loader

यूपी: जानिए, पांचवें चरण के चुनाव की अहम बातें

उत्तर प्रदेश में पाँचवें चरण के लिए मतदान 12 जिलों की 61 सीटों पर है। ये सीटें अवध, बुंदेलखंड और दोआब के इलाक़े में हैं।

इस चरण में इलाहाबाद, अमेठी, बहराइच, बाराबंकी, चित्रकूट, फैजाबाद (अयोध्या), गोंडा, कौशांबी, प्रतापगढ़, रायबरेली, श्रावस्ती और सुल्तानपुर जिलों में वोटिंग हो रही है। पांचवें चरण के चुनाव की अहम बातों के साथ ही 2012 और 2017 के विधानसभा चुनाव के नतीजों पर भी नज़र डालनी होगी। 

2012 के विधानसभा चुनाव में इन 61 सीटों पर बीजेपी को 13.1 फीसद वोट मिले थे और उसने 5 सीटें जीती थी जबकि 2017 के चुनाव में यह वोट फीसद बढ़कर 40.3 हो गया और उसे अपनी सहयोगी अपना दल (सोनेलाल) के साथ 50 सीटों पर जीत मिली थी। इसमें अपना दल (सोनेलाल) की तीन और बीजेपी की 47 सीटें शामिल हैं।

ताज़ा ख़बरें

2017 में हुआ सपा को नुकसान 

सपा को 2012 के विधानसभा चुनाव में इस इलाके में 31 फीसद वोट मिले थे और उसने 41 सीटें जीती थी। लेकिन 2017 में उसे 28.1 फीसद वोट मिले और सीटों का आंकड़ा घटकर 5 रह गया। कांग्रेस को 2012 में 13.1 फीसद वोट मिले थे और उसने 6 सीटें जीती थी। लेकिन 2017 के चुनाव में वह सिर्फ एक सीट पर जीत हासिल कर सकी थी। 2017 में कांग्रेस ने सपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था।

2012 के विधानसभा चुनाव में मायावती की अगुवाई वाली बीएसपी को 25 फीसद वोट मिले थे और उसने 7 सीटें जीती थी जबकि 2017 में उसका वोट फीसद घटकर 21.7 रह गया और उसे सिर्फ़ 3 सीटों पर जीत मिली।

fifth Phase in UP Election 2022 - Satya Hindi

दलित और मुसलिम मतदाता असरदार 

पांचवें चरण के चुनाव में दलित और मुसलिम मतदाता बेहद ताकतवर स्थिति में हैं। मुसलिम मतदाताओं की संख्या 18 फीसद है जबकि दलित मतदाताओं की संख्या 22.5 फीसद है। दलित मतदाताओं में से 30 फीसद जाटव समाज के मतदाता हैं। इसके अलावा पासी और कोईरी मतदाता भी बड़ी संख्या में हैं।

इसके अलावा सवर्ण जातियां और कुर्मी, यादव, मौर्य, शाक्य, कुछ इलाकों में लोध मतदाता, राजभर, निषाद, बघेल, पाल, प्रजापति, कुम्हार जातियों के वोटर भी अच्छी संख्या में हैं।

ये हैं बड़े चेहरे

पांचवें चरण के अगर बड़े चेहरों की बात करें तो उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य कौशांबी जिले की सिराथू सीट से चुनाव मैदान में हैं। मौर्य के सामने अपना दल (कमेरावादी) की उम्मीदवार पल्लवी पटेल चुनाव लड़ रही हैं। पल्लवी पटेल केंद्रीय मंत्री और अपना दल (सोनेलाल) की अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल की बहन हैं। 

fifth Phase in UP Election 2022 - Satya Hindi
इसके अलावा योगी सरकार के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह इलाहाबाद पश्चिम से, राजेंद्र सिंह उर्फ मोती सिंह पट्टी से, नंद गोपाल गुप्ता नंदी इलाहाबाद दक्षिण से, रमापति शास्त्री मनकापुर से, रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया कुंडा से, कांग्रेस विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा मोना रामपुर खास से और अपना दल (कमेरावादी) की नेता कृष्णा पटेल प्रतापगढ़ की सीट से चुनाव मैदान में हैं। 
इस चुनाव में कांग्रेस के गढ़ माने जाने वाले इलाके अमेठी और रायबरेली में भी वोटिंग होनी है। इसके अलावा राम मंदिर आंदोलन के केंद्र रहे अयोध्या जिले में भी मतदान होना है। देखना होगा कि इन जिलों में कांग्रेस और बीजेपी का प्रदर्शन कैसा रहता है।

राम मंदिर निर्माण से उम्मीद 

बीजेपी ने उत्तर प्रदेश का चुनाव प्रचार शुरू होने से पहले ही अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को बड़ा मुद्दा बना लिया था। पार्टी को उम्मीद है कि उसे इससे अयोध्या जिले में सियासी फायदा मिलेगा। 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को अयोध्या में 49.56 फीसद वोट मिले थे। यह आंकड़ा 1991 के विधानसभा चुनाव के बाद सबसे ज्यादा था। 1991 में बीजेपी को यहां 51.3 फीसद वोट मिले थे।

उत्तर प्रदेश से और खबरें
पांचवें चरण के चुनाव में भी बीजेपी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर तमाम बड़े नेताओं को मैदान में उतारा तो सपा की ओर से अखिलेश यादव, बीएसपी के लिए मायावती और कांग्रेस की ओर से पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी चुनाव प्रचार किया।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें