योंकि 13 पदों के बाद फिर 1 नम्बर से गिनती शुरू हो जाएगी।

दलित-पिछड़ों-आदिवासियों की बारी नहीं आएगी

विषयवार नियुक्तियाँ करने में एक दिक्कत है। चूँकि किसी भी विषय में एक, दो, तीन से अधिक पद नहीं होते हैं, इससे हर बार सामान्य वर्ग के उम्मीदवार की ही नियुक्ति होगी। ऐसे में दलित-पिछड़ों-आदिवासियों का नंबर ही नहीं आएगा। चूँकि बैकलॉग का प्रावधान नहीं है तो हर बार नियुक्ति सामान्य वर्ग से ही होगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें