loader

यूपी के लोगों को नौकरी देने से पहले सरकार से लेनी होगी अनुमति

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि यदि कोई दूसरा राज्य उत्तर प्रदेश के लोगों को नौकरी पर रखना चाहता है तो उसे पहले यूपी सरकार से अनुमति लेनी होगी। 
उन्होंने इसका कारण बताते हुए कहा कि दूसरे राज्यों में गए और काम कर रहे उत्तर प्रदेश निवासियों के साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया जाता है और उनकी सुरक्षा की गारंटी नहीं है। उन्होंने कहा, 
उत्तर प्रदेश से और खबरें

‘यदि कोई दूसरा राज्य हमारे मानव संसाधन का इस्तेमाल करना चाहता है तो उन्हें बीमा और सामाजिक सुरक्षा देंगे। पर वे लोग हमारे लोगों को हमारी अनुमति के बग़ैर नहीं रख सकेंगे।’


योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश

कैसे करेगी राज्य सरकार?

लेकिन इस मामले में सबसे बड़ा पेच यह है कि उत्तर प्रदेश सरकार राज्य से बाहर रहने वाले लाखों लोगों की निगरानी कैसे करेगी। वह कैसे यह जान पाएगी कि कौन आदमी कहाँ गया और क्या कर रहा है? लॉकडाउन खत्म होने के बाद लाखों की तादाद में लोग बाहर निकलेंगे और इतनी बड़ी तादाद में लोगों की निगरानी रखना लगभग नामुमिकन है। 
योगी आदित्यनाथ ने इसके साथ ही यह भी कहा कि उन्होंने अधिकारियों से कहा है कि वे एक आयोग का गठन करें जो राज्य के लोगों को प्रदेश में ही रोज़गार दिलवाए।

मुमकिन है?

पर्यवेक्षकों का कहना है कि यह भी नामुमकिन है क्योंकि इस स्थिति में राज्य सरकार को उन लाखों लोगों की नौकरी का इंतजाम करना होगा जो कोरोना की वजह से नौकरी छोड़ कर अपने घर लौट आएंगे। 
पर्यवेक्षकों का कहना है कि राज्य इस स्थिति में नहीं है कि वह लाखों लोगों के लिए रोज़गार के मौके बनाए। इसके साथ ही निजी क्षेत्र में इतना रोज़गार नहीं है और निकट भविष्य में इतनी बड़ी तादाद में नौकरी के अवसर बनने के आसार भी नहीं दिख रहे हैं।

कर्नाटक कनेक्शन?

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की यह बात ऐसे समय आई है जब कुछ राज्यों में थोड़ी बहुत आर्थिक गतिविधियाँ शुरू हो गई हैं और उन्हें कामगारों की ज़रूरत है। कर्नाटक में निर्माण कार्य शुरू हो चुका है और वहां बड़ी तादाद में मज़दूरों की ज़रूरत है।
कुछ दिन पहले जब वहाँ से श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलने की बात उठी थी तो कर्नाटक सरकार ने हस्तक्षेप कर वह ट्रेन कैंसिल करवा दी थी, क्योंकि निर्माण कार्य में जुटी कंपनियों ने उस पर दबाव डाला था कि इन मज़दूरों को न जाने दिया जाए, इनकी अभी ज़रूरत होगी।
पर्यवेक्षकों का कहना है कि योगी आदित्यनाथ का यह बयान शायद कर्नाटक के परिप्रेक्ष्य में है और कर्नाटक सरकार को संकेत देने के लिए दिया गया है।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने यह भी दावा किया है कि लौट रहे प्रवासी मज़दूर दूसरों की तुलना में ज़्यादा तेज़ी से ठीक हो रहे हैं। उन्होंने कहा, 'हम यह अच्छी तरह जानते थे कि बाहर से आ रहे प्रवासी मज़ूदरों में संक्रमण हो सकता है। पर हमने देखा है कि उनका मज़बूत इम्यून सिस्टम है और वे जल्द ठीक हो रहे हैं।' लेकिन उन्होंने इस दावे के पक्ष में कोई आँकड़ा नहीं दिया। 
बता दें कि उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के 6,200 मामले हैं और अब तक 161 लोगों की इससे मौत हो चुकी है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें