loader

क्या छोटे दलों के साथ गठबंधन है प्रियंका की चुनावी रणनीति?

क्या छोटे दलों के साथ गठबंधन करना ही प्रियंका गाँधी की चुनावी रणनीति है? कम से कम हाल के उनके क़दमों से तो यही लगता है। पिछड़ों में अपनी पैठ रखने वाले महान दल के संस्थापक केशवदेव मौर्य को प्रियंका अपने पाले में ला चुकी हैं। हाल ही में सपा से अलग होकर प्रगतिशील लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी बनाने वाले शिवपाल यादव से बुधवार को प्रियंका ने ख़ुद फ़ोन कर हालचाल जाना। 

उत्तर प्रदेश में कमज़ोर कांग्रेस को बूस्टर डोज़ देने के लिए प्रियंका ने छोटे दलों से बातचीत शुरू की है। प्रियंका की बैठक के समानांतर कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया भी अलग-अलग लोकसभा सीटों के नेताओं, कार्यकर्ताओं के साथ बैठकें कर रहे हैं।

लखनऊ में कांग्रेस दफ़्तर इन दिनों रात भर गुलज़ार है। अमूमन शाम ढलते ही सुनसान हो जाने वाले इस दफ़्तर में दोपहर से शुरू कर तड़के पाँच बजे तक प्रियंका गाँधी की कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ बैठकों का दौर चल रहा है।

इस बीच यूपी का एजेंडा सेट करने के लिए प्रियंका गाँधी विभिन्न सामाजिक कार्यकर्ताओं, कांग्रेस के पिछड़े व दलित नेताओं के साथ अलग से बैठक करेंगी। इसके लिए कांग्रेस के पिछड़े व दलित नेताओं की सूची बनायी गयी है। प्रियंका के आने से ठीक पहले 35 दलित नेताओं की यूपी को लेकर एक टास्क फ़ोर्स भी बना दी गयी है, जो उन्हें सहयोग करेगी। सामाजिक कार्यकर्ताओं से मुलाक़ात कर प्रियंका यूपी के मुद्दे जानेंगी। साथ ही आगे की रणनीति कैसी हो वह इस पर भी विचार करेंगी।

देर रात तक बैठकें, तीन दिन में 28 बैठकें 

बीते तीन दिनों से प्रियंका गाँधी लगातार 28 बैठकें कर हज़ार से ज़्यादा कांग्रेस कार्यकर्ताओं से मुलाक़ात कर चुकी हैं। कांग्रेस की नवनियुक्त महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गाँधी इन दिनों प्रदेश कार्यालय में दिन-रात बैठकर संगठन को जान-समझ रही हैं और पार्टी को मज़बूत करने की रणनीति पर काम कर रही हैं। प्रियंका ने लोकसभा चुनावों तक हर सीट पर ख़ुद जाकर पूरा एक दिन बिताने और रात्रि विश्राम करने की योजना बनायी है।

  • दोपहर से शुरू होने वाली ये बैठकें देर रात तक तो कई बार तड़के पाँच बजे तक चल रही हैं। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि बिना थके प्रियंका हर दिन 16 से 18 घंटे का समय दे रही हैं और सभी की बातें ध्यान से सुन रही हैं।

कांग्रेस नेताओं से भरवा रहे हैं फॉर्म

प्रियंका से मिलने आने वाले कांग्रेस नेताओं से एक फॉर्म भी भरवाया जा रहा है जिसमें उनके बारे में जानकारियों के साथ ही ट्विटर, फ़ेसबुक अकाउंट और वॉट्सऐप का नंबर माँगा जा रहा है। प्रियंका के साथ मौजूद उनकी दिल्ली टीम के लोग उन्हें बैठक शुरू होने से पहले संबंधित लोकसभा क्षेत्र की तमाम जानकारियाँ उपलब्ध करा रहे हैं। इसी जानकारी के आधार पर उन्होंने कई कांग्रेस नेताओं को बगलें झाँकने पर भी मजबूर कर दिया। लखनऊ लोकसभा की बैठक में उन्होंने कमज़ोर संगठन के बारे में ताकीद की तो मोहनलालगंज, उन्नाव की बैठक में गुटबाज़ी ख़त्म कर कांग्रेस के लिए काम करने को कहा।

ग़ौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने यूपी में काम का बँटवारा करते हुए प्रियंका को 42 तो सिंधिया को 38 लोकसभा सीटों की ज़िम्मेदारी सौंपी है।

कांग्रेस नेताओं का कहना है कि प्रियंका, सिंधिया की नज़र उत्तर प्रदेश की 35 लोकसभा सीटों पर है जहाँ 2009 में पार्टी पहले या दूसरे स्थान पर रही थी। इस बार के लोकसभा चुनावों में पार्टी इन्हीं पर ख़ास ध्यान देगी और मज़बूत प्रत्याशी उतारेगी।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें