loader

किसानों की मांगें नहीं मानी गई तो ये सरकार दोबारा सत्ता में नहीं आएगी: मलिक

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने एक बार फिर केंद्र सरकार और बीजेपी को किसान आंदोलन को लेकर चेताया है। मलिक ने केंद्र सरकार से अपील की है कि वह आंदोलनकारी किसानों की मांगों को मान ले। उन्होंने कहा है कि अगर किसानों की मांगें नहीं मानी गईं तो ये सरकार दोबारा सत्ता में नहीं आएगी। मलिक राजस्थान के झुंझुनू में पत्रकारों से बात कर रहे थे।  

राज्यपाल ने कहा, “किसानों के साथ ज़्यादती हो रही है, वे 10 महीने से धरने पर हैं, सरकार को उनकी सुनवाई करनी चाहिए, मैं किसानों के साथ हूं, उनके लिए मैं प्रधानमंत्री, गृह मंत्री से झगड़ा कर चुका हूं।” 

मलिक ने मोदी सरकार को चेताते हुए कहा, “सरकारों का मिजाज थोड़ा आसमान में हो जाता है, उन्हें दिखता नहीं है कि लोगों की तकलीफ़ कितनी है। लेकिन वक़्त आता है तो सरकार को देखना भी पड़ता है, सुनना भी पड़ता है।” 

मलिक ने कहा कि बीजेपी का कोई नेता उत्तर प्रदेश के मेरठ, बाग़पत, मुज़फ्फरनगर के किसी गांव में घुस तक नहीं सकता।

उन्होंने कहा, “लोग तब तक नहीं समझते जब तक पूरा सत्यानाश न हो जाए।” मलिक ने कहा कि कुछ लोग केंद्र सरकार को ग़लत सलाह दे रहे हैं। 

मेघालय के राज्यपाल ने कहा कि वे मध्यस्थता करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि सरकार एमएसपी की गारंटी दे दे, वे तीनों क़ानूनों के मामले में किसानों को मना लेंगे।

ताज़ा ख़बरें

मलिक ने इससे पहले भी बीजेपी और केंद्र सरकार को चेताया था। इस साल मार्च में उन्होंने कहा था कि अगर सरकार का यही रूख़ रहेगा तो बहुत बड़ा सियासी नुक़सान हो जाएगा। उन्होंने कहा था कि हम पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान को खो देंगे लेकिन अगर हम समझदारी से काम करेंगे तो इन जगहों के लोग हमारे साथ ही रहेंगे। 

दिल्ली के बॉर्डर्स पर चल रहे किसानों के आंदोलन को 11 महीने पूरे होने वाले हैं।  इस साल जनवरी से अब तक किसानों और सरकार के बीच बातचीत तक नहीं हुई है और ऐसे में मामला सुलझने के बजाय उलझता जा रहा है।

मलिक की बातों को हल्के में नहीं लिया जा सकता। वह ख़ुद किसान आंदोलन से खासे प्रभावित पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मेरठ से आते हैं और सियासत में भी लंबा वक़्त गुजार चुके हैं। निश्चित रूप से मलिक पश्चिमी उत्तर प्रदेश की सियासी नब्ज़ को बेहतर ढंग से समझते हैं।
मलिक का यह कहना कि “बीजेपी का कोई नेता मेरठ, बाग़पत, मुज़फ्फरनगर के किसी गांव में घुस तक नहीं सकता”, यह बात काफी हद तक सही है। क्योंकि हमने देखा है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हालात ये हैं कि बीजेपी के नेताओं का उनके गांवों में ही जबरदस्त विरोध हो रहा है। केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान का कई बार मुज़फ्फरनगर में विरोध हो चुका है। 
उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

मुसीबत बना किसान आंदोलन 

कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ चल रहा किसान आंदोलन बीजेपी और मोदी सरकार के लिए आफत बन गया है। किसान नेता उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में ‘मिशन यूपी-उत्तराखंड’ चलाने का एलान कर चुके हैं। उन्होंने बंगाल में भी बीजेपी के ख़िलाफ़ वोट देने की अपील वहां के लोगों से की थी। 

सुनने को तैयार नहीं सरकार 

लखीमपुर खीरी की घटना के बाद किसान बुरी तरह भड़के हुए हैं। विपक्ष भी बीजेपी और मोदी सरकार पर हमलावर है। लेकिन मलिक जैसे समझदार नेता के बार-बार समझाने के बाद भी केंद्र सरकार और बीजेपी न तो उनकी और न ही किसानों की बात सुनने के लिए तैयार है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें