loader

हैदराबाद: कोरोना से ठीक हो चुके लोगों को अस्पताल से घर वापस ले जाने नहीं आए परिजन 

कोरोना वायरस से संक्रमित किसी शख़्स को ठीक होने के बाद सबसे पहले अपने परिवार वालों से मिलने की इच्छा होती है। लेकिन अगर उसके परिवार वाले ही उसे घर वापस ले जाने से मना कर दें, तो उस पर क्या बीतेगी। न्यूज़ 18 के मुताबिक़, हैदराबाद में ऐसा एक नहीं 50 से ज़्यादा लोगों के साथ हुआ है। यहां परिजनों ने ही कोरोना सर्वाइवर्स को लेने से इनकार कर दिया। इन लोगों में 93 साल की एक बूढ़ी महिला भी हैं जो हैदराबाद के गांधी अस्पताल से उन्हें घर ले जाने के लिए अपने बेटों के आने का इंतजार कर रही हैं। 

न्यूज़ 18 के मुताबिक़, इन लोगों के अस्पताल से डिस्चार्ज होने के दौरान अस्पताल की ओर से कई बार इनके परिजनों को फ़ोन किया गया लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। 

ताज़ा ख़बरें

डिस्चार्ज किए गए कुछ मरीज अस्पताल के गेट पर अपने परिजनों का इंतजार करते रहे। घंटों इतंजार करने के बाद थक-हारकर उन्हें अस्पताल के पास ही दोबारा मदद मांगने के लिए जाना पड़ा क्योंकि उनके पास रहने के लिए कोई दूसरी जगह नहीं थी। 

न्यूज़ 18 के मुताबिक़, इन लोगों में से ज़्यादा उम्र के कुछ लोगों को अस्पताल में रुकने के लिए बेड दिए गए हैं और कुछ लोगों को एक दूसरे अस्पताल में बनाए गए क्वारेंटीन सेंटर में रखा गया है। 

राज्य से और ख़बरें

गांधी अस्पताल की नोडल अफ़सर डॉ. प्रभाकर राव ने न्यूज़ 18 से कहा, ‘ये सभी मरीज स्वस्थ हैं और उन्हें कोरोना के कोई लक्षण नहीं हैं। हमने उन्हें डिस्चार्ज कर दिया था और होम क्वारेंटीन के लिए फ़िट घोषित कर दिया था। लेकिन उनके परिजनों ने उन्हें घर ले जाने से इनकार कर दिया।’

राव ने कहा कि कुछ मामलों में मरीजों के परिजन उन्हें घर ले जाने के लिए तैयार तो हुए लेकिन इससे पहले उन्होंने अस्पताल से उनकी कोरोना टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट मांगी। जबकि आईसीएमआर की गाइडलाइंस के मुताबिक़, डिस्चार्ज से पहले टेस्ट करने की कोई ज़रूरत नहीं है।

कोरोना संकट के इस दौर में पहले भी ऐसी कई घटनाएं हुईं, जहां कोरोना के डर से परिजनों ने अपनों को ही घर में नहीं आने दिया। मध्य प्रदेश में ऐसी घटना सामने आई थी, जब बेटे ने कोरोना संक्रमित पिता के शव का अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया था और यहीं के एक दूसरे मामले में मां ने बेटी और दामाद को घर में नहीं आने दिया था। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राज्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें