loader

वाराणसी: मोदी से लेकर ममता और केजरीवाल डालेंगे डेरा

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में अब वाराणसी में दिग्गजों का जमघट लगने जा रहा है। वाराणसी और इसके आसपास के जिलों में सातवें चरण में 5 मार्च को मतदान होना है। इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 3 दिन तक वाराणसी में ही रुक कर बीजेपी के प्रत्याशियों के लिए चुनाव प्रचार करेंगे। इसके अलावा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव के साथ एक चुनावी रैली को संबोधित करेंगी।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, बीएसपी की सुप्रीमो मायावती और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी अपनी-अपनी पार्टी के प्रत्याशियों के लिए चुनाव प्रचार के रण में उतरेंगे।

ताज़ा ख़बरें

सातवें चरण में पूर्वांचल के 9 जिलों की 54 सीटों पर वोट डाले जाएंगे। इन जिलों में आजमगढ़, मऊ, गाजीपुर, जौनपुर, वाराणसी, मिर्जापुर, गाजीपुर, चंदौली और सोनभद्र शामिल हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी से ही सांसद हैं और इस नाते बीजेपी को उम्मीद है कि पार्टी को अंतिम चरण में इसका बड़ा फायदा मिलेगा।

राजभर सपा के साथ 

बीजेपी की मुश्किलें पूर्वांचल में इस बार इसलिए ज्यादा हैं क्योंकि सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के मुखिया ओमप्रकाश राजभर उसके साथ नहीं हैं। राजभर सपा के साथ हैं और सातवें चरण वाली कई सीटों पर ओमप्रकाश राजभर अच्छा-खासा दखल रखते हैं।

UP election seventh phase 2022 - Satya Hindi

बीजेपी को बड़ी जीत मिली थी

2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को पूर्वांचल की 61 में से 55 सीटों पर जीत मिली थी। इसके पीछे वजह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बीजेपी प्रत्याशियों के पक्ष में किया गया धुआंधार प्रचार ही था। लेकिन इस बार ओमप्रकाश राजभर के छिटकने के कारण बीजेपी को पिछली बार जैसी सफलता मिल पाएगी, यह कहना काफी मुश्किल है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 3 से 5 मार्च तक वाराणसी में ही रहेंगे और इस दौरान वह बूथ लेवल तक के कार्यकर्ताओं के साथ सीधा संवाद करेंगे। इस दौरान वह 20000 पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बातचीत करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी रोड शो भी निकालेंगे और चुनावी जनसभाओं को संबोधित करेंगे। 

राजनीति से और खबरें

मोदी के अलावा बड़ी नजर ममता बनर्जी की अखिलेश यादव के साथ होने वाली रैली पर भी रहेगी। ममता ने उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में अखिलेश यादव को समर्थन देने का एलान किया था और अंतिम चरण में जब वे बुधवार को अखिलेश यादव के साथ रैली करेंगी तो देखना होगा कि इसका क्या कोई फायदा सपा को मिलेगा।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें