loader

राजस्थान: फिर होगी महाभारत?, पायलट के मीडिया मैनेजर, पत्रकार के ख़िलाफ़ FIR दर्ज 

कांग्रेस आलाकमान के बीच में कूदने के बाद राजस्थान के सियासी दिग्गजों अशोक गहलोत और सचिन पायलट का झगड़ा जैसे-तैसे शांत हो पाया था। लेकिन तब यही कहा गया था कि तलवारें बस म्यान में गयी हैं और किसी भी वक़्त बाहर आ सकती हैं क्योंकि राजनीति में चार दशक से ज़्यादा वक्त का सियासी तजुर्बा रखने वाले अशोक गहलोत नौजवान सचिन पायलट से शिकस्त नहीं खाना चाहते। 

हुआ यूं है कि गहलोत सरकार ने ठंडी पड़ चुकी आग में घी डाल दिया है। राजस्थान पुलिस ने सचिन पायलट के मीडिया मैनेजर लोकेंद्र सिंह और आज तक न्यूज़ चैनल के पत्रकार शरत कुमार के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज की है। 

ताज़ा ख़बरें

पुलिस का आरोप है कि ये लोग जैसलमेर के होटल में ठहरे विधायकों के फ़ोन टैप किए जाने को लेकर भ्रामक और ग़लत ख़बरें फैला रहे थे। राजस्थान में चले पॉलिटिकल ड्रामे के दौरान पायलट कैंप ने आरोप लगाया था कि अशोक गहलोत अपने ही खेमे के विधायकों के फ़ोन टैप करवा रहे हैं। हालांकि राजस्थान पुलिस ने इससे इनकार किया था। 

याद दिला दें कि गहलोत ने अपने कैंप के विधायकों को जयपुर और जैसलमेर जबकि पायलट ने अपने विधायकों को मानेसर में रखा था। 

पायलट गुट की ओर से इस बारे में एक डॉक्यूमेंट भी जारी कर दावा किया गया था कि अजायब इलेक्ट्रॉनिक्स की ओर से सूर्यगढ़ रिजॉर्ट में चार जैमर भी लगाए गए हैं। पायलट गुट की ओर से कहा गया था कि रिजॉर्ट के इंटरकॉम से की जा रही कॉल्स को रिकॉर्ड किया जा रहा है। 

अगस्त में हुए इस सियासी घमासान के बाद अब 1 अक्टूबर को दर्ज एफ़आईआर में पुलिस अफ़सर सत्यपाल सिंह ने कहा है कि कांस्टेबल सुरेंद्र यादव ने उसे दिखाया कि जैसलमेर में ठहरे विधायकों के फ़ोन रिकॉर्ड किए जाने को लेकर वॉट्स ऐप पर फ़ेक न्यूज़ शेयर की जा रही है। सत्यपाल सिंह जयपुर पुलिस कमिश्नर के ऑफ़िस में तैनात हैं। 

एफ़आईआर में कहा गया है कि एसएचओ सुरेंद्र पंचोली ने जब इस मामले की तहकीकात की तो उन्होंने पायलट के मीडिया मैनेजर लोकेंद्र सिंह और पत्रकार शरत कुमार के बयान दर्ज किए और इस संबंध में पत्रकार द्वारा दिखाई गई टीवी रिपोर्ट को भी हूबहू लिखा। एफ़आईआर में कहा गया है कि लोकेंद्र सिंह कोई न्यूज़ एजेंसी चलाते हैं। लोकेंद्र सिंह का बयान 20 अगस्त को दर्ज किया गया था। 

एफ़आईआर के मुताबिक़, जांच से यह साफ है कि लोकेंद्र सिंह और शरत कुमार फ़ेक न्यूज़ फैलाने के लिए जिम्मेदार हैं। हालांकि इस फ़ेक न्यूज़ के सोर्स को लेकर इसमें कुछ नहीं कहा गया है। लेकिन लोगों को हैरानी इस बात की है कि अगस्त की घटना को लेकर अब जाकर एफ़आईआर दर्ज करने की क्या वजह है।

शरत कुमार का कहना है कि सभी न्यूज़ चैनल्स ने यह स्टोरी सुबह से शाम तक चलाई थी लेकिन एक ही चैनल को क्यों निशाने पर लिया जा रहा है।  

राजस्थान से और ख़बरें

एफ़आईआर में यह भी कहा गया है कि लोकेंद्र सिंह और शरत कुमार पर आरोप है कि उन्होंने फ़ेक न्यूज़ स्टोरी बनाई और बिना कोई पड़ताल किए 7 अगस्त को इसे सोशल मीडिया पर चला दिया। एफ़आईआर के मुताबिक़, पुलिस राजस्थान पत्रिका और दैनिक भास्कर के दफ़्तर पहुंची तो उन्होंने कहा कि उन्होंने लोकेंद्र सिंह की न्यूज़ एजेंसी और आज तक की ख़बर के आधार पर ऐसी ख़बर छापी। 

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, पायलट के करीबी सूत्रों का कहना है कि राहुल गांधी पंजाब में कहते हैं कि उन्हें फ्री प्रेस और कुछ अहम संस्थान दे दिए जाएं तो मोदी सरकार ज़्यादा दिन नहीं रहेगी लेकिन राजस्थान में तो गहलोत मोदी की ही तरह बर्ताव कर रहे हैं। 

कांग्रेस आलाकमान के लिए सिरदर्द

कांग्रेस आलाकमान के लिए राजस्थान बहुत बड़ा सिरदर्द है क्योंकि पायलट की सियासी ख़्वाहिश राजस्थान का मुख्यमंत्री बनने की है लेकिन गहलोत अपने बेटे वैभव गहलोत और समर्थकों को सत्ता सौंपना चाहते हैं। पायलट को दिल्ली बुलाकर संगठन में जिम्मेदारी देने की बात भी चली लेकिन अभी तक ऐसा नहीं हुआ है। बहरहाल, एक जंगल में दो शेर नहीं रह सकते और इनमें से देर-सबेर एक ना एक को तो जाना ही होगा। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजस्थान से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें