loader

राम मंदिर निर्माण: पीएम मोदी ने रखी नींव, बोले- सबका विकास ज़रूरी

अयोध्या में भूमि पूजन का कार्यक्रम जोरदार तैयारियों के बीच बुधवार को संपन्न हो गया। भूमि पूजन कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर की नींव रखी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सुबह लगभग 11.30 बजे दिल्ली से पहले लखनऊ और फिर अयोध्या पहुंचे।  प्रधानमंत्री के पहुंचने से पहले पूरे इलाक़े को खाली करा लिया गया था। इसके बाद प्रधानमंत्री हनुमानगढ़ी पहुंचे। जहां उन्होंने मंदिर की परिक्रमा करने के बाद पूजा की। 

हनुमानगढ़ी में पूजा के बाद मोदी राम जन्मभूमि परिसर पहुंचे और रामलला की पूजा की। राम जन्मभूमि परिसर में मोदी ने पारिजात का पौधा भी लगाया और इसके बाद भूमि पूजन का कार्यक्रम शुरू हुआ। भूमि पूजन के दौरान चले अनुष्ठान में 9 शिलाओं की पूजा की गई और वैदिक मंत्रोच्चार के जरिये धार्मिक कार्यक्रमों को संपन्न कराया गया। 

ताज़ा ख़बरें

‘कई पीढ़ियों ने किया अथक प्रयास’

कार्यक्रम में मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वर्षों से टाट के नीचे रह रहे रामलला के लिए अब एक भव्य मंदिर का निर्माण होगा। स्वतंत्रता आंदोलन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इसके लिए सैकड़ों लोगों ने बलिदान दिया, उसी तरह राम मंदिर के लिए कई पीढ़ियों ने अथक प्रयास किया है। उन्होंने कहा कि राम मंदिर के लिए चले आंदोलन में अर्पण से लेकर तर्पण तक और संकल्प भी था।

PM Modi laid foundation of Ram Mandir nirman  - Satya Hindi
भूमि पूजन में मौजूद पीएम मोदी व अन्य लोग।

राम सर्किट का जिक्र

मोदी ने कहा, ‘राम सबके हैं, राम सबमें हैं। यह मंदिर भारतीय संस्कृति की विरासत का द्योतक होगा। यह मंदिर अनंतकाल तक मानवता को प्रेरणा देगा। राम मंदिर का संदेश कैसे पूरे विश्व का निरंतर पहुंचे, यह हमारी वर्तमान और भावी पीढ़ियों की जिम्मेदारी है। जहां-जहां भगवान राम के चरण पड़े, वहां राम सर्किट बनाया जा रहा है।’ 

‘राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा’

उन्होंने कहा कि देश भर के धामों और मंदिरों से लाई गई मिट्टी और नदियों का पवित्र जल यहां की शक्ति बन गया है और ऐसा न तो पहले कभी हुआ है और न कभी होगा। मोदी ने कहा कि राम मंदिर राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा। उन्होंने कहा कि राम की सर्वव्यापकता भारत की विविधता में एकता का प्रतीक है और राम ने सामाजिक समरसता को अपने शासन की आधारशिला बनाया था।

मोदी ने कहा, ‘हमें सभी की भावनाओं का ध्यान रखना है। हमें सबके साथ से, सबके विश्वास से, सबका विकास करना है। हमें अपने संकल्प और परिश्रम से आत्मनिर्भर भारत का निर्माण करना है।’

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने संबोधन में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कारण 5 शताब्दियों का यह संकल्प पूरा हो सका है। संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि मंदिर निर्माण के लिए लोगों को दायित्व दे दिए गए हैं और अब उन्हें यह काम करना है। उन्होंने कहा कि आज भारत को वैभवशाली बनाने के काम की शुरुआत हो गई है। 

श्री राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ने कहा कि करोड़ों लोगों की इच्छा है कि यहां दिव्य-भव्य मंदिर का जल्द से जल्द निर्माण होना चाहिए। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

कोरोना के चलते एहतियात

कोरोना वायरस संक्रमण की आशंकाओं के बीच कार्यक्रम के लिए विशिष्ट व दूसरे आमंत्रित लोगों की सूची छोटी रखी गई थी। क़रीब पौने दो सौ लोगों को आमंत्रित किया गया था। पूरे इलाके को कई बार सैनिटाइज किया गया था और सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मास्क पहनना भी अनिवार्य किया गया था। 

ये सावधानियां इसलिए बरती गईं क्योंकि हाल ही में मंदिर के पुजारी सहित 14 पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। इस कार्यक्रम में गृह मंत्री अमित शाह को भी शामिल होना था लेकिन उनके कोरोना संक्रमित होने के कारण वे ऐसा नहीं कर सके। 

मंदिर आंदोलन का प्रमुख चेहरा रहे बीजेपी के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी ने वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से भूमि पूजन कार्यक्रम को देखा। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें