loader

भगवंत मान को सीएम का चेहरा घोषित करने में क्यों हिचक रहे हैं केजरीवाल?

पंजाब कांग्रेस के भीतर चल रहे जबरदस्त झगड़ों के कारण ख़ुशी से उछल रही आम आदमी पार्टी के अंदर भी हालात ठीक नहीं हैं। पंजाब में पार्टी के कार्यकर्ता सांसद भगवंत मान को मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित करने की मांग कर रहे हैं। लेकिन न जाने क्यों पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल इसमें देर कर रहे हैं। इस वजह से मान के समर्थकों के सब्र का बांध टूट रहा है। 

केजरीवाल लगातार पंजाब के दौरे कर रहे हैं। 2017 में अपने पहले ही चुनाव में मुख्य विपक्षी दल बनने में कामयाब रही आम आदमी पार्टी को उम्मीद है कि इस बार उसके भाग्य का छींका फूट सकता है। केजरीवाल दिल्ली के बाहर आम आदमी पार्टी के विस्तार के लिए पूरा जोर लगा रहे हैं। इसमें भी उनका फ़ोकस पंजाब पर ज़्यादा है। 

ताज़ा ख़बरें

लेकिन मुद्दा मुख्यमंत्री के चेहरे का है। हाल ही में पंजाब के दौरे पर आए केजरीवाल से पत्रकारों ने सवाल पूछा कि आपका मुख्यमंत्री का चेहरा कौन होगा तो केजरीवाल ने सिर्फ़ इतना कहा कि हम ऐसा चेहरा घोषित करेंगे, जिस पर पंजाब की जनता को गर्व होगा। 

मुख्यमंत्री पद का चेहरा घोषित करने में देर होने से भगवंत मान के समर्थक परेशान हैं और कई बार प्रदर्शन भी कर चुके हैं। उनका कहना है कि मान को चेहरा नहीं बनाया गया तो पार्टी को इसका सियासी खामियाजा भुगतना होगा। 

Bhagwant Mann CM face in AAP Punjab  - Satya Hindi

हालांकि केजरीवाल इस बात का एलान कर चुके हैं कि मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार सिख ही होगा लेकिन वह कौन होगा और वे कब इसका एलान करेंगे, इस बारे में उन्होंने कुछ नहीं कहा है। 

भगवंत मान दो बार सांसद चुने जा चुके हैं और आम आदमी पार्टी की पंजाब इकाई के प्रधान भी हैं। मान भी चाहते हैं कि उन्हें पंजाब में चेहरा घोषित किया जाए। कहा जाता है कि इसमें देरी होने से वह नाराज़ हैं। 

केजरीवाल अपने भाषणों में भगवंत मान की तारीफ़ भी करते हैं लेकिन इसके बाद भी अब जब पंजाब के चुनाव में सिर्फ़ 4 महीने का वक़्त बचा है तो केजरीवाल मान पर दांव लगाने में क्यों हिचक रहे हैं।

पहले यह कहा जा रहा था कि नवजोत सिंह सिद्धू आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री पद का चेहरा सकते हैं लेकिन सिद्धू ने जिस तरह का माहौल पंजाब कांग्रेस में बनाया है, उससे केजरीवाल उन पर हाथ रखने में डरेंगे। 

पंजाब से और ख़बरें

किसान आंदोलन से उम्मीद 

मोदी सरकार के कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ चल रहे आंदोलन के कारण भी आम आदमी पार्टी को पंजाब में उसकी सरकार बनने की उम्मीद है। पंजाब के किसान जब दिल्ली के सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर पहुंचे थे तो केजरीवाल सरकार और आम आदमी पार्टी के नेताओं ने उनके लिए ज़रूरी इंतजाम किए थे। 

केजरीवाल ने ख़ुद कई बार सिंघु बॉर्डर पर जाकर दिल्ली सरकार की ओर से किसानों के लिए किए इंतजामों की समीक्षा की थी और वह किसानों के समर्थन में एक दिन के अनशन पर भी रहे थे।

कांग्रेस ने दलित सिख समुदाय से आने वाले चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाकर बड़ा दांव खेला है। ऐसे में केजरीवाल दलित सिख वर्ग से या फिर जट्ट सिख वर्ग के किस नेता को मुख्यमंत्री पद का चेहरा बनाएंगे, इस पर सभी की नज़रें लगी हैं। 

देखना होगा कि केजरीवाल कब मुख्यमंत्री के चेहरे का एलान करते हैं, किस नेता को यह मौक़ा देते हैं। लेकिन यह ज़रूर कहा जा सकता है कि अगर भगवंत मान को पार्टी ने चेहरा नहीं बनाया तो उनके समर्थक बग़ावत कर सकते हैं और पार्टी को इससे कई सीटों पर नुक़सान हो सकता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें