loader

टिकैत के लखनऊ घेरने के बयान पर बीजेपी का जवाब, बोली- यहां योगी हैं

कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ दिल्ली के बॉर्डर्स पर आंदोलन कर रहे किसानों ने ‘मिशन यूपी-उत्तराखंड’ का एलान किया है। इस मिशन के तहत किसान इन दोनों राज्यों में जाएंगे और बीजेपी को हराने की अपील करेंगे। बता दें कि हाल ही में हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के दौरान भी किसानों ने इन चुनावी राज्यों का दौरा किया था और बीजेपी को वोट न देने की अपील की थी। 

‘मिशन यूपी-उत्तराखंड’ का एलान करने कुछ दिन पहले किसान नेता राकेश टिकैत ख़ुद लखनऊ पहुंचे थे। टिकैत ने यहां कहा था कि अगर उत्तर प्रदेश सरकार ढंग से काम नहीं करेगी तो लखनऊ को भी दिल्ली बनाया जाएगा। उन्होंने कहा था कि जिस तरह दिल्ली के चारों तरफ़ के रास्ते सील हैं, उसी तरह लखनऊ के भी रास्ते सील किए जाएंगे।

ताज़ा ख़बरें
उत्तर प्रदेश में 7 महीने के अंदर विधानसभा चुनाव होने हैं। बीजेपी की पूरी कोशिश राज्य की सत्ता में फिर से लौटने की है लेकिन वह जानती है कि दिल्ली के बॉर्डर्स पर चल रहा किसानों का आंदोलन उसकी इस कोशिश में अड़ंगा लगा सकता है। 
पश्चिमी उत्तर प्रदेश में इस आंदोलन का ख़ासा असर है और किसानों ने एलान किया है कि वे पूरे उत्तर प्रदेश में जाकर बैठकें करेंगे और निश्चित रूप से यह बीजेपी के लिए बड़ा ख़तरा है।

बहरहाल, टिकैत ने दिल्ली की तरह लखनऊ को भी घेरने का एलान किया तो लग रहा था कि उत्तर प्रदेश बीजेपी इसका जवाब देगी। उसने जवाब दिया भी लेकिन ट्विटर पर एक कार्टून जारी करके। 

कार्टून में राकेश टिकैत जैसा दिख रहा एक शख़्स हाथ में गदा लिए जा रहा है, जिस पर किसान आंदोलन लिखा हुआ है। वह एक शख़्स को बालों से पकड़कर घसीट रहा है, इस शख़्स की कमीज पर दिल्ली लिखा हुआ है। 

लेकिन इस प्रतीकात्मक राकेश टिकैत के सामने एक मुच्छड़ शख़्स खड़ा है जिसके कपड़ों पर लिखा है- बाहुबली। बाहुबली पश्चिमी उत्तर प्रदेश की स्थानीय भाषा में प्रतीकात्मक राकेश टिकैत से जो कहता है उसका हिंदी में मतलब यह है- “सुना है तुम लखनऊ जा रहे हो, कुछ पंगा मत ले लेना भाई, योगी बैठा हुआ है, वह खाल खींच लेता है और पोस्टर भी लगवा देता है।” 

Kisan andolan and mission UP uttarakhand - Satya Hindi
फ़ोटो क्रेडिट- @BJP4UP

इतना कहने के बाद प्रतीकात्मक राकेश टिकैत को यह सोचते हुए दिखाया गया है कि एक भगवाधारी शख़्स उसकी टोपी गिराने के बाद उसे बाल खींचकर ले जा रहा है। इस कार्टून के जरिये बीजेपी ने एक तरह से राकेश टिकैत को चेताया है कि लखनऊ को घेरने की कोशिश मत करना। 

इसे लेकर ट्विटर पर ढेर सारी प्रतिक्रियाएं भी दोनों तरफ़ से आई हैं। मतलब बीजेपी वालों का कहना है कि योगी से पंगा मत लेना राकेश टिकैत जबकि दूसरी तरफ़ के लोगों का कहना है कि योगी आदित्यनाथ क्या किसानों के साथ क्या इस तरह का व्यवहार करेंगे। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

मुश्किल हैं हालात 

बीजेपी जानती है कि 2022 की शुरुआत में जिन पांच राज्यों में चुनाव हैं, उन्हें जीतना बेहद ज़रूरी है। अगर वह जीत गई तो 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए बड़ी मनोवैज्ञानिक बढ़त हासिल कर लेगी लेकिन अगर नतीजे उल्टे रहे तो 2024 में दिल्ली की सत्ता से उसकी विदाई हो सकती है। 

Kisan andolan and mission UP uttarakhand - Satya Hindi
इन राज्यों में भी उत्तर प्रदेश की बड़ी सियासी अहमियत है क्योंकि 80 लोकसभा सीटों वाले इस राज्य से बीजेपी को पिछले दो लोकसभा चुनाव में जबरदस्त बढ़त मिली है। 
हाल ही में हुए मोदी कैबिनेट के विस्तार में उत्तर प्रदेश को खासी अहमियत दी गई थी। विस्तार में दलितों-पिछड़ों पर खासा ध्यान दिया गया था। उत्तर प्रदेश से 7 नए मंत्री बनाए गए थे।

गले की फांस बना आंदोलन  

लेकिन किसान आंदोलन बीजेपी के लिए उत्तर प्रदेश में गले की फांस बन गया है। विपक्षी सांसदों ने 19 जुलाई से शुरू हुए मानसून सत्र में पेगासस जासूसी मामले के अलावा इस मुद्दे को भी जोर-शोर से उठाया है और किसान भी संसद के बगल में स्थित जंतर-मंतर पर अपनी संसद चला रहे हैं। किसानों ने 5 सितंबर को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुज़फ्फरनगर में राष्ट्रीय महापंचायत भी रखी है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें