loader
शौचालय में ठहरे मजदूर।

मध्य प्रदेश: फिर शर्मसार करने वाली तस्वीर, शौचालय में ठहरने को मजबूर हुए मज़दूर

मध्य प्रदेश को शिवपुरी ज़िले से शर्मसार करने वाली फिर एक तसवीर सामने आयी है। प्रवासी मज़दूरों के साथ पहले राजस्थान सरकार ने संगदिली दिखाई। मध्य प्रदेश में प्रवेश किया तो शिवराज सरकार के दावे हवाई साबित होते नज़र आए। लू के थपेड़ों और क़रीब 45 डिग्री के तापमान के बीच मजबूर मज़दूरों को सीमा पर बने शौचालयों में दिन बिताना पड़ा।

मामला राजस्थान के बाराँ और मध्य प्रदेश के शिवपुरी ज़िले स्थित सीमा का है। लॉकडाउन के बीच राजस्थान सरकार की बसें प्रवासी मज़दूरों को मध्य प्रदेश की सीमा पर छोड़कर वापस लौट रही हैं। चूँकि मध्य प्रदेश सरकार का आदेश है कि उसकी सीमा में कोई भी मज़दूर पैदल, साईकिल अथवा गैरवाज़िब सफर नहीं करेगा, लिहाज़ा सीमा पर मज़दूरों को रोक दिया जाता है। आगे का सफर इन्हें बस से कराया जाता है।

ताज़ा ख़बरें

सोमवार तड़के क़रीब तीन बजे मध्य प्रदेश की सीमा पर मज़दूरों को छोड़ा गया था। मध्य प्रदेश सरकार की ओर से सीमा पर इन्हें ठहराने और खाने-पीने के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई थी। मज़दूरों ने जैसे-तैसे रात तो आसमान के नीचे काट ली थी, लेकिन दिन होते ही इनकी परेशानियाँ बढ़ गईं।

प्रशासन की ओर से बताया गया था कि सभी को उनके गंतव्य तक पहुँचाने के लिए बसें शीघ्र आ जाएँगी। बसें नहीं आयीं। दिन चढ़ा। सूरज की तपिश बढ़ी। पारा 45 तापमान दिखाने लगा। लू चली। मजबूर मज़दूरों ने बचने के लिए अपने परिवार और छोटे-छोटे बच्चों के साथ ही सीमा पर बने पुरुष और महिला शौचालयों में डेरा जमाया।
साथ लाये राशन और संसाधनों के ज़रिये मज़दूरों ने सार्वजनिक शौचालयों की दीवारों से लगी छाँव में खाना पकाया। चूँकि धूप बेहद थी और लू चल रही थी, लिहाज़ा मज़दूरों ने खाना शौचालय के भीतर ही बैठकर खाया। कई लोगों ने शौचालयों के सामने गली में ही लेटकर अपनी थकान मिटाई।

भनक लगते ही मीडिया मौक़े पर पहुँच गया। मज़दूरों से उनकी कठिनइयों से जुड़ा पूरा ब्यौरा लिया। मौक़े पर मौजूद पुलिस और अन्य कर्मचारी मज़दूर परिवारों के अलावा मीडिया से कहते रहे, बसें जल्दी आ जाएँगी। क्षेत्र के एसडीएम को सूचना भेजने की बात भी उन्होंने कही। मज़दूरों का जमावड़ा सीमा पर लगा रहा। देर शाम बसें पहुँची। इसके बाद लाचार और बेबस मज़दूरों को आगे का सफर शुरू हो पाया।

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

सीएम ऑनलाइन थे तो हुई थी शानदार आवभगत

इसी सीमा पर दो सप्ताह पहले शिवपुरी ज़िला प्रशासन ने अभूतपूर्व इंतज़ाम किए थे। कोटा की शिक्षण संस्थाओं में कोचिंग करने वाले मध्य प्रदेश के विद्यार्थी लौटे थे। सरकार की पहल पर इन्हें मध्य प्रदेश वापस लाया गया था। कोटा से लौटे विद्यार्थियों से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ऑनलाइन बात की थी। ज़िले की कलेक्टर ने बच्चों की सीएम से सीधी बात कराई थी। ज़िले के अधिकांश आला अफ़सर यहाँ मौजूद रहे थे। बच्चों को सीमा पर रुकवाने और खिलाने-पिलाने से लेकर उनकी स्क्रीनिंग की चाक-चौबंद व्यवस्थाएँ की गई थीं। 

कांग्रेस आरोप लगा रही है कि मध्य प्रदेश की सरकार और अफ़सर इसी तरह का दिखावा कर रहे हैं। मजलूम मज़दूरों की सुध तभी ली जा रही है, जब मुख्यमंत्री या कोई बड़ा नेता ऑनलाइन अथवा मौक़े पर मौजूद हो। बाक़ी वक़्त मज़दूरों को उनके हाल पर ही छोड़ दिया जा रहा है।

शौचालय में क्वॉरंटीन किया था

शिवपुरी ज़िले से पहले भी एक मज़दूर परिवार को शौचालय में क्वॉरंटीन किए जाने की शिकायत सामने आ चुकी है। बाद में उस तसवीर पर ख़ूब विवाद हुआ और राजनीति हुई थी। सत्तारूढ़ दल बीजेपी ने आरोप लगाया था कि कुछ कांग्रेसियों ने सरकार को बदनाम करने के लिए पूरा मामला रचा था। जाँच भी बैठी थी। जाँच की रिपोर्ट अभी आना बाक़ी है।

'सत्य हिन्दी'
सदस्यता योजना

'सत्य हिन्दी' अपने पाठकों, दर्शकों और प्रशंसकों के लिए यह सदस्यता योजना शुरू कर रहा है। नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से आप किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है, जिसका नवीनीकरण सदस्यता समाप्त होने के पहले कराया जा सकता है। अपने लिए सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। हम भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें