loader

तनिष्क का बहिष्कार करने वाले क्या ताजमहल को त्याग देंगे?

मिटा दो प्यार को कि उसे इश्क नाम मत दो

मोहब्बत कह देने से क्या जज्बात बदलते हैं

इश्क का ढाई है तो प्यार ने भी ढाई ही पाया है 

खुले आसमान की उड़ान को बाँहों में मत समेटो।

विज्ञापन में अपील का बड़ा महत्व होता है। अपील यानी उस दिखावट में आपके मन के किसी भाव को इस तरह छूना कि बस आप एड देखते ही मुरीद हो जाएँ। हमें तो बस फलाँ चीज़ चाहिए ही अभी। सलाम है उस इंसान को जिसने बड़ी ख़ूबसूरती से तनिष्क के इस विज्ञापन को क्राफ्ट किया। दिल की जिस रग को वो छूना चाहता था बस वहीं जाकर तेज़ी से दबा दिया। असर इतना कि हिंदुस्तान भर का मीडिया ख़ासकर सोशल मीडिया पर बहस का एक मज़बूत टॉपिक मिल गया।

सम्बंधित ख़बरें

ये कौन सी तानाशाही है कि हम स्वीकार नहीं कर सकते कि किसी मुसलिम परिवार में एक हिंदू लड़की ब्याही गई है। जबकि आप एक ऐसी सोसायटी में जी रहे हैं जहाँ ऐसा बिरला कुछ नहीं रह गया है। और लानत है उस कंपनी पर भी जो ‘एकत्वम’ नामक ख़ूबसूरत नाम देने के बावजूद लोगों के विरोध के कारण उस विज्ञापन फ़िल्म को हटा लेती है। विड्रॉ कर लेती है। आख़िर ऐसा क्यों? तनिष्क के मालिक अपने इस ख़ूबसूरत निर्णय के लिए लड़ नहीं पाए? काश हम इस वृहद कैनवास पर उकेरी गई विलक्षण कृति को संकुचित मानसिकता से परे समझ पाते। देख पाते ससुराल में भी हाथ भर चूड़ियाँ और माँग भर सिंदूर लिए सोलह शृंगार किए उस नई नवेली दुल्हन की मुस्कुराहट को।

क्यों हम स्वीकार नहीं कर लेते जो सच है। क्या हम दावे के साथ कह सकते हैं कि हम जिस समाज में रहते हैं वहाँ हमने ऐसे कोई उदाहरण नहीं देखे हैं। अपने इस तानाशाही रवैये पर इतरा रहे ये लोग दुनिया के आश्चर्यों में शामिल ताजमहल को अपने देश का होने से इंकार क्यों नहीं कर देते। क्यों अमीर खुसरो आज भी गाए जाते हैं? क्यों आमिर ख़ान साहब से लेकर बड़े ग़ुलाम अली ख़ां साहब, छोटे ग़ुलाम अली ख़ां साहब को नकार नहीं देते। क्यों कबीर का ज़िक्र हम हिंदोस्ताँ में करते हैं। 

तानसेन को क्यों तानसेन के नाम से जानते हैं, पुकारो उनके असली नाम रामतनु से। हम क्यों नहीं मान लेते कि यदि प्रेम और प्यार के ढाई अक्षर हैं तो इश्क का ढाईपन उसके स्वाद को कम नहीं करता।

इस संदर्भ को सोचते हुए याद आती है अम्मा की दुरदुरिया। यूपी में दुरदुरिया चबाई जाती हैं। जो औसान बीबी से मन्नत के बाद एक की जाने वाली रस्म है। हमारे कट्‌टर हिंदू घरों की महिलाएँ क़रीबन हर महीने और घर में होने वाले हर शादी-ब्याह के मौक़ों पर इसकी पूजा करती हैं। जो पूरी तरह हिंदू रीति-रिवाजों के साथ की जाती हैं। इसमें न्यौती हुई महिलाएँ यह कार्यक्रम पूरा न होने तक पानी-चाय नहीं लेतीं। पूरे पारंपरिक परिधानों में सजीं हाथ भर भर चूड़ियाँ और माँग में चौड़ा सिंदूर भरे अपने संतान और सुहाग की कामना इस पूजा में करती हैं। और मजे की बात यह है कि ये औसान बीबी औसान मैया का रूप ले चुकी हैं। इसे कई पीढ़ियों से किया जा रहा है और आज तक किसी का ध्यान इस ओर गया ही नहीं।

ऐसा बहुत कुछ है हमारी संस्कृति में जो वहाँ से आया है जहाँ का नाम लेना भी अब हमें मंजूर नहीं। यह अजीब से फ़ैसले लेने वाले सिरफिरे लोग इश्क और गम में मोहम्मद रफी के गाने सुनना और गुनगुनाना क्यों छोड़ नहीं देते।

देखिए वीडियो, डर के माहौल से देश को ही ख़तरा!

ऐसी ही कई छोटी-छोटी बातें हैं जो यह बताती हैं कि बहुत सा कुछ जो आत्मसात हो चुका है उसे लाठी मारकर अलग करने की कोशिश की जा रही है। जबकि हमारे यहाँ कहावत है लाठी मारने से पानी अलग नहीं होता। तनिष्क का विज्ञापन उससे जुड़ी सारी बातें सुनना और मेहंदी हसन की ग़ज़लों का लुत्फ तक़रीबन एक साथ हुआ। किसी कन्सर्ट के बारे में बता रहे थे वे। अबके बिछड़े तो … कुछ रेअर कम्पोजिशन के बारे में। कहने लगे एक कार्यक्रम में इसे गाया और हिंदोस्ताँ के अज़ीम गायक मन्नाडे ने मेरी ख़ूब तारीफ़ की। तो अब क्या करें? 

मेहदी हसन साहब को क्या उनके देश से निकाल दिया जाता कि भई आपने किसी हिंदोस्तानी का ज़िक्र कैसे-क्यों किया। सारा मसला दिमाग़ की पैदाइश है।

काश! हम उस विज्ञापन की सोच और दिव्या दत्ता की पुरखुलूस आवाज़ की कद्र कर पाते। पर अब जब भी तनिष्क, वेस्टसाइड या जुडियो गए तो एक कसैला पन ज़रूर रहेगा मन में। 

पर सवाल वहीं का वहीं रह जाता है इस तरह छोटे दिमाग़, छोटी सोच लेकर हम कौन सी दुनिया बुनने जा रहे हैं। न तो आँख बंद कर लेने से सच्चाई बदलती है और र ही रेत में सिर घुसा लेने से दुनिया छोटी हो जाती है। इतिहास गवाह है कट्‌टरता रगों में दौड़ी तो पूरी संस्कृति नष्ट कर देती है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
ऋतु मिश्र
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पाठकों के विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें