loader

कांग्रेस को रायबरेली में झटका, विधायक अदिति सिंह बीजेपी में 

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के पहले कांग्रेस को राज्य में एक झटका लगा है। सोनिया गांधी के निर्वाचन क्षेत्र रायबरेली की कांग्रेस नेता अदिति सिंह ने पार्टी छोड़ दी है और बीजेपी में शामिल हो गई हैं। वे रायबरेली सदर से विधायक हैं। 

अदिति सिंह के बीजेपी में शामिल होने का महत्व इससे समझा जा सकता है  कि उनके पिता अखिलेश सिंह रायबरेली सदर से ही पाँच बार विधायक चुने गए थे और वह गांधी परिवार के बेहद करीब माने जाते थे। स्वयं अदिति सिंह प्रियंका गांधी की नज़दीक समझी जाती थीं। 

मुख्य मंत्री योग आदित्यनाथ से 2019 में मुलाक़ात के बाद अदिति सिंह गांधी परिवार से दूर होने लगी थीं, पर वह पार्टी में बनी हुई थीं। 

raebareli congress leader aditi singh quits congress, joins bjp - Satya Hindi

कांग्रेस की आलोचना

लेकिन वह बीच बीच में कांग्रेस की आलोचना करती रहती थीं और उन्होंने कई बार केंद्रीय नेतृत्व पर भी सवाल उठाया था। उन्होंने कृषि क़ानूनों पर पार्टी की नीति व फैसले के ख़िलाफ थीं। उन्होंने कृषि क़ानूनों का विरोध करने को लेकर महासचिव प्रियंका गांधी की भी आलोचना की थी। 

अदिति सिंह ने कहा, 

जब कृषि क़ानून संसद में पेश किए गए थे तो प्रियंका गांधी को उससे विरोध था, अब जब इन क़ानूनों को वापस लिया गया है तो भी उन्हें समस्या है। आखिर वे चाहती क्या हैं? वे सिर्फ मुद्दे का राजनीतिकरण कर रही हैं, उनके पास मुद्दे बचे नहीं हैं।


अदिति सिंह, विधायक, रायबरेली सदर

उन्होंने  लखीमपुर खीरी की वारदात के मुद्दे पर भी प्रियंका गांधी की आलोचना कर दी। अदिति सिंह ने कहा कि लखीमपुर खीरी में मामले की जाँच चल रही है, सुप्रीम कोर्ट ने इसका संज्ञान लिया है, यदि प्रियंका गांधी संस्थानों पर यकीन नहीं करेंगी तो किस पर यकीन करेंगी? 
ख़ास ख़बरें
पर्यवेक्षकों का कहना है कि कांग्रेस पार्टी से मनमुटाव और दूरी की वजहों से अदिति सिंह असुरक्षित महसूस कर रही थीं। कुछ महीने बाद ही राज्य में विधानसभा चुनाव हैं। ऐसे में वह अपनी राजनीतिक स्थिति मजबूत करने और चुनाव जीतने के मकसद से बीजेपी में शामिल हो गई हैं। बीजेपी में जाने से उन्हें कम से कम टिकट तो मिल ही जाएगा और वह चुनाव में प्रासंगिक बनी रहेंगी।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें