loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

नरसिंहानंद पर अभियान के बाद 'बुल्ली बाई' से निशाना बनाया गया: महिला एक्टिविस्ट

जिस बुल्ली बाई ऐप से सैकड़ों मुसलिम महिलाओं को निशाना बनाया गया था उसमें से एक हैदराबाद की मुसलिम महिला एक्टिविस्ट खालीदा परवीन भी हैं। वह 67 वर्ष की उम्र दराज महिला हैं। उन्होंने हैदराबाद पुलिस में 3 जनवरी को एफ़आईआर दर्ज कराई है। खालीदा परवीन की शिकायत के बाद आईपीसी की धारा 509 (एक महिला की शील भंग करने का इरादा) और 345 डी (पीछा करना) और आईटी अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है।

ओपन-सोर्स प्लेटफॉर्म गिटहब का इस्तेमाल करते हुए 'बुल्ली बाई' ऐप बनाई गई और इस पर मुसलिम महिलाओं की तसवीरें अपलोड की गई हैं। यह मामला तब सुर्खियों में आया जब पीड़ित महिलाएँ सोशल मीडिया पर सामने आईं और संवेदनशील लोगों ने इसको लेकर सोशल मीडिया पर ग़ुस्सा जाहिर किया है। 

ताज़ा ख़बरें

एक जानी मानी पत्रकार ने ट्विटर पर इस मामले को साझा किया है। उन्होंने दावा किया कि गिटहब पर 'सुल्ली डील्स' की तरह 'बुल्ली बाई' नाम का एक समूह बनाया गया जो मुसलिम महिलाओं की तसवीरें उनके सोशल मीडिया खातों से लेकर लोगों को उनकी 'नीलामी' में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करेगा।

जब ऑन लाइन इसकी शिकायत की गई तो शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी से लेकर एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी तक उन महिलाओं के समर्थन में आ गए। जब प्रियंका चतुर्वेदी ने शिकायत की तो आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि गिटहब ने यूजर को ब्लॉक करने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा था कि सीईआरटी और पुलिस अधिकारी आगे की कार्रवाई में समन्वय कर रहे हैं।

इसी बुल्ली बाई ऐप पर हैदराबाद की खालीदा परवीन को भी निशाना बनाया गया। वह कहती हैं कि बुल्ली बाई ऐप पर मुखर मुसलिम महिलाओं को निशाना बनाया गया है। 'द क्विंट' की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा कि 'यह कोई संयोग नहीं है कि मेरा नाम नरसिंहानंद की गिरफ्तारी के लिए ट्विटर पर प्रचार करने के एक दिन बाद सूची में आया।' 

परवीन ने 17 से 19 दिसंबर 2021 के बीच हरिद्वार में आयोजित एक 'धर्म सम्मेलन' में मुसलमानों के ख़िलाफ़ नफ़रती भाषण देने वाले कथित संत नरसिंहानंद सरस्वती के ख़िलाफ़ अभियान चलाया था।

हैदराबाद कार्यकर्ताओं के बीच खालिदा आपा (बहन) के नाम से मशहूर परवीन क़रीब चार दशकों से मानवाधिकार कार्यकर्ता हैं। उन्होंने कहा कि बुल्ली बाई ऐप ने विशेष रूप से मुखर मुसलिम महिलाओं को निशाना बनाया जो आवाज़ उठाती रही हैं। क्विंट से उन्होंने कहा, 'शाहीन बाग की मुसलिम महिलाओं ने महीनों तक एक साथ धरने पर बैठने के लिए अपना घर छोड़ दिया। उन्होंने देश को दिखाया कि मुसलिम महिलाएं एक ताकत हैं। दक्षिणपंथियों के लिए ऐसी महिलाएँ ख़तरा हैं।'

तेलंगाना से और ख़बरें

हैदराबाद में मुसलिम महिला पत्रकार को भी ऐप पर निशाना बनाया गया। उन्होंने ट्वीट किया था, 'भारत में एक मुसलिम महिला होने की दुर्भाग्यपूर्ण वास्तविकता यह है कि मैंने खुद को इससे भी बदतर के लिए तैयार किया है। कोई भी सावधानी बरतने पर भी हम तब तक नहीं बच पाएँगे जब तक हम फासीवादियों को उखाड़ फेंक नहीं देते।'

इनके समर्थन में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के हैदराबाद सांसद असदुद्दीन ओवैसी सामने आए।

रिपोर्ट के अनुसार, खालीदा परवीन ने जोर देकर कहा कि बुल्ली बाई ने उन महिलाओं को निशाना बनाया जिन्होंने केंद्र में भारतीय जनता पार्टी सरकार की मुखर आलोचना की है। उन्होंने कहा कि निशाना बनाए गए लोगों में वे महिलाएं भी शामिल हैं जिन्होंने हरिद्वार सम्मेलन की आलोचना की है। परवीन ने कहा कि उन्हें एहसास हो गया है कि मुसलिम महिलाएं सफलता हासिल करने तक वापस नहीं लौटेंगी, इसलिए वे ऐसी महिलाओं को चुप कराना चाहते हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तेलंगाना से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें