loader

बंगाल में ‘खेला होबे’ की तर्ज पर यूपी में सपा का ‘खदेड़ा होइबे’ 

उत्तर प्रदेश में फिर से सरकार बनाने के लिए बेकरार समाजवादी पार्टी ने ‘खदेड़ा होइबे’ नाम से चुनावी गीत लॉन्च किया है। पार्टी को शायद उम्मीद है कि जिस तरह पश्चिम बंगाल में ‘खेला होबे’ का नारा ख़ूब चला, उसी की तर्ज पर उत्तर प्रदेश में भी ‘खदेड़ा होइबे’ का नारा धूम मचा सकता है। इसलिए ‘खदेड़ा होइबे’ शीर्षक से चुनावी गीत लॉन्च किया गया है।

इस गीत में कहा गया है कि समाजवादी पार्टी के वोटरों का इस बार चुनाव में रेला होगा और बीजेपी मुंह के बल गिरेगी। गीत में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी की जीत होने की बात कही गई है। 

गीत में अखिलेश यादव की रैलियों में होने वाली भीड़ और सपा के कार्यकर्ताओं को पार्टी के झंडे लहराते हुए दिखाया गया है। 

पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में जीत के लिए बीजेपी ने पूरा जोर लगाया था। लेकिन उसके तमाम बड़े नेताओं की रैलियां और भारी-भरकम प्रचार टीएमसी के ‘खेला होबे’ के नारे के आगे फीका पड़ गया था। तब इस नारे की बंगाल के बाहर भी जमकर गूंज हुई थी। माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में समाजवादी पार्टी भी ‘खदेड़ा होइबे’ के नारे को जमकर प्रचारित करेगी। 
ताज़ा ख़बरें

अखिलेश यादव प्रदेश भर में "समाजवादी विजय यात्रा" निकाल रहे हैं। अखिलेश ने कहा है कि 2022 में उत्तर प्रदेश में बदलाव होना तय है। उन्होंने कहा है कि महंगाई और बेरोज़गारी से जनता बुरी तरह त्रस्त है। 

बीजेपी-एसपी के बीच होगा मुक़ाबला 

उत्तर प्रदेश के चुनाव में जो सूरत बनती दिख रही है, उसमें ये साफ है कि चुनाव में बीजेपी का सीधा मुक़ाबला समाजवादी पार्टी की अगुवाई वाले गठबंधन से होने जा रहा है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

ABP-C Voter का सर्वे भी इस बात को दिखाता है कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी को अखिलेश यादव से कड़ी चुनौती मिलेगी। सर्वे के मुताबिक़, 403 सीटों वाली उत्तर प्रदेश की विधानसभा में बीजेपी और उसके सहयोगी दलों को 213-221 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है जबकि 2017 में यह आंकड़ा 325 था। एसपी गठबंधन को 152 से 160 जबकि बीएसपी को 16 से 20, कांग्रेस को 6 से 10 और अन्य को 2 से 6 मिलने की बात कही गई है। 

गठबंधन बना रहे अखिलेश 

अखिलेश यादव तमाम छोटे दलों को जोड़कर एक मजबूत गठबंधन बनाने में जुटे हैं। बता दें कि अखिलेश यादव ने राष्ट्रीय लोकदल, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) और महान दल के साथ गठबंधन फ़ाइनल कर लिया है और अब ये दल मिलकर 2022 का चुनाव लड़ेंगे। आम आदमी पार्टी के साथ भी उनका गठबंधन फ़ाइनल होने वाला है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें