loader

बाप-बेटे की मौत केस: तीन पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ बनता है हत्या का मामला - हाई कोर्ट

तमिलनाडु में बाप-बेटे की कथित रूप से पुलिस हिरासत में मौत के मामले में मद्रास हाई कोर्ट ने मंगलवार को कहा है कि इसमें तीन पुलिस कर्मियों के ख़िलाफ़ हत्या का मामला बनता है। कोर्ट ने बाप-बेटे की पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर यह टिप्पणी की है। मंगलवार को ही इस मामले में  सुनवाई के लिए तूतुकुड़ी के डीएसपी और अडिशनल एसपी मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच में पहुंचे। 

बाप-बेटे की दर्दनाक मौत (पी. जेयाराज और जे. बेनिक्स) के मामले को लेकर तमिलनाडु में ही नहीं, भारत भर में लोगों में जबरदस्त आक्रोश है। दोनों की साथनकुलम पुलिस स्टेशन में कथित रूप से पुलिस हिरासत में 22 जून को मौत हो गई थी।

ताज़ा ख़बरें
मद्रास हाई कोर्ट ने एएसपी डी. कुमार, डीएसपी प्रथापन और कांस्टेबल महाराजन के ख़िलाफ़ आपराधिक अवमानना की कार्रवाई प्रारंभ कर दी है। जन दबाव के बाद तमिलनाडु सरकार ने भी मामले की सीबीआई जांच के आदेश दे दिए हैं। 

गुंडागर्दी पर उतारू पुलिस

इस मामले में पुलिसिया गुंडागर्दी की एक और तसवीर सामने आई है। मद्रास हाई कोर्ट द्वारा इस मामले की जांच के लिए नियुक्त किए गए मजिस्ट्रेट भारतीदसान ने अदालत को लिखे गए शिकायती नोट में कहा है कि साथनकुलम पुलिस स्टेशन के अफ़सरों ने मामले से जुड़े सुबूत ख़त्म कर दिए हैं। इसके अलावा ये लोग जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं और इन्होंने जांच कर रही टीम को धमकाने की कोशिश भी की है। 

भारतीदसान ने अदालत से कहा है कि पुलिसकर्मियों के विरोध के कारण उन्हें और उनकी टीम को रविवार आधी रात को जांच को बीच में ही छोड़ना पड़ा और साथनकुलम पुलिस स्टेशन से बाहर निकलना पड़ा। 

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, मजिस्ट्रेट ने कहा है कि जब न्यायिक टीम ने डेली रजिस्टर और कुछ अन्य डॉक्यूमेंट्स मांगे तो एएसपी डी. कुमार और डीएसपी प्रथापन ने उनकी टीम में शामिल सहयोगियों को गालियां दीं और धमकाने की कोशिश की।

तमिलनाडु से और ख़बरें

‘खून से भीगे थे कपड़े’ 

इससे पहले रिश्तेदारों ने कहा था कि जेयाराज और बेनिक्स बुरी तरह घायल थे और उनके कपड़े खून से भीगे हुए थे। उन दोनों के कपड़े कई बार बदले गए लेकिन फिर भी वे खून से तरबतर हो रहे थे। मामले की जांच से जुड़े एक सीनियर अफ़सर ने कहा था कि शुरुआती जांच में पता चला है कि दोनों के कपड़े उतारे गए, पूरी रात उन्हें टॉर्चर किया गया और उनके मलाशय में डंडा डाला गया। उन्होंने कहा था कि बेनिक्स का ज़्यादा खून बहा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें