loader

हाथरस: पीड़िता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में रीढ़ की हड्डी में फ़्रैक्चर, गला दबाने की पुष्टि

हाथरस में सामूहिक बलात्कार के बाद मारी गई दलित युवती की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है। इसमें यह साफ लिखा है कि उसकी रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर था और उसका गला भी दबाया गया। यह रिपोर्ट दिल्ली के सफ़दरजंग अस्पताल द्वारा तैयार की गई है। यहीं पीड़िता ने दम तोड़ा था। 

पीड़िता के परिजनों की ओर से लगातार यह आरोप लगाया जा रहा है कि उनकी बेटी को अभियुक्तों द्वारा जमकर पीटा गया, उसकी गर्दन तोड़ी गयी, कमर की हड्डी में भी चोट थी। इस बात को पीड़िता का इलाज करने वाले डॉक्टर्स ने भी स्वीकार किया था। लेकिन उत्तर प्रदेश की पुलिस इसे मानने के लिए तैयार नहीं है। पुलिस का कहना है कि मेडिकल रिपोर्ट में लड़की के साथ दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई है। 

बुरी तरह से पिटाई के बाद लकवाग्रस्त हो चुकी पीड़िता के शरीर पर आई गंभीर चोटों का भी जिक्र सरकारी मेडिकल रिपोर्ट में नहीं किया गया है। बल्कि महज दुपट्टे से गला कसने का जिक्र किया गया है। 

ताज़ा ख़बरें

अब आई पोस्टमार्टम रिपोर्ट कहती है कि पीड़िता की गर्दन पर चोट के निशान हैं और कई बार उसका गला घोटने की कोशिश की गई। रिपोर्ट में कहा गया है कि इसकी वजह से मौत नहीं हुई है। आगे कहा गया है कि विसरा रिपोर्ट आने के बाद ही चलेगा कि मौत का असली कारण क्या था। अस्पताल की ओर से कहा गया है कि पीड़िता का विसरा सुरक्षित रख लिया गया है और कई अन्य अहम चीजें भी जांच अफ़सर को दे दी गई हैं। इस रिपोर्ट में बलात्कार का जिक्र नहीं किया गया है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने से यह साफ होता है कि वास्तव में अभियुक्तों ने पीड़िता के साथ हैवानियत करने की कोशिश की और उसने ख़ुद को बचाने के लिए संघर्ष किया। इसी दौरान उसके गले में और रीढ़ की हड्डी में भी चोट आई। इससे सवाल खड़ा होता है कि योगी सरकार की पुलिस ने इतनी अहम बातों को छिपाते हुए क्या झूठी रिपोर्ट तैयार कर दी?

पीड़िता के साथ यह घटना तब हुई थी, जब वह खेत में काम करने गई थी। परिजनों ने कहा था कि वह घायल अवस्था में मिली थी, उसके शरीर में कई जगह फ़्रैक्चर थे और जीभ कटी हुई थी। 

हाथरस दलित रेपकांड पर क्या योगी सरकार लीपापोती कर रही है। देखिए, वीडियो- 

सिरे से नकार दिया बलात्कार को 

जबकि पुलिस की ओर से उपलब्ध करायी गयी मेडिकल रिपोर्ट में और खुद आईजी जोन के बयान में बलात्कार को सिरे से नकार दिया गया है। आईजी जोन ने कहा है कि मृतका के साथ मारपीट हुई थी और पहले उन्ही धाराओं में मुकदमा भी दर्ज किया गया था। उनका कहना है कि बाद में मृतका ने छेड़खानी की बात कही तो धाराएं बढ़ायी गयीं। आईजी के मुताबिक़, घटना के कई दिनों के बाद मृतका ने चार लोगों द्वारा बलात्कार करने की बात कही जिसके बाद इन धाराओं को लगाया गया।

‘रात में ही पीड़िता का शव जलाया’

पीड़िता की मौत के बाद पुलिस पीड़िता के शव को लेकर मंगलवार रात को ही हाथरस पहुंच गयी और देर रात ढाई बजे बिना घरवालों की मौजूदगी के अंतिम संस्कार कर डाला। दिल्ली में सफदरजंग अस्पताल के गेट पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं और भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर के साथ शव के लिए धरना दे रहे पीड़िता के घरवालों को पता भी नहीं चला और शव को पुलिस ने हाथरस पहुंचाकर जला दिया। पीड़िता के परिजनों ने बुधवार सुबह आरोप लगाया कि पुलिस ने उनके साथ बर्बरता की और अंतिम बार बेटी का चेहरा तक नहीं देखने दिया।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें