loader
फ़ाइल फ़ोटो

ज्ञानवापी मसजिद की कमेटी ने काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट को दी ज़मीन

ज्ञानवापी मसजिद की प्रबंधक कमेटी ने काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट को ज़मीन दी है। यह ज़मीन काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर के प्रोजेक्ट के लिए दी गई है। बदले में प्रबंधक कमेटी को भी ज़मीन मिली है। 

प्रबंधक कमेटी की ओर से दी गई ज़मीन मसजिद से 15 मीटर की दूरी पर है और इसका एरिया 1700 स्क्वायर फ़ीट है। बदले में मसजिद की कमेटी को 1000 स्क्वायर फ़ीट ज़मीन दी गई है। इसका एरिया कम है लेकिन दोनों ज़मीनों की बाज़ार क़ीमत एक ही है। बता दें कि वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर के ठीक बगल में ज्ञानवापी मसजिद स्थित है। 

राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद जब इस मसजिद को लेकर शोर-शराबा शुरू हुआ तो यह चर्चा में आई थी। 

ताज़ा ख़बरें

पट्टे पर दी थी ज़मीन 

मसजिद की प्रबंधक कमेटी के संयुक्त सचिव एसएम यासीन का कहना है कि यह ज़मीन बाबरी मसजिद विध्वंस के बाद पुलिस कंट्रोल रूम बनाने के लिए सुरक्षा के लिहाज से प्रशासन को पट्टे पर दी गई थी। लेकिन अब इस पुलिस कंट्रोल रूम को विश्वनाथ धाम कॉरिडोर के प्रोजेक्ट के लिए गिरा दिया गया है। 

यासीन ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा कि यह ज़मीन उत्तर प्रदेश सुन्नी वक्फ़ बोर्ड की है। लेकिन काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट ने हमसे कुछ साल पहले इस ज़मीन को देने के लिए अनुरोध किया था और अब जाकर 8 जुलाई को इस मामले को फ़ाइनल कर लिया गया है। 

वक़्फ़ बोर्ड के चेयरमैन ज़ुफर फ़ारूक़ी ने कहा है कि ट्रस्ट की ओर से कहा गया था कि उसे काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर के प्रोजेक्ट के लिए इस ज़मीन की ज़रूरत है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के सीईओ सुनील वर्मा ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा है कि इस ज़मीन का मसजिद से कोई लेना-देना नहीं है क्योंकि यह वक़्फ़ की संपत्ति थी इसलिए इसे ख़रीदा नहीं जा सकता था इसलिए हमने ज़मीनों की अदला-बदली कर ली। 

इस साल अप्रैल में एक जिला अदालत ने फ़ैसला सुनाया था कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) को मसजिद का पुरातात्विक सर्वेक्षण करना चाहिए। अदालत ने यह फ़ैसला तीन दशक पुरानी एक याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया था। 

लेकिन यूपी सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड और मसजिद की कमेटी ने इस आदेश को इलाहाबाद हाई कोर्ट में चुनौती दी थी और कहा था कि  पूजा स्थल अधिनियम, 1991 के अनुसार, इसे खारिज कर दिया जाना चाहिए। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें