loader

यूपी: एसपी-आरएलडी के गठबंधन में शामिल होगी रावण की पार्टी!

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार को लेकर चल रही तमाम सियासी चर्चाओं के बीच एक बड़ी ख़बर गठबंधन को लेकर सामने आई है। आज़ाद समाज पार्टी के प्रमुख चंद्रशेखर रावण ने कहा है कि उनकी पार्टी एसपी और आरएलडी के गठबंधन में शामिल हो सकती है। अगर यह गठबंधन बना तो पश्चिमी उत्तर प्रदेश में सबसे ज़्यादा मुश्किल बीजेपी को होगी क्योंकि यहां की सियासी ज़मीन उसके लिए उपजाऊ रही है और बीते कुछ चुनावों में उसने यहां ख़ूब वोट बटोरे हैं। 

‘बीजेपी को रोकेंगे’

रावण ने एनडीटीवी हिन्दी के साथ बातचीत में कहा कि उत्तर प्रदेश में जंगलराज चल रहा है और ऐसे में यहां बीजेपी को रोकने के लिए बड़े गठबंधन की ज़रूरत है। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि एसपी और आरएलडी के साथ उनकी पार्टी का गठबंधन ज़रूर हो सकता है। उन्होंने कहा कि इन दलों के साथ बातचीत जारी है और जल्द चीजें साफ होंगी। ऐसे में यही लगता है कि इसकी घोषणा होने में अब औपचारिकता ही बची है। 

ताज़ा ख़बरें

कौन हैं चंद्रशेखर रावण?

सहारनपुर से आने वाले चंद्रशेखर रावण ने कुछ साल पहले ही भीम आर्मी का गठन किया था और देश के कई राज्यों में उन्होंने इस संगठन का विस्तार किया। पिछले साल उन्होंने इसकी राजनीतिक शाखा बनाई और इसका नाम रखा- आज़ाद समाज पार्टी। 

चंद्रशेखर रावण ने दलितों के उत्पीड़न के मुद्दों पर आवाज़ उठाई है और हाथरस बलात्कार मामले सहित कई घटनाओं में वह सड़क पर भी उतरे हैं। सोशल मीडिया पर उन्हें काफ़ी लोग पसंद करते हैं और वह बहुजन समाज की राजनीति करने की बात दोहराते हैं। 

Azad samaj party alliance with SP RLD - Satya Hindi

पश्चिमी यूपी की सियासी गणित

राष्ट्रीय लोक दल (आरएलडी) का जहां जाट समुदाय में अच्छा जनाधार है, वहीं आज़ाद समाज पार्टी दलितों में पैठ जमा रही है। इसके अलावा एसपी प्रदेश स्तर की पार्टी है और यहां भी उसके कार्यकर्ता बड़ी संख्या में हैं। एसपी को उत्तर प्रदेश में मुसलमानों का अच्छा समर्थन हासिल है। 

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जाट समुदाय की आबादी 17 फ़ीसदी है जबकि मुसलमानों की 26 फ़ीसदी। इसके अलावा दलितों की भी अच्छी सियासी हैसियत है। इन तीनों का वोट इस संभावित गठबंधन को मिला तो बाक़ी दलों की सियासी नाव का डूबना तय है।

किसान आंदोलन ने बदली तसवीर 

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में एक वक़्त आरएलडी बड़ी ताक़त हुआ करती थी लेकिन 2013 के मुज़फ्फरनगर दंगों के बाद उसका जाट-मुसलिम समीकरण टूट गया क्योंकि हिंदू मतों का ध्रुवीकरण होने के कारण जाट बीजेपी के साथ चले गए और मुसलिम वोट एसपी, बीएसपी और कांग्रेस में बंट गया। लेकिन कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ शुरू हुए किसान आंदोलन को लेकर जब महापंचायतें इस इलाक़े में शुरू हुईं तो एक बार फिर जाट और मुसलिम मतदाता साथ आ गए हैं और यही बीजेपी की मुश्किल की अहम वजह है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

जाट नेताओं का विरोध 

किसान आंदोलन के कारण बीजेपी के जाट नेताओं का अपने ही संसदीय क्षेत्रों में निकलना मुश्किल हो गया है। कई जगहों पर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बीजेपी से जुड़े जाट नेताओं का जबरदस्त विरोध आज भी जारी है। मुज़फ्फरनगर के सांसद और केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान को भी स्थानीय लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा था। 

बीजेपी जानती है कि अगर किसान आंदोलन का कोई हल नहीं निकला तो पश्चिमी उत्तर प्रदेश में उसके उम्मीदवारों को जमानत बचाना मुश्किल हो जाएगा। पंचायत चुनाव के नतीजे बताते हैं कि यहां एसपी-आरएलडी गठबंधन ने उससे कहीं ज़्यादा सीटें झटकी हैं।

बीएसपी-कांग्रेस को भी होगा नुक़सान

इसके अलावा पहली बार चुनाव में उतरी आज़ाद समाज पार्टी को भी कुछ सीटें मिली हैं। ऐसे में किसान आंदोलन के बाद एसपी-आरएलडी और आज़ाद समाज पार्टी का गठबंधन जाट, मुसलिम और दलित मतों में बड़ी सेंध लगा सकता है और इसका सियासी खामियाज़ा सबसे ज़्यादा बीजेपी को होगा। इसके बाद बीएसपी और फिर पस्त पड़ चुकी कांग्रेस भी इसकी चपेट में आएंगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें