loader
ब्लड सैम्पल की किट को चबाता बंदर।

मेरठ: कोरोना मरीजों के ब्लड सैम्पल्स ले भागे बंदर; ऐसे लड़ी जा रही है महामारी से लड़ाई

'यह कोरोना टेस्ट के सैम्पल नहीं थे बल्कि कोरोना संक्रमित मरीजों के रुटीन ब्लड चेकअप वाले सैम्पल थे और ऐसी कोई स्टडी नहीं आई है जिसमें बंदरों में कोरोना फैलने की बात सामने आई हो।'

ये दोनों बयान इस पत्रकार के नहीं हैं बल्कि मेरठ स्थित लाला लाजपत राय मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल के हैं। किसी पत्रकार को इतने बड़े डॉक्टर/प्रोफेसर/प्रिंसिपल के शब्दों या बयान का खंडन करने का अधिकार तो नहीं लेकिन सवाल उठाने का लोकतांत्रिक अधिकार ज़रूर है। आगे बढ़ने से पहले आपको मामला क्या है, ये बता देते हैं।

ताज़ा ख़बरें

शुक्रवार को मेरठ स्थित मेडिकल कॉलेज परिसर में बंदरों का एक समूह तीन रोगियों के ब्लड सैम्पल छीन कर भाग गया। एक स्वास्थ्यकर्मी ये ब्लड सैम्पल जांच के लिए परिसर में ही स्थित बायोकैमिस्ट्री लैब में लेकर जा रहा था। अब आप इस ख़बर की शुरुआत में लिखे गए पहले कथन को एक बार फिर पढ़ लीजिए। 

लाल लाजपत राय मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल एस.के.गर्ग का कहना है कि ये कोरोना टेस्ट के सैम्पल नहीं थे बल्कि उन मरीजों के रुटीन ब्लड चेकअप वाले सैम्पल थे। भले ही ये सैम्पल कोरोना के परीक्षण के लिए नहीं थे लेकिन कोरोना के उन रोगियों के थे जिनका वहां इलाज चल रहा है। 

गौरतलब है कि मेरठ में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए लाला लाजपत राय मेडिकल कॉलेज ही अकेला संस्थान है, जिसमें मेरठ जोन के कई जिलों के रोगी भर्ती हैं। यहां कोरोना के अलावा बाक़ी सभी तरह के उपचार और ओपीडी बंद हैं। ऐसे में क्या रक्त में कोरोना संक्रमण से इनकार किया जा सकता है। फिर लापरवाही को छिपाने और अपनी जिम्मेदारी से बचने के लिए यह कहना कहाँ तक जायज है कि ये सैम्पल कोरोना के टेस्ट के नहीं बल्कि रुटीन जांच के थे।

वायरल वीडियो से सामने आई घटना

यह मामला सामने भी नहीं आता, अगर वहां मौजूद एक शख्स ने इस घटना का अपने मोबाइल से वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर शेयर न किया होता। इस वीडियो में पेड़ पर बैठे बंदर टेस्टिंग किट चबाते नजर आ रहे थे और मेडिकल कॉलेज परिसर भी दिख रहा था। वीडियो वायरल हुआ तो मीडियाकर्मी ख़बर के सत्यापन के लिए मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल के पास पहुंच गए। उन्होंने यह तो स्वीकार किया कि मामला मेडिकल कॉलेज का ही है लेकिन उन्होंने अपनी जिम्मेदारी से बचने की पूरी कोशिश की। 

इसी क्रम में उन्होंने एक सवाल के जवाब में यह भी कहा कि ऐसी कोई स्टडी नहीं आई है जिसमें बंदरों में कोरोना फैलने की बात सामने आई हो। प्रिंसिपल साहब के इस कथन के विषय में तो विशेषज्ञ ही बता सकते हैं कि क्या सही है और क्या गलत। लेकिन सामान्य ज्ञान की बात यही है कि मनुष्य का पूर्वज है बंदर और अधिकांश परीक्षण मनुष्य पर प्रयोग करने से पूर्व बंदरों पर ही किए जाते रहे हैं, इसलिए यह कहना हास्यास्पद या गैर जिम्मेदाराना ही कहा जाएगा कि चमगादड़ से मनुष्य तक पहुंचे वायरस की बंदरों में होने की अभी कोई स्टडी नहीं आई है। 

मेडिकल कॉलेज परिसर में लंबे समय से बंदरों का आतंक है। आए दिन बंदरों के समूह वार्डों में घुसकर उत्पात मचाते देखे जाते हैं। मरीजों के बेड पर बंदरों का बैठ जाना आम घटना है। मरीजों के साथ आए तीमारदारों से खाने-पीने का सामान झपट्टा मारकर ले जाना भी आम बात है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
अगर किसी के हाथ में कोई हैंडबैग हो तो बंदर उसे छीन कर भाग जाते हैं। अगर कोई विरोध करे तो न केवल गुर्रा कर धमकाते हैं बल्कि हमला कर काट लेते हैं। ऐसे में सवाल यह उठता है कि मेडिकल कॉलेज परिसर को बंदरों से मुक्त कराने की पहल अब तक वहां के प्रशासन ने क्यों नहीं की। हालांकि इस घटना के बाद आनन-फानन में प्रिंसिपल गर्ग के निर्देश पर लाला लाजपत राय चिकित्सालय के प्रमुख अधीक्षक ने मेरठ के नगर आयुक्त को आज ही एक पत्र लिखकर मेडिकल कॉलेज परिसर से बंदरों को पकड़वाने की व्यवस्था सुनिश्चित करने का आग्रह किया है।
कोरोना महामारी के दौर में मेडिकल कॉलेज की एक के बाद एक अव्यवस्थाएं सामने आ रही हैं। स्वास्थ्यकर्मियों की लापरवाही, कुप्रबंधन और मरीजों से दुर्व्यवहार के आरोपों की वजह से शासन ने कुछ दिन पहले ही पूर्व प्रिंसिपल आर.सी. गुप्ता को निलंबित कर दिया था।

बंदरों का तकनीशियन के हाथ से ब्लड सैम्पल्स को किट सहित छीन कर ले जाना भी लापरवाही की गंभीर घटना है जिससे पता चलता है कि मेडिकल कॉलेज और चिकित्सालय का प्रशासन घोर लापरवाह है और अब भी सिर्फ अपना बचाव करने और कागजी खानापूर्ति में लगा है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
हरि शंकर जोशी
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें