loader

जेल में बंद बेटे पर सवाल से अजय मिश्रा क्यों बौखलाए, पत्रकारों को गाली दी?

केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी जेल में बंद अपने बेटे पर एक सवाल से आज बौखला गए। उन्होंने पत्रकारों को गाली दी। उन्होंने कह दिया- 'कैमरा बंद कर बे'। उनकी यह बौखलाहट तब आई है जब उनको मंत्रिमंडल से बर्खास्त किए जाने का लगातार दबाव बढ़ता जा रहा है। यूपी के लखीमपुर खीरी में उनके बेटे पर किसानों को गाड़ी से रौंदने का आरोप है। इसकी जाँच के लिए गठित एसआईटी ने कहा है कि किसानों की हत्या सोची-समझी साज़िश है। इसके बाद से संसद में अजय मिश्रा को मंत्री पद से बर्खास्त करने के लिए लगातार हंगामा हो रहा है। 

ऐसे ही दबाव के बीच केंद्रीय गृह राज्य मंत्री का अब एक वीडियो सामने आया है जिसमें वह मीडियाकर्मियों पर भड़कते नज़र आ रहे हैं। वीडियो में अजय मिश्रा को झपटते और मीडिया को गालियाँ देते हुए दिखाई दे रहे हैं।

ताज़ा ख़बरें

एक पत्रकार द्वारा उनके बेटे आशीष मिश्रा के ख़िलाफ़ एसआईटी के इन नए आरोपों के बारे में पूछे जाने पर मंत्री ने चिल्लाते हुए कहा, 'ये बेवकूफी भरे सवाल मत पूछो। दिमाग खराब है क्या बे?' मिश्रा एक रिपोर्टर पर झपटते हुए और उनका माइक छीनते हुए भी दिखाई देते हैं। वह कहते हैं, 'माइक बंद करो बे।'

वीडियो में उनको एक जगह एक अपशब्द कहते सुना जा सकता है। वह पत्रकारों को 'चोर' कहते हैं। यह घटना उस समय हुई जब मंत्री लखीमपुर खीरी में एक ऑक्सीजन संयंत्र का उद्घाटन कर रहे थे।

मंत्री कल ही अपने बेटे आशीष मिश्रा से मिलने जेल में गए थे। आशीष लखीमपुर खीरी में किसानों की हत्या मामले में जेल में बंद है। यह वह मामला है जिसमें 3 अक्टूबर को 4 किसानों सहित 8 लोगों की मौत हो गई थी। 

आरोप है कि तीन गाड़ियों के एक काफिले ने प्रदर्शन करने वाले किसानों को रौंद दिया था। इसमें अजय मिश्रा की एक महिंद्रा थार भी शामिल थी। आरोप सीधे तौर पर मंत्री के बेटे आशीष पर लगा कि उसने कथित तौर पर गाड़ी चढ़ाई।

अब इसी मामले में एक दिन पहले यानी मंगलवार को विशेष जांच दल की रिपोर्ट आई है। इसमें कहा गया है कि 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी में किसानों की हत्या एक सोची-समझी साजिश थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि किसानों को कथित तौर पर आशीष मिश्रा द्वारा संचालित एक एसयूवी द्वारा 'हत्या करने के इरादे से' कुचल दिया गया था और यह 'लापरवाही से मौत नहीं' थी।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

इसने यह भी सिफारिश की कि आशीष मिश्रा और अन्य के ख़िलाफ़ तेज गति से गाड़ी चलाने के आरोपों को संशोधित किया जाए और हत्या के प्रयास के आरोप और मनमर्जी से चोट पहुंचाने का आरोप जोड़ा जाए। आशीष मिश्रा और अन्य पहले से ही हत्या और साज़िश के आरोपों का सामना कर रहे हैं।

इस पूरे मामले में मोदी सरकार पर विपक्षी दलों के नेताओं की ओर से काफ़ी दबाव है कि वे अजय मिश्रा को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करें। संसद में भी इस पर हंगामा मचा है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा है, 'हम चाहते हैं कि मंत्री इस्तीफ़ा दें लेकिन पीएम तैयार नहीं हैं। जिस तरह से सरकार को कृषि क़ानूनों को वापस लेने के लिए मजबूर किया गया था, वह मंत्री को बर्खास्त करने के लिए मजबूर हो जाएगी।'

ख़ास ख़बरें
बता दें कि अब तक बीजेपी ने मिश्रा को हटाने से इनकार कर दिया है और जोर देकर कहा है कि उनके बेटे ने जो कुछ भी किया उसके लिए उन्हें ज़िम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। हालाँकि विपक्षी दल अजय मिश्रा पर अपने बेटे का बचाव करने का आरोप लगाते रहे हैं। अजय मिश्रा शुरू से कहते आ रहे हैं कि उनका बेटा घटनास्थल पर मौजूद नहीं था। लेकिन कई किसानों ने दावा किया था कि उन्होंने उनके बेटे को उस गाड़ी में देखा था जिसने किसानों को कुचला। इसके अलावा उस घटना से पहले उनके एक बयान पर भी आपत्ति की जा रही है जो उन्होंने उस घटना से कुछ दिन पहले दिया था। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें