loader

ब्राह्मण वोट पर पकड़ बनाने के लिए कांग्रेस ने याद किया नरसिम्हा राव को?

एक दिवंगत कांग्रेसी नेता के नाम का फ़ायदा उठाने के कोशिश में सभी पार्टियाँ हैं जबकि कांग्रेस ही पीछे है। कुछ सलाहकारों की राय मानते हुए, लंबे सोच-विचार के बाद कांग्रेस आलाकमान ने पीवी के प्रति अपने रवैया बदलने का फ़ैसला लिया।
देश भर के ब्राह्मण वोट बैंक पर दुबारा कब्जा करने और दक्षिण में कमज़ोर होते आधार को मजबूत करने के मक़सद से ही कांग्रेस नेतृत्व ने अचानक पूर्व प्रधानमंत्री पी. वी. नरसिम्हा राव के प्रति अपना रवैया और दृष्टिकोण बदला है। 

पीवी की तारीफ!

जिस तरह से कुछ  ग़ैर-कांग्रेसी राजनीतिक पार्टियाँ पीवी के नाम पर राजनीतिक फ़ायदा उठाने की कोशिश में लग गयी हैं, उसने कांग्रेस नेतृत्व को अपनी रणनीति बदलने पर मजबूर किया है। इसी का नतीजा है कि पीवी की मृत्यु के बाद पहली पर गांधी परिवार ने पीवी की तारीफ की है। इस तारीफ ने सभी को चौंका दिया है।

तेलंगाना से और खबरें
पीवी से सोनिया गांधी की नाराज़गी जगजाहिर है। कई कारणों से पीवी के संबंध गांधी परिवार से ठीक नहीं रहे। गांधी परिवार पीवी को पसंद नहीं करता है और उसने हमेशा पूर्व प्रधानमंत्री से दूरी बनाये रखी।

पीवी की उपेक्षा

गांधी परिवार की पीवी से नाराज़गी की बात उस समय सभी को पता चल गयी थी जब उनके निधन के बाद उनके पार्थिव शरीर को न कांग्रेस मुख्यालय लाया गया और न ही उनका संस्कार दिल्ली में किया गया, जबकि पीवी आजीवन कांग्रेस में रहे, लंबे समय तक पार्टी अध्यक्ष रहे और पूरे 5 साल तक देश के प्रधानमंत्री भी।

प्रधानमंत्री बनने के बाद नरसिम्हा राव ने गांधी परिवार को ख़ास तवज्जो नहीं दी और उन्हें दरकिनार करते हुए कांग्रेस पर कब्जा करने की कोशिश की।
इसके बाद जब सोनिया गांधी कांग्रेस अध्यक्ष बनीं तब उन्होंने पीवी को पूरी तरह से नज़रअंदाज़ कर दिया। इसके बाद भी पीवी की जयंती हो या पुण्यतिथि, गांधी परिवार ने कभी उन्हें याद नहीं किया, कभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। 

पीवी के नाम पर राजनीति

वैसे भी मृत्यु के बाद पीवी भुला दिए गये। इस साल पीवी फिर राजनीति के केंद्र में हैं। 2020 उनका जन्म शताब्दी वर्ष है। इसी लिए कई लोग उन्हें याद कर रहे हैं।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव यानी केसीआर ने पीवी के नाम पर राजनीतिक ज़मीन मज़बूत करने की कोशिश की। उन्होंने ऐलान कर दिया कि तेलंगाना सरकार साल भर अपने खर्चे पर पीवी जन्म शताब्दी समारोह आयोजित करेगी। इस दौरान उनकी उपलब्धियों को यादगार बनाने के लिए एक स्मारक बनाया जाएगा।

तेलंगाना सेंटीमेंट

चूंकि पीवी तेलंगाना से हैं, केसीआर ने पीवी के जरिये तेलंगाना सेंटीमेंट पर अधिकार जमाने के मक़सद से नयी राजनीति शुरू कर दी। उधर बीजेपी के अलावा दूसरी बड़ी राजनीतिक पार्टियों के बड़े नेता भी एक पूर्णकालिक आजीवन कांग्रेसी नेता रहे पूर्व प्रधानमंत्री पीवी की जमकर तारीफ करने लगे।
कांग्रेस आलाकमान को लगा कि एक दिवंगत कांग्रेसी नेता के नाम का सभी फ़ायदा उठाने के कोशिश में हैं जबकि वह ही पीछे रह जा रही है। कुछ सलाहकारों की राय मानते हुए, लंबे सोच-विचार के बाद कांग्रेस आलाकमान ने पीवी के प्रति अपने रवैये को बदलने का फ़ैसला लिया। 

जन्म शताब्दी वर्ष

पहले तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस समिति को पीवी के जन्म शताब्दी वर्ष पर बड़े पैमाने पर साल भर कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति दी। फिर इसके बाद, पुरानी बातों को भुलाने का अहसास दिलाते हुए, पुरानी परंपरा तोड़ते हुए पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री की तारीफ की।
सोनिया गांधी ने स्वयं कहा कि पीवी का जन्म शताब्दी वर्ष हम सभी के लिए मौका है कि हम एक बहुत विद्वान व्यक्तित्व को याद करें। पीवी नरसिम्हा राव के साहसिक नेतृत्व के चलते देश कई चुनौतियों से पार पाने में सफल रहा।
यह बात कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष ने तेलंगाना कांग्रेस समिति को दिए अपने एक संदेश में कही। भले ही यह संदेश तेलंगाना के कांग्रेसी नेताओं के नाम था, लेकिन इसका उद्देश्य सभी को एक अलग संदेश देना था। संदेश था कि पीवी कांग्रेसी थे और उनकी कामयाबियाँ कांग्रेस की हैं, न कि किसी और की।

किसके पीवी?

संदेश था कि पीवी के नाम पर कांग्रेस का अधिकार है और वह ही उसका फ़ायदा उठाएगी। कांग्रेस नेतृत्व को समझ में आ गया कि अगर दूसरी राजनीतिक पार्टियाँ पीवी के नाम पर अपनी ज़मीन मज़बूत करेंगी तो नुक़सान उसे ही होगा, खासकर ब्राह्मण वोट बैंक और दक्षिण के 5 राज्यों के अपने वोट बैंक पर।
मौके की नज़ाकत को समझते हुए सोनिया गांधी और उनके बेटे राहुल गांधी ने पीवी को वापस कांग्रेस का बनना शुरू कर दिया है। चूंकि पीवी के प्रधानमंत्रित्व काल में मनमोहन सिंह वित्त मंत्री थे और आगे चलकर प्रधानमंत्री बने, कांग्रेस नेतृत्व  मनमोहन सिंह की भी तारीफ कर रहा है। 
पीवी के प्रति बदला रवैया और बदली रणनीति कांग्रेस को कितना फ़ायदा पहुँचाएगी इसका उत्तर समय देगा, लेकि पीवी के नाम पर राजनीतिक रोटियां सेकने से विरोधियों को रोकने के लिए पीवी को कांग्रेसी यथोचित श्रद्धांजलि देने में जुट गये हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दक्षिणेश्वर
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तेलंगाना से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें