loader
प्रतीकात्मक तसवीर

एक बेटा अफ़सर, दूसरा नेता; लावारिस माँ को कीड़े तक पड़ गए!

क्या इसकी कल्पना की जा सकती है कि जिसका एक बेटा अफ़सर, दूसरा रसूख वाला नेता और पोती भी अफ़सर हो, उसको लावारिस छोड़ दिया जाए और शरीर में कीड़े तक पड़ जाएँ! वैसे, शहरों में बढ़ते वृद्धाश्रम और उनमें बुजुर्गों की बढ़ती संख्या को देखकर यह मामला अजीब भी नहीं लगता। लेकिन पंजाब क्षेत्र का यह मामला दिल को झकझोर देने वाला है।

यह मामला क़रीब एक सप्ताह पहले का है जब पंजाब के श्री मुक्तसर साहिब क्षेत्र में बूड़ा गुज्जर रोड पर एक बुजुर्ग महिला लावारिस हालत में मिली थीं। उनकी उम्र क़रीब 80 साल की थी। उनके सिर में कीड़े पड़े हुए थे। न खाने-पीने का ठिकाना और न ही कोई देखभाल करने वाला। जब राहगीरों ने देखा तो उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। जब वृद्धा महिला के भरेपूरे और संपन्न परिवार का पता चला तो लोग हैरान रह गये। 

ताज़ा ख़बरें

एक रिपोर्ट के मुताबिक़ लोगों का कहना था कि महिला काफ़ी दिनों से सड़क किनारे खाली मैदान में ईंटों की झोपड़ी बनाकर रह रही थीं। लेकिन एक दिन जब लोगों ने देखा कि उनकी हालत ज़्यादा ख़राब है तो पुलिस और एनजीओ की मदद से महिला को अस्पताल पहुँचाया गया। 

बाद में यह मामला सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। जानकारी मिलने पर एक बेटा अस्पताल में भर्ती बुजुर्ग महिला के पास पहुँचा। 'आजतक' की रिपोर्ट के अनुसार, वृद्ध महिला को अपने साथ फरीदकोट ले गया लेकिन बाद में सोमवार सुबह उनकी मौत हो गई। महिला का अंतिम संस्कार कर दिया।

'दैनिक जागरण' की एक रिपोर्ट के मुताबिक़, उनका एक बेटा आबकारी विभाग में है तो दूसरा नेता और पोती भी अफ़सर है। रिपोर्ट के अनुसार, महिला के बेटे ने बताया कि उसने अपनी माँ को संभालने के लिए किसी व्यक्ति को रखा हुआ था जिसे वह चार हज़ार रुपए मासिक देता था। रिपोर्ट के अनुसार उसने कहा कि उसे नहीं पता कि उसकी माँ वहाँ कैसे पहुँच गई। उसने दावा किया कि उसकी पत्नी को डायलसिस है तथा उसका बेटा छोटा होने के कारण वह उसे संभालने में असमर्थ था इसलिए उसने ऐसा किया। रिपोर्ट के अनुसार, उसने अपने नेता भाई के बारे में कुछ भी बताने से इनकार कर दिया।
पंजाब से और ख़बरें

'दैनिक जागरण' की रिपोर्ट के अनुसार महिला की मौत की जाँच के आदेश दिए गए हैं और एसडीएम वीरपाल कौर को जाँच सौंपी गई है।

पंजाब के श्री मुक्तसर साहिब क्षेत्र का यह मामला समाज के एक हिस्से के उस बदनुमा चेहरे को उजागर करता है जो आम व्यक्ति को हैरान भी करता है और परेशान भी। और यह संवेदनशील लोगों के दिल को झकझोरता भी है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें