loader

कश्मीरियों पर देश में कई जगह हमले, विरोध में आगे आए लोग

पुलवामा हमले के बाद देश के कई इलाक़ों में कश्मीरी छात्र-छात्राओं पर हमले की ख़बरें आ रही हैं। गुरुवार को हुए आतंकी हमले में 40 से ज़्यादा जवान शहीद हो गए थे। इस आतंकी घटना को कश्मीर के पुलवामा के ही रहने वाले आदिल अहमद डार ने अंजाम दिया था। देशभर में पुलवामा हमले के विरोध में लगातार दो दिनों से प्रदर्शन हो रहे हैं। 
ख़बरों के मुताबिक़, देहरादून में बजरंग दल और विश्व हिन्दू परिषद के सदस्यों ने पुलवामा हमले के विरोध में 12 कश्मीरी छात्रों को पीटा है। कुछ कश्मीरी युवाओं ने आरोप लगाया है कि मकान मालिक ने उनसे अपने घरों को खाली करने को कहा है। टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी ख़बर के मुताबिक़, पटना के बुद्ध मार्ग में कश्मीरी बाज़ार लगाने वाले लोगों पर हमला हुआ और उनकी दुकानें बंद करवा दी गईं। हाथ में रॉड लिए 30 से ज़्यादा युवाओं ने कश्मीरी लोगों को दुकानें छोड़कर भाग जाने की धमकी दी। हरियाणा के अंबाला में एक ग्राम पंचायत ने पुलवामा हमले के विरोध में ग्रामीणों से उनके घरों में किराये पर रह रहे कश्मीरी छात्रों से मकान खाली करवाने के लिए कहा है।
kashmiri student attack on across india people offer him help - Satya Hindi
हमलों से चिंतित कश्मीर के नेताओं ने शनिवार को केंद्र सरकार से कश्मीर के छात्रों की सुरक्षा बढ़ाने की अपील की थी। नेशनल कॉन्फ़्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने शनिवार को इस संबंध में गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाक़ात कर अपनी चिंता जाहिर की थी।
जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने भी ट्वीट कर कहा कि हमें ध्यान रखना होगा कि शरारती तत्व पुलवामा हमले का इस्तेमाल लोगों को परेशान करने के लिए न कर सकें। जेएनयू छात्र संघ की पूर्व उपाध्यक्ष शहला राशिद ने कहा कि पूरे देश भर से कश्मीरी छात्रों के ख़िलाफ़ हो रहे हमलों में बस एक बात कही जा रही है कि उन्होंने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए हैं। शहला ने कहा कि पुलिस भी इन झूठे आरोपों पर भरोसा कर रही है। शहला ने कश्मीरी छात्रों की मदद के लिए जारी किए गए नंबरों को भी ट्वीट किया है। 
kashmiri student attack on across india people offer him help - Satya Hindi
कश्मीरी नेताओं की चिंता को ध्यान में रखते हुए गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से जम्मू-कश्मीर के लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा है।
नई दिल्ली ज़िले के डीसीपी मधुर वर्मा ने कहा कि दिल्ली में सभी जगह सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। इसमें अल्पसंख्यक बहुल इलाक़े भी शामिल हैं। हम कश्मीरी सहित सभी लोगों की सुरक्षा करने का भरोसा देते हैं।
kashmiri student attack on across india people offer him help - Satya Hindi

बचाव में आगे आए लोग

कश्मीरी छात्रों पर हमले की ख़बरें सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर कई लोग उनके बचाव में आगे आए। उन्होंने कहा कि जो भी कश्मीरी डरे हुए हैं वो उनके घर पर आकर रह सकते हैं। ट्विटर पर चले हैशटैग #SOSKashmir पर हज़ारों लोगों ने ट्वीट किए।

वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्वीट कर कहा, ‘अगर किसी कश्मीरी छात्र पर हमला होता है तो वह मुझे कॉल या मैसेज कर सकते हैं। मेरा घर और दिल उनके लिए खुला है।'

kashmiri student attack on across india people offer him help - Satya Hindi
कश्मीरी लोगों की मदद के लिए सीआरपीएफ़ ने सीआरपीएफ़ मददगार नाम से ट्विवर हैंडल बनाया है। इस हैंडल से किए गए ट्वीट में कहा गया है कि कश्मीर से बाहर रह रहे लोग ज़रूरत पड़ने पर 24 घंटे और हफ़्ते में सातों दिन उन्हें कॉल कर सकते हैं। सीआरपीएफ़ ने टोल फ़्री नंबर भी 14411 जारी किया है। 
kashmiri student attack on across india people offer him help - Satya Hindi
कश्मीरियों की की मदद के लिए लोगों ने एक और हैशटैग #UnHateNOW भी चलाया और उन्हें मदद देने की पेशकश की। जाह्नवी मित्तल नाम की ट्विटर यूजर ने लिखा कि वह दक्षिणी दिल्ली में रहती हैं और उनके पास एक खाली कमरा है। कोई भी कश्मीरी छात्र जिसे डर लग रहा हो, वह उनसे संपर्क कर सकता है।
kashmiri student attack on across india people offer him help - Satya Hindi

वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त ने भी ट्वीट किया कि मेरा नंबर ट्विटर पर है और किसी भी कश्मीरी को मदद की ज़रूरत हो तो वह उन्हें कॉल या मैसेज कर सकता है। 

kashmiri student attack on across india people offer him help - Satya Hindi
वरिष्ठ पत्रकार अजीत अंजुम ने लिखा कि कश्मीरियों से मारपीट और बदसलूकी करने वाले ये कायर लोग किस जमात के हैं?  
kashmiri student attack on across india people offer him help - Satya Hindi

वरिष्ठ पत्रकार राहुल देव ने ट्वीट किया, ‘अगर कश्मीर हमारा है तो कश्मीरी भी हमारे हैं। अगर आप इसे महसूस नहीं कर सकते और उनसे अपनों की तरह बर्ताव नहीं कर सकते तो आप की भारतीयता खोटी, सतही और ओछी है।’

kashmiri student attack on across india people offer him help - Satya Hindi
प्रियदर्शी नाम के ट्विटर यूजर ने ट्वीट किया कि अगर एनसीआर इलाक़े में किसी को भी डर लग रहा हो तो वह उनके साथ आकर रह सकता है। इस तरह और भी कई ट्विटर यूजर ने कश्मीरी छात्रों को मदद करने की बात कही। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पुलवामा हमला से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें