loader

यूपी में कोरोना दिशा- निर्देशों का उल्लंघन, हज़ारों ने गंगा में लगाई डुबकी

कोरोना की तीसरी लहर आने की बात कही जा रही है,  लेकिन कोरोना दिशा निर्देशों का उल्लंघन जारी है। ताज़ा घटनाक्रम में उत्तर प्रदेश के हापुड़ स्थित ब्रजघाट में गंगा दशहरा के मौके पर हज़ारों लोगों ने एकत्रित होकर सामूहिक रूप से गंगा में डुबकियाँ लगाईं। उत्तर प्रदेश सरकार ने सार्वजनिक रूप से एकत्रित होने पर प्रतिबंध लगा रखा है। 

हापुड़ के ब्रजघाट पर भारी भीड़ ने गंगा में डुबकी लगाई, उसके एक दिन पहले ही उत्तर प्रदेश सरकार ने लगभग दो महीने बाद कोरोना प्रतिबंधों में छूट देते हुए दुकान-बाज़ार को खोलने की इजाज़त दी थी। 
ख़ास ख़बरें

लेकिन इसके पहले डॉक्टरों और विशेषज्ञों ने सलाह दी थी कि कोरोना प्रतिबंधों में फिलहाल छूट न दी जाए और कोरोना दिशा-निर्देशों का सख़्ती से पालन कराया जाए। विशेषज्ञों ने यह भी चेतावनी दी थी कि कोरोना की तीसरी लहर से इनकार नहीं किया जा सकता है। 

corona guidelines violated in UP, thousands tak dip in ganges - Satya Hindi

हरिद्वार में कुंभ

बता दें कि इसके पहले उत्तराखंड के हरिद्वार में कुंभ मेले का आयोजन हुआ था तो लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाई थी और उसके बाद वहाँ तेजी से कोरोना फैला था। 

कुंभ के दौरान ही 10 से 15 अप्रैल के बीच कुंभ मेले में कोरोना के 2,167 पॉजिटिव मामले सामने आए थे। इनमें अखाड़ों के साधुओं से लेकर मेले में आए आम लोग शामिल हैं। मेले में 12 से 14 अप्रैल तक शाही स्नान चला और इसमें लाखों लोगों की भीड़ जुटी थी। 

महामंडलेश्वर कपिल देव की मौत

मेले में शामिल हुए महामंडलेश्वर कपिल देव की कोरोना से मौत हो गई थी। कपिल देव निर्वाणी अखाड़ा के महामंडलेश्वर थे और मध्य प्रदेश से कुंभ मेले में आए थे। यह पहले संत थी जिनकी कोरोना से मौत हुई थी। 

इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर कुंभ मेला समय से पहले ही ख़त्म कर दिया गया था। 

corona guidelines violated in UP, thousands tak dip in ganges - Satya Hindi

सरकार को चेतावनी

हापुड़ में गंगा स्नान की यह घटना ऐसे समय हुई है जब विशेषज्ञों ने कोरोना की तीसरी लहर की चेतावनी दी है और सरकार ने भी इस आशंका से इनकार नहीं किया है। 

ऑल इंडिया इंस्टीच्यूट ऑफ मेडिकल साइसेंज यानी एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि यह तो आएगी ही। यानी तीसरी लहर को टाला नहीं जा सकता है।उन्होंने तो यह भी कह दिया कि यह 6-8 हफ़्ते में आ सकती है। देश में हर रोज़ क़रीब 60 हज़ार संक्रमण के मामले आ रहे हैं। 

पहले हर रोज़ 4 लाख से भी ज़्यादा मामले आने लगे थे। अब पॉजिटिव केस कम होने के बाद राज्यों में लॉकडाउन में ढील दी जा रही है और लोग घरों से बाहर निकलने लगे हैं। बाज़ारों में बढ़ती भीड़ और कोरोना प्रोटोकॉल की उड़ती धज्जियों के मद्देनज़र दिल्ली हाई कोर्ट ने भी कहा है कि कोरोना प्रोटोकॉल के टूटने से इस महामारी की तीसरी लहर जल्दी आ जाएगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें