loader

राम मंदिर निर्माण: मसजिद विध्वंस के मुख्य अभियुक्तों को न्यौता नहीं, रोष

बाबरी मसजिद विध्वंस के मुक़दमे में अभियुक्तों की सूची में पहला नाम तत्कालीन यूपी शिवसेना के अध्यक्ष पवन पांडे का है जबकि आडवाणी, जोशी सहित अन्य का नाम साज़िश रचने वालों में है। पवन पांडे यूपी में पहली और अब तक आखिरी बार शिवसेना के टिकट से जीतने वाले विधायक रहे हैं। आज भी पांडे के अंबेडकरनगर जिले में स्थित आवास पर बाबरी मसजिद के अवशेष किसी प्रतीक चिन्ह की तरह रखे हुए हैं। 

राम मंदिर निर्माण के लिए होने वाले भूमि पूजन कार्यक्रम में उन्हें बुलाया तक नहीं गया है। बाबरी मसजिद विध्वंस के अन्य प्रमुख आरोपियों- संतोष दुबे और गांधी यादव को भी पूछा तक नहीं गया है। पांडे के साथ ये सब भी ढांचा गिराने के आरोपी हैं और मुक़दमे का सामना कर रहे हैं। 

दरअसल, 90 के दशक में ये सभी राम मंदिर आंदोलन के प्रमुख चेहरे थे और कारसेवा के दौरान अयोध्या में मौजूद थे। अदालत में इन सभी ने ढांचा गिराने में अपनी भूमिका को नकारा नहीं बल्कि इस पर गर्व जताते हुए स्वीकार किया है।

हस्ताक्षर अभियान चलाएंगे 

राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के इस रवैये से आहत पवन पांडे ने 5 अगस्त को अंबेडकर नगर में अपने गांव में ही रहकर पूजा-पाठ करने का फ़ैसला किया है। ट्रस्ट की ओर से हो रही अनदेखी और अपने मन मुताबिक़ मंदिर न बनने को लेकर इन सभी ने अब हस्ताक्षर अभियान चलाने का फ़ैसला किया है।

'ट्रस्ट में राजनीति हावी'  

बाबरी मसजिद विध्वंस के अभियुक्तों का कहना है कि ट्रस्ट में राजनीति हावी है। सदस्यों के चयन से लेकर मंदिर का मॉडल तैयार करने तक में और यहां तक कि पत्थरों के चयन में भी मनमानी की गयी है। वो कहते हैं पहले न्यौता दिए जाने वालों की सूची में उनका नाम था पर बाद में किसी दबाव में उसे उड़ा दिया गया। मंदिर के निर्माण के लिए डस्ट स्टोन के चयन पर भी आपत्ति जताते हुए कहते हैं कि इसका क्षेत्रफल भी छोटा रखा गया है।

ट्रस्ट की ओर से न बुलाने के फ़ैसले से आहत पवन पांडे ने इस पर सवाल उठाते हुए कहा है कि सदस्यों के चयन से लेकर मंदिर के निर्माण की परिकल्पना तक में मनमानी की गयी है।

‘हमें अपने किए पर गर्व है’

राम मंदिर आंदोलन के प्रणेता महंत रामचंद्र दास परमहंस को याद करते हुए वो कहते हैं कि उन्होंने मंदिर निर्माण के लिए शिलादान कार्यक्रम चलाया था और आज भी ये शिलाएं अयोध्या के सरकारी मालखाने में जमा हैं। कम से कम ट्रस्ट को महंत जी का सम्मान करते हुए उन शिलाओं का उपयोग करना चाहिए। 

पवन ने बातचीत में कहा, ‘मैंने, संतोष दुबे और गांधी यादव ने अन्य अभियुक्तों की तरह अदालत में मुकरने का काम नहीं किया बल्कि अपने किए को स्वीकार किया है। हमें अपने किए पर गर्व है।’

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

पवन का कहना है, ‘अदालत में हमने कहा था कि बाबर आक्रांता था जिसने मंदिर पर कब्जा कर वहां मसजिद बना दी थी। अब तो देश की सबसे बड़ी अदालत ने इसे मान लिया है और मंदिर की जमीन राम लला को लौटा दी है। इसका मतलब साफ है कि हमारा कहना सही था और हमने तो अपनी ज़मीन से अवैध कब्जे को हटाया था।’ 

पवन ने कहा, ‘आज बीजेपी की नजर में हम कारसेवक लोग असामाजिक तत्व हो गए हैं और हमें मंदिर निर्माण से दूर रखा जा रहा है। जिन लोगों ने अदालत में कहा कि बाबरी मसजिद की गुम्बद उनके सामने गिरायी गयी, उन्हें ही मंदिर के भूमि पूजन से दूर रखा जा रहा है।’

राजनैतिक करियर दांव पर लगाया 

मंदिर आंदोलन के समय 1992 में शिवसेना यूपी के अध्यक्ष रहे पवन पांडे इस पार्टी के प्रदेश में पहले विधायक बने थे। उनका कहना है कि बाबरी मसजिद विध्वंस के आरोप में उन्हें 16-17 बार जेल जाना पड़ा था। पवन ने कहा, ‘हम लोगों में से छह ने अपनी स्वीकारोक्ति के साथ अदालत में बयान दिया और उनमें से एक अभी भी जेल में है। हमें न तो ट्रस्ट में जगह दी गयी और न ही भूमि पूजन में बुलाने लायक समझा जा रहा है।’ 

पवन का कहना है कि बाबरी मसजिद के गिरने के बाद से उन्हें वनवास काटना पड़ा है। यहां तक कि बीजेपी में भी उनकी कोई जगह नहीं रही है और आज वो किसी भी राजनैतिक दल में नहीं हैं।

हस्ताक्षर अभियान शुरू 

मंदिर आंदोलन के इन प्रमुख किरदारों का कहना है कि भूमि पूजन के दिन यानी 5 अगस्त को वे अपने घरों पर रहकर पूजा-पाठ करेंगे और राम को याद करेंगे। पवन पांडे कहते हैं कि उन लोगों ने जनता के बीच 11 सूत्री मांगों को लेकर हस्ताक्षर अभियान शुरू किया है। इसमें मंदिर को बड़े भू-भाग में बनाना, संगमरमर के पत्थरों का इस्तेमाल करना और महंत रामचंद्र दास परमहंस की दी हुई शिलाओं को मंदिर निर्माण में प्रयोग लाने जैसी कई मांगें शामिल हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें