loader

ख़बरदार! बीजेपी नेताओं को झंडे लगाने से रोका तो

पुलवामा शहीदों की शहादत के बीच बीजेपी के कार्यकर्ताओं को उनकी पार्टी का झंडा लगाने से रोकने वाले उदय त्यागी को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया है। उदय ने शनिवार को बिजनौर के चाँदपुर की श्री राम कालोनी में बीजेपी के अभियान ‘मेरा परिवार, बीजेपी परिवार’ के तहत झंडा लगा रहे बीजेपी के कार्यकर्ताओं को रोका था। 

उदय त्यागी कांग्रेस पार्टी के छात्र संगठन एनएसयूआई की बिजनौर इकाई के जिलाध्यक्ष हैं। उदय त्यागी का बीजेपी के नेता को झंडे लगाने से रोकने का वीडियो सोशल मीडिया में ख़ासा वायरल हो गया है। कई वरिष्ठ पत्रकारों, आम जनता और नेताओं ने त्यागी का साथ देते हुए कहा कि उसने जो कहा और जो किया, दोनों सही था। लेकिन शायद उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को यह रास नहीं आया कि कैसे कोई शख़्स उनकी पार्टी के झंडे को लगने से रोक सकता है। 
NSUI bijnor president uday tyagi arrested after bjp complaint - Satya Hindi
राहुल गाँधी के साथ उदय त्यागी।
आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने उदय के समर्थन में लिखा कि क्या बीजेपी के शासन में शहीदों की बात उठाने पर भी लोगों को जेल भेज दिया जाएगा। 
NSUI bijnor president uday tyagi arrested after bjp complaint - Satya Hindi
चर्चित शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने भी उदय का समर्थन करते हुए लिखा कि शाबास त्यागी जी के बेटे, आप जैसे लोग ही लोकतंत्र के असली रखवाले हैं। 
NSUI bijnor president uday tyagi arrested after bjp complaint - Satya Hindi
कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर कहा कि एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष व कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट कर उन पर झूठे मुकदमे दर्ज करवा कर जेल भेजने की वह कड़ी निंदा करते हैं। 
NSUI bijnor president uday tyagi arrested after bjp complaint - Satya Hindi
आदेश रावल नाम के ट्विटर यूजर ने लिखा कि त्यागी जी के लड़के को जेल से बाहर निकालो। 
NSUI bijnor president uday tyagi arrested after bjp complaint - Satya Hindi
वीडियो वायरल होने के बाद बीजेपी के स्थानीय नेताओं ने उदय के ख़िलाफ़ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। इसे सत्ता की हनक ही कहा जाएगा कि योगी सरकार की पुलिस ने उदय की बात को समझे बिना आनन-फानन में उसे गिरफ़्तार कर लिया। 
वायरल वीडियो में झंडा लगाने वाले बीजेपी कार्यकर्ता से उदय त्यागी कहते हैं, हमारे सैनिक सरहद पर शहीद हो रहे हैं और तुम्हें अपनी पार्टी के प्रचार की पड़ी है। त्यागी ने बीजेपी के नेता को साफ़ कहा कि शहादत के समय में झंडे बिल्कुल लगने नहीं दिए जाएँगे। वीडियो में उदय त्यागी हाथ जोड़कर झंडे हटाने की विनती करता है लेकिन बीजेपी नेता उसकी बात नहीं मानते। वरिष्ठ पत्रकार विनोद कापड़ी ने भी इस वीडियो को ट्वीट किया है। 
थोड़ी देर में ही बीजेपी के कई और नेता वहाँ आ गए और त्यागी की बात को समझने के बजाय उससे भिड़ गए। बीजेपी नेताओं ने उसे खुलकर धमकाया कि वह वहाँ से चले जाए, वरना सही नहीं होगा।

मामले में बीजेपी नेता नीरज शर्मा ने कहा, ‘हम शनिवार को चाँदपुर में अपनी पार्टी के झंडे लगा रहे थे, तभी एक आदमी ने हमें ऐसा करने से रोक दिया। उसने हमारे साथ बदतमीजी की और हमारी पार्टी के झंडों को फाड़ दिया। इसके बाद हमने पुलिस में शिकायत दी।’ 

मामले में चाँदपुर के एसएचओ सतेंद्र कुमार ने कहा कि पुलिस ने बदतमीजी करने और क़ानून व्यवस्था को बिगाड़ने के आरोप में उदय त्यागी को गिरफ़्तार कर लिया है। त्यागी के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 427 और 352 के तहत मुक़दमा दर्ज कर लिया गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें