loader

उन्नाव दुष्कर्म: पीड़िता बोली- बलात्कारी अरूण सिंह का टिकट वापस ले बीजेपी

बीजेपी गजब की पार्टी है। पहले इसने उन्नाव दुष्कर्म मामले में दोषी ठहराये गये पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी संगीता सेंगर को मैदान में उतारा तो अब पीड़िता से बलात्कार मामले में अभियुक्त अरूण सिंह को जिला पंचायत अध्यक्ष जैसे बड़े पद के लिए उम्मीदवार बना दिया है। 

हालांकि संगीता सेंगर को टिकट दिए जाने का जब जबरदस्त विरोध हुआ तो बीजेपी को टिकट वापस लेना पड़ा लेकिन दो महीने के अंदर ही उसने अरूण सिंह को टिकट देकर दिखा दिया है कि उसे लोग क्या कहते हैं, इसकी कोई परवाह नहीं है। पूरे देश भर में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के नारे के पोस्टर लगाने वाली इस पार्टी का असली चेहरा भी लोगों के सामने आ रहा है। 

ताज़ा ख़बरें

दुष्कर्म पीड़िता ने आरोप लगाया था कि जून, 2017 में जब वह नौकरी मांगने तत्कालीन विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के आवास पर गई थी तो सेंगर ने उसके साथ बलात्कार किया था। पीड़िता के परिवार ने कहा था कि बलात्कार मामले में विधायक और उसके साथियों ने पुलिस में शिकायत नहीं करने के लिए उन पर दबाव बनाया था। 

विधायक के भाई अतुल सिंह सेंगर व उसके साथियों ने पीड़िता के पिता के साथ मारपीट की थी और इसके बाद पुलिस हिरासत में पिता की मौत हो गई थी। मौत से पहले पीड़िता के पिता का एक वीडियो भी वायरल हुआ था जिसमें उन्होंने कहा था कि विधायक के भाई और उसके गुर्गों ने उन्हें पीटा था।

सेंगर का क़रीबी है अरूण सिंह 

टिकट हासिल करने वाले अरूण सिंह को कुलदीप सिंह सेंगर का बेहद क़रीबी बताया जाता है। अरूण सिंह को टिकट मिलने पर दुष्कर्म पीड़िता ने एक वीडियो जारी कर बीजेपी को ख़ूब खरी-खोटी सुनाई है और पूछा है कि वह उसके साथ है या कुलदीप सेंगर के साथ। 

पीड़िता ने वीडियो में कहा है, “बीजेपी दोषियों को टिकट दे रही है। मेरे पिता की हत्या में अरूण सिंह नामजद है और वह मेरी जान के लिए ख़तरा बना हुआ है। मैं सरकार से प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री से निवेदन करती हूं कि मेरे दोषियों को बीजेपी टिकट न दे और उनसे टिकट वापस ले ले।” 

‘दोषियों के साथ है सरकार’ 

पीड़िता ने कहा है कि सामूहिक दुष्कर्म मामले में और पिता की हत्या में अरूण सिंह शामिल है। इन लोगों ने हमारे पूरा परिवार को बर्बाद कर दिया है और सरकार अभी भी दोषियों का साथ दे रही है। 

पीड़िता ने आगे कहा कि एक ओर सरकार कहती है कि दोषियों को जेल के अंदर किया जाए और दूसरी ओर दोषियों को टिकट दे रही है। पीड़िता ने कहा कि अरूण सिंह की टिकट वापस ली जाए और ऐसा होता है तो वह सरकार की सदा आभारी रहेगी। 

Arun singh BJP candidate in unnao jila panchayat  - Satya Hindi

सेंगर का राजनीतिक रसूख 

चाहे संगीता सेंगर को पंचायत चुनाव में उम्मीदवार बनाना हो या फिर अरूण सिंह को जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर टिकट देना, बीजेपी सोच-समझकर यह कर रही है क्योंकि वह कुलदीप सेंगर के राजनीतिक प्रभाव का फ़ायदा उठाना चाहती है। सेंगर का इस इलाक़े में जबरदस्त राजनीतिक रसूख है। 

कुलदीप सिंह सेंगर के सियासी रसूख का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि लोकसभा चुनाव जीतने के बाद उन्नाव के सांसद साक्षी महाराज ने कुलदीप सेंगर से सीतापुर जेल में मुलाक़ात की थी। इस इलाक़े में सेंगर के ‘चेलों’ का भी बहुत ख़ौफ़ है।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

पंचायत चुनाव में करारी शिकस्त 

पंचायत चुनाव में बीजेपी पस्त हो चुकी है, खासकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में तो उसकी सियासी ज़मीन खिसक चुकी है। वह समाजवादी पार्टी से काफी पीछे रही है। इसे लेकर पार्टी में हड़कंप का माहौल है और बीते कुछ दिनों में हुआ सियासी घटनाक्रम इसकी गवाही देता है। 

पंचायत चुनावों में मिली हार को बीजेपी यह कहकर दबा देना चाहती है कि अधिकतर जिला पंचायतों में अध्यक्ष पद पर उसके प्रत्याशियों को जीत मिली है। इसके लिए वह साम-दाम, दंड-भेद का खुलकर सहारा ले रही है, ऐसी ख़बरें उत्तर प्रदेश में कई जगहों से आ रही हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें