loader

तमिलनाडु : शशिकला ने किया राजनीति छोड़ने का एलान

ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके) की पूर्व प्रमुख वी. के. शशिकला ने राजनीति छोड़ने का एलान करते हुए कहा है कि वे कभी भी सत्ता या ऊँचे पद के पीछे नहीं भागीं। वे इस साल जनवरी में ही जेल से रिहा हुई थीं और इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव को प्रभावित करने की स्थिति में थीं। लेकिन इस बीच उन्होंने राजनीति से संन्यास लेने का एलान कर सबको चौंका दिया है। 
ख़ास ख़बरें
तमिलनाडु की दिवंगत मुख्यमंत्री जयललिता के नज़दीक रहीं शशिकला ने बुधवार शाम कहा, ''मैं तमिलनाडु में एआईएडीएमके की सरकार बनना सुनिश्चित करने के लिए राजनीति छोड़ रही हूँ। मैं पार्टी की जीत के लिए भगवान और मेरी बहन (जयललिता) से प्रार्थना करूंगी।'' 

राजनीति छोड़ने का एलान करते हुए उन्होंने कहा कि वे हमेशा तमिलनाडु के लोगों की भलाई के लिए काम करती रहेंगी और अम्मा (जयललिता) के बताए मार्ग पर चलेंगी। 

उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से एकजुट होने की अपील करते हुए कहा कि उन्हें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि तमिलनाडु में एमजीआर (एम. जी. रामचंद्रन) का राज चलता रहे। उन्होंने लोगों से अपील की कि वे हर हाल में द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) को चुनाव में हराएं। 

कार्यकर्ताओं से की अपील

शशिकला ने कहा कि अम्मा के कैडरों को डीएमके को हराने के लिए काम करना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि अम्मा का सुनहरा शासन वापस लौट आए। 

आम चुनाव 2019 में एआईएडीएमके ने बीजेपी के साथ क़रार किया था, दोनों दलों को बुरी शिकस्त मिली थी। तमिलनाडु की इस बड़ी पार्टी को लोकसभा में सिर्फ एक सीट से संतोष करना पड़ा था जबकि बीजेपी अपना खाता भी नहीं खोल पाई थी। 

शशिकला भ्रष्टाचार के आरोपों में जेल में थीं। इस साल जनवरी में रिहा हुई थीं। उन्होंने रिहा होते ही मुख्यमंत्री ई. के. पलानीस्वामी और उप-मुख्यमंत्री पन्नीरसेल्वम के ख़िलाफ़ मुक़दमे दायर कर दिए थे। इन मामलों की सुनवाई 15 मार्च से शुरू होने वाली है। 
शशिकला ने जयललिता की मृत्यु के बाद दिसंबर, 2016, में पार्टी में उनकी जगह ले ली थी। लेकिन उसके बाद उन्हें भ्रष्टाचार के एक मामले में चार साल की सज़ा सुनाई गई। लेकिन जेल जाने से पहले उन्होंने पलानीस्वामी को अपना उत्तराधिकारी चुन लिया। उस समय पलानीस्वामी और पन्नीरसेल्वम एक-दूसरे के विरोधी हुआ करते थे। लेकिन बाद में उन दोनों ने हाथ मिला लिया और शशिकला को पद से हटा दिया।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें