loader

ताज महल-कुतुब मीनार हिंदुओं को सौंपे केंद्र सरकार : प्रमोद कृष्णम

ज्ञानवापी मस्जिद और ताज महल को लेकर चल रहे तमाम विवादों के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद कृष्णम ने बड़ा बयान दिया है। प्रमोद कृष्णम ने कहा है कि ताज महल और कुतुब मीनार पर कोई विषय है तो वह मामला भारत सरकार के अधीन है क्योंकि यह किसी धर्म के हाथ में नहीं है।

उन्होंने कहा कि भारत सरकार को चाहिए कि ताज महल और कुतुब मीनार हिंदुओं को सौंप दे और यह विषय भारत सरकार का ही है। उन्होंने कहा कि वह राष्ट्र और देश के साथ खड़े हैं। 

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद और ताजमहल के 22 बंद कमरों को खुलवाने को लेकर अदालतों में चल रहे विवाद के बीच पहली बार कांग्रेस के किसी बड़े नेता ने इस मामले में अपनी चुप्पी तोड़ी है।  

ताज़ा ख़बरें

कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के राजनीतिक सलाहकार के रूप में पहचाने जाने वाले प्रमोद कृष्णम ने इन विवादों को लेकर कहा है कि जहां तक इतिहास की बात है वहां पर प्रत्यक्ष को प्रमाण की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि ये विषय भारत की भावनाओं से जुड़े विषय हैं लेकिन न्यायालय में विचाराधीन हैं।

उन्होंने कहा कि भारत भावनाओं का देश है लेकिन यहां पर संवैधानिक व्यवस्था होने के कारण न्यायपालिका के आदेश को सभी को मानना चाहिए।

इस दौरान उनके साथ हरियाणा से कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दीपेंद्र हुड्डा भी मौजूद थे।

कुतुब मीनार पर विवाद

बता दें कि बीते कुछ दिनों में दिल्ली में स्थित कुतुब मीनार को विष्णु स्तंभ घोषित करने की मांग जोर शोर से उठी है और कुछ दिन पहले एक हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं ने कुतुब मीनार के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ किया था जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया था।

कांग्रेस से सवाल?

अब सवाल यह खड़ा होता है कि प्रमोद कृष्णम का यह स्टैंड क्या कांग्रेस का स्टैंड है क्योंकि प्रमोद कृष्णम उत्तर प्रदेश कांग्रेस के बड़े चेहरे हैं इसलिए क्या पार्टी उनके इस बयान का खंडन करेगी या इस पर कोई सफाई देगी। ट्विटर पर कई लोगों ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से पूछा भी है कि क्या यह कांग्रेस का स्टैंड है। 

उत्तर प्रदेश से और खबरें

निश्चित रूप से कांग्रेस के सामने प्रमोद कृष्णम के इस बयान के बाद अच्छी-खासी मुश्किल खड़ी हो सकती है।

बता दें कि ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे के दौरान हिंदू पक्ष की ओर से शिवलिंग मिलने का दावा किया गया है जिसे मुसलिम पक्ष ने फव्वारा बताया है। इसे लेकर भी जोरदार चर्चाएं लोगों के बीच चल रही हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें