loader

तीर्थ क्षेत्र के 84 कोस में दो दिनों तक कार्यक्रम, मौके को भुनाने की कोशिश में बीजेपी

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन के मौके पर जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के 84 कोस में दो दिनों तक तरह-तरह के कार्यक्रम किए जाएंगे। भारतीय जनता पार्टी ने इस मौके को भुनाने की योजना बनाई है। सांसद लल्लू सिंह ने क्षेत्र के 151 तीर्थ स्थलों को चुना है, जहाँ दो दिन तक कार्यक्रम चलते रहेंगे। इस दौरान जप, राम चरित मानस का पाठ, दुर्गा सप्तशती व विष्णु सहस्रनाम का पाठ आयोजित किया जाएगा। 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अयोध्या पहुंचने के साथ ही इन 151 स्थलों पर वैदिक मंत्रोच्चार गूंजने लगेंगे। 84 कोस में स्थित तीर्थ क्षेत्र के लोग अनु्ष्ठान की पूर्णाहुति में शामिल होंगे। यह तीर्थ क्षेत्र अयोध्या सहित चार ज़िलों में फैला हुआ है। 
उत्तर प्रदेश से और खबरें

कहां कहां होंगे कार्यक्रम?

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र 84 कोस में अयोध्या जिले के महबूबगंज स्थित ऋषि ऋंगी आश्रम, नंदीग्राम भरतकुंड, आस्तीक ऋषि आश्रम आस्तीकन, जन्मेजय कुंड सिड़सिड़, च्यवन ऋषि आश्रम राजापुरवा, रमणक ऋषि पंडितपुर, माण्डव्य ऋषि आश्रम बसौढ़ी, गौतम ऋषि रुदौली हैं।
इसके अलावा मां कामख्या भवानी मंदिर सुनबा, गोंडा जिले के वाराह (सूकर क्षेत्र), संत तुलसी दास की जन्मस्थली राजापुर, ऋषि यमदग्नि जमथा, ऋषि अष्टावक्र, रामघाट, ऋषि पाराशर परास गांव, कपिल मुनि आश्रम महंगूपुर, वाराही देवी रगडग़ंज भी इसमें शामिल हैं।
बस्ती ज़िले में पुत्रेष्टि यज्ञ स्थल मखभूमि मखौड़ा, रामरेखा, छावनी में भी अनुष्ठान का आयोजन चार अगस्त को शुरू होगा। इसके बाद 5 पांच अगस्त को सुबह जप और पाठ के बाद साधक, श्रद्धालु हवन में आहुतियां डालेंगे। समापन पर श्रद्धालुओं में सवा लाख पैकेट प्रसाद का वितरण किया जाएगा।  

राम मंदिर आन्दोलन में मोदी की भूमिका?

बजरंग दल के संस्थापक अध्यक्ष व पूर्व सांसद विनय कटियार ने एक बेहद दिलचस्प बात कही है। उन्होंने कहा कि मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री नहीं थे, तब भी मंदिर आंदोलन में भी उन्होंने प्रभावकारी भूमिका निभाई थी। अब उनके हाथों से इसका निर्माण शुरू हो रहा है ।

अब मथुरा-काशी की बारी?

विनय कटियार ने अयोध्या के बाद मथुरा-काशी में मंदिर निर्माण की बात कह कर सबको चौंका दिया है। यह बात उन्होंने ऐसे समय कही है जब स्वयं प्रधानमंत्री मंदिर का शिलान्यास करने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि,

'मैं अयोध्या में राम मंदिर निर्माण होने के बाद काशी व मथुरा के बारे में भी शीर्ष नेतृत्व से विचार करूंगा। उसके लिए लंबा संघर्ष करना पड़ेगा। आसान नहीं है। पर आपसी विचार-विमर्श से ही तय होगा।'


विनय कटियार, संस्थापक अध्यक्ष बजरंग दल

सुरक्षा इंतजाम चाक-चौबंद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अयोध्या दौरे का काउंटडाउन शुरू हो गया है। तैयारियाँ भी अंतिम दौर में हैं। एसपीजी की टीम पहुँच गई है। कार्यक्रम स्थल राम जन्मभूमि परिसर का निरीक्षण एसएसपी व आईजी ने किया है। सुरक्षा को पुख्ता बनाने के लिए एसपीजी वह लोकल पुलिस के बीच समन्वय बनाने के लिए अधिकारियों की बैठक भी हो रही है। 

सुरक्षा कारणों से  3 अगस्त से ही अयोध्या को सील करने की कार्रवाई शुरू हो जाएगी। एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक़, पीएम के कार्यक्रम को लेकर फूलप्रूफ सुरक्षा व्यवस्था बनाई जा रही है।

कोरोना रोकथाम पर भी ध्यान

वहीं कोरोना महामारी से बचाव के लिए कार्यक्रम स्थल के पूरे परिसर को स्पेशल सैनिटाइजिंग टीम से सैनिटाइज करवाया जा रहा है। जिस रास्ते से मोदी को राम जन्मभूमि परिसर व हनुमान गढ़ी जाना है, उसके दोनों तरफ के भवनों को पीले रंग से पेंट करके राम कथा के प्रसंगों के चित्र उकेरे गए हैं।अब अयोध्या पीएम मोदी के स्वागत के लिए तैयार दिख रही है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
वी. एन. दास
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें